Look Inside
Phir Kabhi Aana
Phir Kabhi Aana
Phir Kabhi Aana
Phir Kabhi Aana

Phir Kabhi Aana

Regular price Rs. 326
Sale price Rs. 326 Regular price Rs. 350
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Phir Kabhi Aana

Phir Kabhi Aana

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

ओड़िया के वरिष्ठ कवि सीताकान्त महापात्र का यह संग्रह मृत्यु के विरुद्ध जीवन की हठ और प्रकृति में निबद्ध जीवन की अलग-अलग सम्भावनाओं का आख्यान है। जीवन के मौन क्षणों को भाषा में अंकित करते हुए वे इन कविताओं में जिस तरह जिजीविषा की नि:शब्द बोली को स्वर देते हैं वह अद्भुत है। चाहे यमराज से दोस्ताना बातें करते हुए उन्हें फिर कभी आने के लिए कहना हो या पृथिवीवासी वृक्षविरोधी यमदूतों को सम्बोधित वृक्ष-संहिता की कविताओं में बिंधा वृक्षालाप, और संग्रह की अन्य कविताएँ, सीताकान्त जी मनुष्य और प्रकृति से बने समवेत लोक की उत्तरजीविता की कामना को मंत्र की तरह जपते हैं।
“कल नहीं रहूँगा मैं/कुआँ-कुआँ का स्वर सुनाई दे रहा होगा/नन्ही मुस्कान होगी उसकी/फूल होंगे, मधुमक्खियाँ होंगी/ईश्वर उस बच्चे की मुस्कान देख तब भी आशान्वित होंगे।”
मरण के ऊपर जीवन की सम्भावनाओं को धन की तरह संचित करती ये पंक्तियाँ एक बड़े कवि की ओर से अपने आगे आनेवाले समय को शुभ आमंत्रण की तरह प्रकट होती हैं। एक अन्य कविता में वे कहते हैं :
“कितनी ख़ुशी से/इन्तिज़ार करती है लॉन की घास/दो नन्हे पैरों को चूमने का/फूलों के गमले गिर जाने का/तरह-तरह के रंग पहचाने जाने के लिए/रंग-बिरंगी दवा की गोलियाँ/पन्नी की क़ैद से मुक्त हो बाहर आने को।”
लेकिन धरती के जीवन को किसी परालोक का उपहार वे नहीं मानते। मनुष्य की संघर्ष-शक्ति और अपनी दुनिया आप सिरजने, बचाने और बढ़ाने की उद्दाम इच्छा को वे दैवी शक्ति से स्वतंत्र एक सत्ता के रूप में रेखांकित करते हैं, और जिस तरह यम को वापस जाने के लिए कहते हैं उसी तरह देवताओं को भी सुना देते हैं कि हमारे उद्धार के लिए नहीं, आप अवतार लेकर आते हैं, तो अपनी किसी परेशानी के कारण आते होंगे।
“स्वर्ग की चकाचौंध से चौंधियाकर/दीर्घ तनु, दिव्य रूप देवता गण/उससे अधीर हो भाग आते हैं हमारे बीच/धरातल के अँधेरे में/...दो, उन्हें अपना साथी बनने दो।” Odiya ke varishth kavi sitakant mahapatr ka ye sangrah mrityu ke viruddh jivan ki hath aur prkriti mein nibaddh jivan ki alag-alag sambhavnaon ka aakhyan hai. Jivan ke maun kshnon ko bhasha mein ankit karte hue ve in kavitaon mein jis tarah jijivisha ki ni:shabd boli ko svar dete hain vah adbhut hai. Chahe yamraj se dostana baten karte hue unhen phir kabhi aane ke liye kahna ho ya prithivivasi vrikshavirodhi yamduton ko sambodhit vriksh-sanhita ki kavitaon mein bindha vrikshalap, aur sangrah ki anya kavitayen, sitakant ji manushya aur prkriti se bane samvet lok ki uttarjivita ki kamna ko mantr ki tarah japte hain. “kal nahin rahunga main/kuan-kuan ka svar sunai de raha hoga/nanhi muskan hogi uski/phul honge, madhumakkhiyan hongi/iishvar us bachche ki muskan dekh tab bhi aashanvit honge. ”
Maran ke uupar jivan ki sambhavnaon ko dhan ki tarah sanchit karti ye panktiyan ek bade kavi ki or se apne aage aanevale samay ko shubh aamantran ki tarah prkat hoti hain. Ek anya kavita mein ve kahte hain :
“kitni khushi se/intizar karti hai laun ki ghas/do nanhe pairon ko chumne ka/phulon ke gamle gir jane ka/tarah-tarah ke rang pahchane jane ke liye/rang-birangi dava ki goliyan/panni ki qaid se mukt ho bahar aane ko. ”
Lekin dharti ke jivan ko kisi paralok ka uphar ve nahin mante. Manushya ki sangharsh-shakti aur apni duniya aap sirajne, bachane aur badhane ki uddam ichchha ko ve daivi shakti se svtantr ek satta ke rup mein rekhankit karte hain, aur jis tarah yam ko vapas jane ke liye kahte hain usi tarah devtaon ko bhi suna dete hain ki hamare uddhar ke liye nahin, aap avtar lekar aate hain, to apni kisi pareshani ke karan aate honge.
“svarg ki chakachaundh se chaundhiyakar/dirgh tanu, divya rup devta gan/usse adhir ho bhag aate hain hamare bich/dharatal ke andhere men/. . . Do, unhen apna sathi banne do. ”

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products