BackBack
-11%

Patiya

Kedarnath Agrawal

Rs. 250 Rs. 223

‘पतिया’ यशस्वी कवि केदारनाथ अग्रवाल का उपन्यास है। अब तक अनुपलब्ध होने के कारण केदार-साहित्य के सहृदय पाठक और आलोचक इस उल्लेखनीय कृति से वंचित रहे। उनके लिए वस्तुत: ‘पतिया’ एक अनमोल उपहार है। हिन्दी साहित्य में स्त्री-विमर्श की औपचारिक रूप से चर्चा प्रारम्भ होने से बहुत पहले रची गई... Read More

BlackBlack
Description

‘पतिया’ यशस्वी कवि केदारनाथ अग्रवाल का उपन्यास है। अब तक अनुपलब्ध होने के कारण केदार-साहित्य के सहृदय पाठक और आलोचक इस उल्लेखनीय कृति से वंचित रहे। उनके लिए वस्तुत: ‘पतिया’ एक अनमोल उपहार है।
हिन्दी साहित्य में स्त्री-विमर्श की औपचारिक रूप से चर्चा प्रारम्भ होने से बहुत पहले रची गई कृति ‘पतिया’ में स्त्री-जीवन की जाने कितनी विडम्बनाएँ चित्रित हो चुकी थीं। परिवार, दाम्पत्य, यौन स्वातंत्र्य, शोषण और अलगाव आदि से जुड़े प्रसंगों के छायाचित्र ‘पतिया’ को महत्त्वपूर्ण बनाते हैं। उपन्यास की नायिका का जीवन-संघर्ष स्वयं बहुत कुछ कहता है। स्त्री समलैंगिकता की स्थितियाँ भी प्रस्तुत उपन्यास में हैं। इससे सिद्ध होता है कि कोई भी प्रवृत्ति या घटना सामाजिक स्थिति और व्यक्तिगत मन:स्थिति का संयुक्त परिणाम होती है।
इस उपन्यास का गद्य विशिष्ट है...एक कवि का गद्य। छोटे-छोटे वाक्य। बिम्ब, प्रतीक समृद्ध भाषा। संवेदनशील और प्रवाहपूर्ण। यथार्थवादी गद्य का उदाहरण। पतिया की ननद मोहिनी का यह चित्र कितना व्यंजक है, “मैली-सी चौड़े किनारे की धोती पहिने है। हाथ और पैरों में चाँदी के गहने खनक रहे हैं। धोती का पल्ला सिर से उतरकर गरदन पर आ गया है। पीछे से एक बड़ा-सा जूड़ा उठा दिखता है। जूड़ा गोल घेरे में बँधा है। सामने से देखने पर सिर में सिन्दूर भरी चौड़ी-सी माँग दिखती है। कानों में तरकियाँ, नाक में पीतल की फुल्ली और गले में रंगीन काँच और मूँगे के दानों से बनी दुलरी पड़ी है। बड़ी-बड़ी आँखों में काजल खिंचा है। दाहिनी ओर गाल पर एक तिल है। चेहरे पर तेल की चिकनाहट जवानी को चमका रही है। कोई कुरती या सलूका नहीं पहने है। बर्तन माँजते वक़्त, उसके दोनों उरोज, छलक पड़ते हैं। रंग ज़्यादा गोरा नहीं, पर साँवले से कुछ निखरा हुआ है। ‘patiya’ yashasvi kavi kedarnath agrval ka upanyas hai. Ab tak anuplabdh hone ke karan kedar-sahitya ke sahriday pathak aur aalochak is ullekhniy kriti se vanchit rahe. Unke liye vastut: ‘patiya’ ek anmol uphar hai. Hindi sahitya mein stri-vimarsh ki aupcharik rup se charcha prarambh hone se bahut pahle rachi gai kriti ‘patiya’ mein stri-jivan ki jane kitni vidambnayen chitrit ho chuki thin. Parivar, dampatya, yaun svatantrya, shoshan aur algav aadi se jude prsangon ke chhayachitr ‘patiya’ ko mahattvpurn banate hain. Upanyas ki nayika ka jivan-sangharsh svayan bahut kuchh kahta hai. Stri samlaingikta ki sthitiyan bhi prastut upanyas mein hain. Isse siddh hota hai ki koi bhi prvritti ya ghatna samajik sthiti aur vyaktigat man:sthiti ka sanyukt parinam hoti hai.
Is upanyas ka gadya vishisht hai. . . Ek kavi ka gadya. Chhote-chhote vakya. Bimb, prtik samriddh bhasha. Sanvedanshil aur prvahpurn. Yatharthvadi gadya ka udahran. Patiya ki nanad mohini ka ye chitr kitna vyanjak hai, “maili-si chaude kinare ki dhoti pahine hai. Hath aur pairon mein chandi ke gahne khanak rahe hain. Dhoti ka palla sir se utarkar gardan par aa gaya hai. Pichhe se ek bada-sa juda utha dikhta hai. Juda gol ghere mein bandha hai. Samne se dekhne par sir mein sindur bhari chaudi-si mang dikhti hai. Kanon mein tarakiyan, naak mein pital ki phulli aur gale mein rangin kanch aur munge ke danon se bani dulri padi hai. Badi-badi aankhon mein kajal khincha hai. Dahini or gaal par ek til hai. Chehre par tel ki chiknahat javani ko chamka rahi hai. Koi kurti ya saluka nahin pahne hai. Bartan manjate vaqt, uske donon uroj, chhalak padte hain. Rang zyada gora nahin, par sanvale se kuchh nikhra hua hai.