BackBack
-11%

Parsai Rachanawali : Vols. 1-6

Harishankar Parsai

Rs. 7,200 Rs. 6,408

परसाई रचनावली के इस पहले खंड में उनकी लघु कथात्मक रचनाएँ—कहानियाँ, रेखाचित्र, रिपोर्ताज, संस्मरण आदि शामिल हैं। कहानीकार के रूप में हरिशंकर परसाई हिन्दी कथा-साहित्य के परम्परागत स्वरूप का वस्तु और शिल्प—दोनों स्तरों पर अतिक्रमण करते हैं। परसाई की कथा-दृष्टि समकालीन भारतीय समाज और मनुष्य की आचरणगत जिन विसंगतियों और... Read More

BlackBlack
Description

परसाई रचनावली के इस पहले खंड में उनकी लघु कथात्मक रचनाएँ—कहानियाँ, रेखाचित्र, रिपोर्ताज, संस्मरण आदि शामिल हैं। कहानीकार के रूप में हरिशंकर परसाई हिन्दी कथा-साहित्य के परम्परागत स्वरूप का वस्तु और शिल्प—दोनों स्तरों पर अतिक्रमण करते हैं।
परसाई की कथा-दृष्टि समकालीन भारतीय समाज और मनुष्य की आचरणगत जिन विसंगतियों और अन्तर्विरोधों तक पहुँचती है, साहित्यिक इतिहास में उसकी एक सकारात्मक भूमिका है, क्योंकि रोगोपचार से पहले रोग-निदान आवश्यक है और अपनी कमजोरियों से उबरने के लिए उनकी बारीक पहचान । परसाई की कलम इसी निदान और पहचान का सशक्त माध्यम है।
परसाई के कथा-साहित्य में रूपायित स्थितियाँ, घटनाएँ और व्यक्ति-चरित्र अपने समाज की व्यापक और एकनिष्ठ पड़ताल का नतीजा हैं । स्वातंत्र्योत्तर भारत के सामाजिक और राजनीतिक यथार्थ के जिन विभिन्न स्तरों से हम यहाँ गुजरते हैं, वह हमारे लिए एक नया अविस्मरणीय अनुभव बन जाता है । इससे हमें अपने आसपास को देखने और समझनेवाली एक नई विचार-दृष्टि तो मिलती ही है, हमारा नैतिक बोध भी जाग्रत् होता है; साथ ही प्रतिवाद और प्रतिरोध तक ले जानेवाली बेचैनी भी पैदा होती है। यह इसलिए कि परसाई के कथा-साहित्य में वैयक्तिक और सामाजिक अनुभव का द्वैत नहीं है। हमारे आसपास रहनेवाले विविध और बहुरंगी मानव-चरित्रों को केन्द्र में रखकर भी ये कहानियाँ वस्तुत: भारतीय समाज के ही प्रातिनिधिक चरित्र का उद्घाटन करती हैं । रचना-शिल्प के नाते इन कहानियों की भाषा का ठेठ देसी मिजाज और तेवर तथा उनमें निहित व्यंग्य हमें गहरे तक प्रभावित करता है। यही कारण है कि ये व्यंग्य कथाएँ हमारी चेतना और स्मृति का अभिन्न हिस्सा बन जाती हैं । Parsai rachnavli ke is pahle khand mein unki laghu kathatmak rachnayen—kahaniyan, rekhachitr, riportaj, sansmran aadi shamil hain. Kahanikar ke rup mein harishankar parsai hindi katha-sahitya ke parampragat svrup ka vastu aur shilp—donon stron par atikrman karte hain. Parsai ki katha-drishti samkalin bhartiy samaj aur manushya ki aacharangat jin visangatiyon aur antarvirodhon tak pahunchati hai, sahityik itihas mein uski ek sakaratmak bhumika hai, kyonki rogopchar se pahle rog-nidan aavashyak hai aur apni kamjoriyon se ubarne ke liye unki barik pahchan. Parsai ki kalam isi nidan aur pahchan ka sashakt madhyam hai.
Parsai ke katha-sahitya mein rupayit sthitiyan, ghatnayen aur vyakti-charitr apne samaj ki vyapak aur eknishth padtal ka natija hain. Svatantryottar bharat ke samajik aur rajnitik yatharth ke jin vibhinn stron se hum yahan gujarte hain, vah hamare liye ek naya avismarniy anubhav ban jata hai. Isse hamein apne aaspas ko dekhne aur samajhnevali ek nai vichar-drishti to milti hi hai, hamara naitik bodh bhi jagrat hota hai; saath hi prativad aur pratirodh tak le janevali bechaini bhi paida hoti hai. Ye isaliye ki parsai ke katha-sahitya mein vaiyaktik aur samajik anubhav ka dvait nahin hai. Hamare aaspas rahnevale vividh aur bahurangi manav-charitron ko kendr mein rakhkar bhi ye kahaniyan vastut: bhartiy samaj ke hi pratinidhik charitr ka udghatan karti hain. Rachna-shilp ke nate in kahaniyon ki bhasha ka theth desi mijaj aur tevar tatha unmen nihit vyangya hamein gahre tak prbhavit karta hai. Yahi karan hai ki ye vyangya kathayen hamari chetna aur smriti ka abhinn hissa ban jati hain.