BackBack
-11%

Patthar Par Doob

Sunder Chand Thakur

Rs. 395 Rs. 352

सुपरिचित युवा कवि और पत्रकार सुन्दर चन्द ठाकुर का यह पहला उपन्यास ‘पत्थर पर दूब’ ऊपरी तौर पर पहाड़ की सुन्दरता और निश्छलता से निकलकर मैदानी कठोरताओं और संघर्षों की ओर जानेवाला कथानक लग सकता है, लेकिन अपनी गहराई में उसका ताना-बाना तीन स्तरों पर बुना हुआ है। इन स्तरों... Read More

Description

सुपरिचित युवा कवि और पत्रकार सुन्दर चन्द ठाकुर का यह पहला उपन्यास ‘पत्थर पर दूब’ ऊपरी तौर पर पहाड़ की सुन्दरता और निश्छलता से निकलकर मैदानी कठोरताओं और संघर्षों की ओर जानेवाला कथानक लग सकता है, लेकिन अपनी गहराई में उसका ताना-बाना तीन स्तरों पर बुना हुआ है। इन स्तरों पर तीन समय, तीन पृष्ठभूमियाँ और तीन घटनाक्रम परस्पर आवाजाही करते हैं। कथा साहित्य में फ़्लैशबैक का उपयोग एक पुरानी और परिचित प्रविधि है, लेकिन ‘पत्थर पर दूब’ में इस तकनीक का इस्तेमाल इतने नए ढंग से हुआ है कि तीनों समय एक ही वर्तमान में सक्रिय होते हैं। कुमाऊँ के एक गाँव से निकलकर फ़ौज में गए नौजवान विक्रम के जीवन का सफ़र अगर एक तरफ़ उसके आन्तरिक द्वन्द्वों और ऊहापोहों को चिह्नित करता है तो दूसरी तरफ़ उसमें फ़ौजी तंत्र में निहित गिरावट की चीरफाड़ भी विश्वसनीय तरीक़े से मिलती है।
सुन्दर चन्द ठाकुर ने इस कथानक को मुम्बई पर हुए आतंकी हमलों से निपटने के लिए की गई कमांडो कार्रवाई से जोड़कर एक समकालीन शक्ल दे दी है। घर-परिवार से विच्छिन्न होता हुआ और पिता और प्रेमिका को खो चुका यह नौजवान कमांडो जिस जाँबाजी का प्रदर्शन करता है, उसके फल से भी वह वंचित रहता है। इसके बावजूद वह किसी त्रासदी का नायक नहीं है, बल्कि हमारे युग का एक ऐसा प्रतिनिधि है जो एक सफ़र और एक अध्याय के पूरा होने पर किसी ऐसी जगह और ऐसे धुँधलके में खड़ा है जहाँ से उसे आगे जाना है और अगली यात्रा करनी है जिसका गन्तव्य भले ही साफ़ न दिखाई दे रहा हो।
सुन्दर चन्द ठाकुर इससे पहले अपने दो कविता-संग्रहों—‘किसी रंग की छाया’ और ‘एक दुनिया है असंख्य’—से एक महत्त्वपूर्ण कवि के रूप में अपनी पहचान बना चुके हैं। उनकी कई कहानियाँ भी चर्चित हुई हैं और अब उनका पहला उपन्यास उनकी रचनात्मक प्रतिभा और सामर्थ्य के एक उत्कृष्ट नमूने के रूप में सामने है।
किसी रचना का पठनीय होना कोई अनिवार्य गुण नहीं होता, लेकिन अगर अच्छे साहित्य में पाठक को बाँधने और अपने साथ ले चलने की क्षमता भी हो तो उसकी उत्कृष्टता बढ़ जाती है। ‘पत्थर पर दूब’ के शिल्प में पहाड़ी नदियों जैसा प्रवाह है जिसमें पाठक बहने लगता है और भाषा में ऐसी पारदर्शिता है कि कथावृत्त में घटित होनेवाले दृश्य दिखने लगते हैं। उपन्यास जीवन की कथा के साथ-साथ मनुष्य के मन और मस्तिष्क की कथा भी कहता है और इस लिहाज़ से ‘पत्थर पर दूब’ एक उल्लेखनीय कृति बन पड़ी है।
—मंगलेश डबराल Suparichit yuva kavi aur patrkar sundar chand thakur ka ye pahla upanyas ‘patthar par dub’ uupri taur par pahad ki sundarta aur nishchhalta se nikalkar maidani kathortaon aur sangharshon ki or janevala kathanak lag sakta hai, lekin apni gahrai mein uska tana-bana tin stron par buna hua hai. In stron par tin samay, tin prishthbhumiyan aur tin ghatnakram paraspar aavajahi karte hain. Katha sahitya mein flaishbaik ka upyog ek purani aur parichit prvidhi hai, lekin ‘patthar par dub’ mein is taknik ka istemal itne ne dhang se hua hai ki tinon samay ek hi vartman mein sakriy hote hain. Kumaun ke ek ganv se nikalkar fauj mein ge naujvan vikram ke jivan ka safar agar ek taraf uske aantrik dvandvon aur uuhapohon ko chihnit karta hai to dusri taraf usmen fauji tantr mein nihit giravat ki chirphad bhi vishvasniy tariqe se milti hai. Sundar chand thakur ne is kathanak ko mumbii par hue aatanki hamlon se nipatne ke liye ki gai kamando karrvai se jodkar ek samkalin shakl de di hai. Ghar-parivar se vichchhinn hota hua aur pita aur premika ko kho chuka ye naujvan kamando jis janbaji ka prdarshan karta hai, uske phal se bhi vah vanchit rahta hai. Iske bavjud vah kisi trasdi ka nayak nahin hai, balki hamare yug ka ek aisa pratinidhi hai jo ek safar aur ek adhyay ke pura hone par kisi aisi jagah aur aise dhundhalake mein khada hai jahan se use aage jana hai aur agli yatra karni hai jiska gantavya bhale hi saaf na dikhai de raha ho.
Sundar chand thakur isse pahle apne do kavita-sangrhon—‘kisi rang ki chhaya’ aur ‘ek duniya hai asankhya’—se ek mahattvpurn kavi ke rup mein apni pahchan bana chuke hain. Unki kai kahaniyan bhi charchit hui hain aur ab unka pahla upanyas unki rachnatmak pratibha aur samarthya ke ek utkrisht namune ke rup mein samne hai.
Kisi rachna ka pathniy hona koi anivarya gun nahin hota, lekin agar achchhe sahitya mein pathak ko bandhane aur apne saath le chalne ki kshamta bhi ho to uski utkrishtta badh jati hai. ‘patthar par dub’ ke shilp mein pahadi nadiyon jaisa prvah hai jismen pathak bahne lagta hai aur bhasha mein aisi pardarshita hai ki kathavritt mein ghatit honevale drishya dikhne lagte hain. Upanyas jivan ki katha ke sath-sath manushya ke man aur mastishk ki katha bhi kahta hai aur is lihaz se ‘patthar par dub’ ek ullekhniy kriti ban padi hai.
—manglesh dabral