BackBack
-11%

Parstree

Bimal Mitra

Rs. 795 Rs. 708

प्रख्यात बांग्ला कथाकार विमल मित्र का यह उपन्यास एक ऐसे आदर्शवादी युवक की कहानी है, जो अपने जीवन में कुछ महान कार्य कर दिखाने की आकांक्षा रखता है, लेकिन कई अप्रत्याशित घटनाएँ उसे कुछ और ही बना देती हैं, जिसकी ख़ुद उसने या किसी ने भी कल्पना नहीं की थी।... Read More

BlackBlack
Description

प्रख्यात बांग्ला कथाकार विमल मित्र का यह उपन्यास एक ऐसे आदर्शवादी युवक की कहानी है, जो अपने जीवन में कुछ महान कार्य कर दिखाने की आकांक्षा रखता है, लेकिन कई अप्रत्याशित घटनाएँ उसे कुछ और ही बना देती हैं, जिसकी ख़ुद उसने या किसी ने भी कल्पना नहीं की थी। घटनाचक्र में पड़कर वह कई मोड़ों से गुज़रता है, और अन्त में जब वह इच्छित पथ पा लेता है तो उसे बोध होता है कि जीवन की वास्तविकता क्या है। इस क्रम में उसे जीवन के अनेक रूप देखने को मिलते हैं तथा बहुत कुछ बलिदान भी करना पड़ता है। विकृतियों का चरम भोग भोगते हुए उसने कीचड़ में कमल की तरह खिलते सुकृतियों के स्वरूप भी देखे। पात्र और घटनाएँ उपन्यास में इस तरह गुँथे हुए हैं कि सहसा यह कह पाना मुश्किल होगा कि इस उपन्यास की कथा-वस्तु चरित्र द्वारा अनुशासित है अथवा घटनाओं द्वारा। एक की जीवन्तता और दूसरे की सहजता ने कथा को लयात्मक गति व विस्तार दिया है।
‘परस्त्री’ की एक विशेषता यह भी है कि इसकी कथा समकालीन सामाजिक जीवन की पृष्ठभूमि में आगे बढ़ती है। यह व्यक्ति के अन्तर्मन के रहस्यों को नहीं, बल्कि सामाजिक जीवन के यथार्थ को उजागर करती है। सिर से पाँव तक भ्रष्टाचार में डूबे व्यवस्था-तंत्र और उससे त्राण पाने के लिए छटपटाते सामान्‍यजन की वेदना का अत्यन्त सजीव चित्रण इस उपन्यास में हुआ है। Prakhyat bangla kathakar vimal mitr ka ye upanyas ek aise aadarshvadi yuvak ki kahani hai, jo apne jivan mein kuchh mahan karya kar dikhane ki aakanksha rakhta hai, lekin kai apratyashit ghatnayen use kuchh aur hi bana deti hain, jiski khud usne ya kisi ne bhi kalpna nahin ki thi. Ghatnachakr mein padkar vah kai modon se guzarta hai, aur ant mein jab vah ichchhit path pa leta hai to use bodh hota hai ki jivan ki vastavikta kya hai. Is kram mein use jivan ke anek rup dekhne ko milte hain tatha bahut kuchh balidan bhi karna padta hai. Vikritiyon ka charam bhog bhogte hue usne kichad mein kamal ki tarah khilte sukritiyon ke svrup bhi dekhe. Patr aur ghatnayen upanyas mein is tarah gunthe hue hain ki sahsa ye kah pana mushkil hoga ki is upanyas ki katha-vastu charitr dvara anushasit hai athva ghatnaon dvara. Ek ki jivantta aur dusre ki sahajta ne katha ko layatmak gati va vistar diya hai. ‘parastri’ ki ek visheshta ye bhi hai ki iski katha samkalin samajik jivan ki prishthbhumi mein aage badhti hai. Ye vyakti ke antarman ke rahasyon ko nahin, balki samajik jivan ke yatharth ko ujagar karti hai. Sir se panv tak bhrashtachar mein dube vyvastha-tantr aur usse tran pane ke liye chhataptate saman‍yajan ki vedna ka atyant sajiv chitran is upanyas mein hua hai.