Patriyan

Regular price Rs. 367
Sale price Rs. 367 Regular price Rs. 395
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Patriyan

Patriyan

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

स्वातंत्र्योत्तर भारत में उभरता नया मध्यवर्ग भीष्म साहनी के कथाकार को लगातार आकर्षित करता रहा। शहरी टापुओं पर भटकते इस नए यात्री की सीमाओं और विडम्बनाओं को उन्होंने कहीं थोड़ी तुर्शी, तो कहीं गहरी हमदर्दी के साथ रेखांकित किया, और मध्यवर्ग के रूप में बसती हुई नई नागरिकता को वृहत्त मानवीय परिप्रेक्ष्य के भूत-भविष्य के सामने रखकर बार-बार जाँचा-परखा भी।
वर्ष 1973 में प्रकाशित इस कहानी-संग्रह की चौदह कहानियों में से कई उनकी इस विशेषता की साक्षी हैं, लेकिन संग्रह की सबसे चर्चित कहानी 'अमृतसर आ गया है...’ की पृष्ठभूमि थोड़ी अलग है। आज़ादी के साथ आई विभाजन की विभीषिका यहाँ फिर अपनी तीव्रता के साथ उपस्थित है। यह कहानी बताती है कि ज़मीन का वह बँटवारा कितनी कड़वाहट के साथ लोगों के दिलों में उतरा, लेकिन फिर भी उन महीन सूत्रों को निस्तेज नहीं कर पाया जो अपनी ज़मीनों से उखड़ने के बाद भी लोगों की साँसों में बसे थे।
शीर्षक कथा 'पटरियाँ’ एक मध्यवर्गीय युवक की कहानी है जिसके रहन-सहन को देखकर रसोइया भी उससे ठीक व्यवहार नहीं करता, लेकिन फिर जब उसका जीवन पटरी पर आने लगता है तो उसके सपने भी जुड़ाने लगते हैं।
पठनीय, स्मरणीय, संग्रहणीय कहानियाँ। Svatantryottar bharat mein ubharta naya madhyvarg bhishm sahni ke kathakar ko lagatar aakarshit karta raha. Shahri tapuon par bhatakte is ne yatri ki simaon aur vidambnaon ko unhonne kahin thodi turshi, to kahin gahri hamdardi ke saath rekhankit kiya, aur madhyvarg ke rup mein basti hui nai nagarikta ko vrihatt manviy pariprekshya ke bhut-bhavishya ke samne rakhkar bar-bar jancha-parkha bhi. Varsh 1973 mein prkashit is kahani-sangrah ki chaudah kahaniyon mein se kai unki is visheshta ki sakshi hain, lekin sangrah ki sabse charchit kahani amritsar aa gaya hai. . . ’ ki prishthbhumi thodi alag hai. Aazadi ke saath aai vibhajan ki vibhishika yahan phir apni tivrta ke saath upasthit hai. Ye kahani batati hai ki zamin ka vah bantvara kitni kadvahat ke saath logon ke dilon mein utra, lekin phir bhi un mahin sutron ko nistej nahin kar paya jo apni zaminon se ukhadne ke baad bhi logon ki sanson mein base the.
Shirshak katha patariyan’ ek madhyvargiy yuvak ki kahani hai jiske rahan-sahan ko dekhkar rasoiya bhi usse thik vyavhar nahin karta, lekin phir jab uska jivan patri par aane lagta hai to uske sapne bhi judane lagte hain.
Pathniy, smarniy, sangrahniy kahaniyan.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products