BackBack

Patliputra Ki Samagri

Sharad Pagare

Rs. 325.00

विश्व एवं भारतीय इतिहास के पहले महान सम्राट अशोक मौर्य को सम्राट किसने बनाया? महान बनने के लिए उसके व्यक्तित्व का निर्माण किसने किया? महानता के गुण उसे किसने प्रदान किये? निश्चय ही उसकी माँ को इसका श्रेय जाना चाहिए। पृष्ठभूमि में रहकर महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई वह थी अशोक की... Read More

BlackBlack
Vendor: Vani Prakashan Categories: Vani Prakashan Books Tags: Novel
Description
विश्व एवं भारतीय इतिहास के पहले महान सम्राट अशोक मौर्य को सम्राट किसने बनाया? महान बनने के लिए उसके व्यक्तित्व का निर्माण किसने किया? महानता के गुण उसे किसने प्रदान किये? निश्चय ही उसकी माँ को इसका श्रेय जाना चाहिए। पृष्ठभूमि में रहकर महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई वह थी अशोक की माँ धर्मा। धर्मा चम्पा के एक ग़रीब दरिद्र ब्राह्मण की अपूर्व, अद्वितीय एवं अनिंद्य सुन्दरी बेटी थी। बचपन से ही अपनी माँ से प्रियदर्शी पुत्र अशोक को जो शिक्षा मिली उसी के कारण कालान्तर में वह अपनी लोक-कल्याणकारी नीतियों के कारण ‘देवनाम प्रिय’, ‘प्रियदर्शी’ बन सका।इतिहास रूपसी धर्मा के अवदान के बारे में चुप है। इतिहास की चुप्पी को तोड़ उसे वाणी देने का प्रयत्न ऐतिहासिक उपन्यासकार शरद पगारे की कलम ने साहित्य के काल्पनिक यथार्थ के माध्यम से किया है। साधारण ग़रीब ब्राह्मण कन्या से नाइन, नाइन से सम्राज्ञी बन मौर्य राजनीति को अपनी कोमल कलियों-सी अँगुलियों पर नचा, अपने बेटे को सम्राट बनाने की रोचक, रूमानी तथा मनभावन कहानी शरद पगारे ने प्रस्तुत की है। धर्मा की प्रिय सहेलियों-वागीश्वरी और सुज्वला माने राजनर्तकी विशाला की अंतर-कथा व्यथा भी है। साथ में है अशोक और विदिशा की वाणिक सुन्दरी देवी की प्रणयकथा। उपन्यास में मौर्यकालीन इतिहास के उस महत्त्वपूर्ण कालखण्ड के जनजीवन का आकलन भी किया गया है। इस कार्य में वे कहाँ तक सफल हुए हैं इसका मूल्यांकन पाठकों/समीक्षकों पर छोड़ते हैं।