BackBack
-11%

Piramidon Ki Tahon Mein

Suman Keshari

Rs. 395 Rs. 352

सुमन केशरी का काव्य संसार विस्तृत है। यह विस्तार क्षैतिज भी है और उर्ध्वाधर भी। वे ग़म-ए-दौराँ तक भी जाती हैं और ग़म-ए-जाना तक भी। वह भौतिक संसार के चराचर दु:खों की शिनाख़्त के लिए मिथकों से स्वप्नों तक भटकती हैं, तो आत्मा के आयतन के विस्तार के लिए रोज़-ब-रोज़... Read More

Description

सुमन केशरी का काव्य संसार विस्तृत है। यह विस्तार क्षैतिज भी है और उर्ध्वाधर भी। वे ग़म-ए-दौराँ तक भी जाती हैं और ग़म-ए-जाना तक भी। वह भौतिक संसार के चराचर दु:खों की शिनाख़्त के लिए मिथकों से स्वप्नों तक भटकती हैं, तो आत्मा के आयतन के विस्तार के लिए रोज़-ब-रोज़ की जद्दोजेहद में भी मुब्तिला होती हैं। लगभग तीन दशकों के अपने सक्रिय जीवन में उन्होंने लगातार अपने समय और समाज की हलचलों को उनकी जटिल विडम्बनाओं के साथ दर्ज करने का प्रयास तो किया ही है, साथ ही एक स्त्री के लिए, जो साझा और अलग अभिधार्थ हो सकते हैं, उन्हें बहुत स्पष्ट तौर पर अभिलक्षित भी किया है। पिरामिड की तहों के घुप्प अँधेरों में ‘जहाँ नहीं हैं एक बूँद जल भी तर्पण को’ रोशनी के क़तरे तलाशकर मनुष्यता के लिए जीवन-रस संचित करने की अपनी इस कोशिश में परम्परा के साथ उनका सम्बन्ध द्वंद्वात्मक है। एक ओर गहरा अनुराग तो दूसरी ओर एक सतत असन्तोष।
‘शब्द और सपने’ जैसी कविता में सुमन केशरी का चिन्ताओं का सबसे सघनित रूप दृष्टिगत होता है। छोटे-छोटे नौ खंडों में बँटी यह लम्बी कविता अपने पूरे वितान में पाठक के मन में भय ही नहीं पैदा करती, बल्कि समकालीन वर्तमान का एक ऐसा दृश्य निर्मित करती हैं जहाँ इसके शिल्प में अन्तर्विन्यस्त बेचैनी पाठक की आत्मा तक उतरकर मुक्ति की चाह और उसके लिए मनुष्यता के आख़िरी बचे चिन्हों को बचा लेने का अदम्य संकल्प भी भरती है।
स्त्री उनके काव्य-जगत का अभिन्न हिस्सा है। ‘माँ की आँखों के जल में तिरने' की कामना के साथ, अपने जीवन में मुक्ति और संघर्ष करती, स्वप्नों से यथार्थ के बीच निरन्तर आवाजाही करती, ‘किरणों का सिरा थाम लेने’ का स्वप्न देखती वह यह भी जानती है कि 'चोंच के स्पर्श बिना घर नहीं बनता’ और यह भी कि ‘औरत ही घर बनाती है/पर जब भी बात होती है घर की/तो वह हमेशा मर्द का ही होता है।’ इस स्त्री के संवेदना जगत में मनुष्यों के साथ-साथ प्रकृति भी है तो मातृहीन बिलौटे और अजन्मे बच्चे भी।
जीवन के हर सफे़ पर लिखे ‘असम्भव' से टकराती और ‘घर की तरह घर में रहने' ही नहीं ‘संगीनों के साए तले प्रेम करने की अदम्य जिजीविषा से भरी सुमन केशरी की ये कविताएँ समकालीन कविता के रुक्ष वातावरण में मिथक, लोक और स्वप्न का एक भव्य वातायन ही सृजित नहीं करतीं अपितु प्रेम, करुणा और औदार्य के मानवीय जीवन-मूल्यों पर आधारित एक समन्वयवादी वितान भी रचती हैं जिसमें भविष्य के स्वप्न देखे जा सकें। ‘पिरामिडों की तहों में’ में संकलित कविताएँ अनिवार्यतः हिन्दी कविता के पाठक के संवेदनाजगत को और निर्मल करेंगी तथा असहनीय होते जा रहे इस दौर में मनुष्य बने रहने के लिए आवश्यक मानवीय चेतना का संचार भी करेंगी।
—अशोक कुमार पांडेय Suman keshri ka kavya sansar vistrit hai. Ye vistar kshaitij bhi hai aur urdhvadhar bhi. Ve gam-e-dauran tak bhi jati hain aur gam-e-jana tak bhi. Vah bhautik sansar ke charachar du:khon ki shinakht ke liye mithkon se svapnon tak bhatakti hain, to aatma ke aaytan ke vistar ke liye roz-ba-roz ki jaddojehad mein bhi mubtila hoti hain. Lagbhag tin dashkon ke apne sakriy jivan mein unhonne lagatar apne samay aur samaj ki halachlon ko unki jatil vidambnaon ke saath darj karne ka pryas to kiya hi hai, saath hi ek stri ke liye, jo sajha aur alag abhidharth ho sakte hain, unhen bahut spasht taur par abhilakshit bhi kiya hai. Piramid ki tahon ke ghupp andheron mein ‘jahan nahin hain ek bund jal bhi tarpan ko’ roshni ke qatre talashkar manushyta ke liye jivan-ras sanchit karne ki apni is koshish mein parampra ke saath unka sambandh dvandvatmak hai. Ek or gahra anurag to dusri or ek satat asantosh. ‘shabd aur sapne’ jaisi kavita mein suman keshri ka chintaon ka sabse saghnit rup drishtigat hota hai. Chhote-chhote nau khandon mein banti ye lambi kavita apne pure vitan mein pathak ke man mein bhay hi nahin paida karti, balki samkalin vartman ka ek aisa drishya nirmit karti hain jahan iske shilp mein antarvinyast bechaini pathak ki aatma tak utarkar mukti ki chah aur uske liye manushyta ke aakhiri bache chinhon ko bacha lene ka adamya sankalp bhi bharti hai.
Stri unke kavya-jagat ka abhinn hissa hai. ‘man ki aankhon ke jal mein tirne ki kamna ke saath, apne jivan mein mukti aur sangharsh karti, svapnon se yatharth ke bich nirantar aavajahi karti, ‘kirnon ka sira tham lene’ ka svapn dekhti vah ye bhi janti hai ki chonch ke sparsh bina ghar nahin banta’ aur ye bhi ki ‘aurat hi ghar banati hai/par jab bhi baat hoti hai ghar ki/to vah hamesha mard ka hi hota hai. ’ is stri ke sanvedna jagat mein manushyon ke sath-sath prkriti bhi hai to matrihin bilaute aur ajanme bachche bhi.
Jivan ke har saphe par likhe ‘asambhav se takrati aur ‘ghar ki tarah ghar mein rahne hi nahin ‘sanginon ke saye tale prem karne ki adamya jijivisha se bhari suman keshri ki ye kavitayen samkalin kavita ke ruksh vatavran mein mithak, lok aur svapn ka ek bhavya vatayan hi srijit nahin kartin apitu prem, karuna aur audarya ke manviy jivan-mulyon par aadharit ek samanvayvadi vitan bhi rachti hain jismen bhavishya ke svapn dekhe ja saken. ‘piramidon ki tahon men’ mein sanklit kavitayen anivaryatः hindi kavita ke pathak ke sanvednajgat ko aur nirmal karengi tatha asahniy hote ja rahe is daur mein manushya bane rahne ke liye aavashyak manviy chetna ka sanchar bhi karengi.
—ashok kumar pandey