BackBack
-10%

Parivartan Ki Parampara Ke Kavi Leeladhar Jagoodi

Dr. Brijbala Singh

Rs. 595 Rs. 536

Vani Prakashan

हिन्दी कविता के समकालीन फलक पर गये पाँच दशकों से आच्छादित लीलाधर जगूड़ी की कविताएँ जहाँ एक ओर अपने कथ्य और प्रतीत की यथार्थवादी अभिव्यक्तियों के लिए जानी-पहचानी जाती हैं, वहीं अपने सर्वथा अलग भाषिक स्थापत्य के लिए भी। हम कह सकते हैं कि आज की कविता को रघुवीर सहाय... Read More

Description

हिन्दी कविता के समकालीन फलक पर गये पाँच दशकों से आच्छादित लीलाधर जगूड़ी की कविताएँ जहाँ एक ओर अपने कथ्य और प्रतीत की यथार्थवादी अभिव्यक्तियों के लिए जानी-पहचानी जाती हैं, वहीं अपने सर्वथा अलग भाषिक स्थापत्य के लिए भी। हम कह सकते हैं कि आज की कविता को रघुवीर सहाय व केदारनाथ सिंह के बाद धूमिल और जगूड़ी ने गहराई से प्रभावित किया है। परिवर्तन की परम्परा के कवि के रूप में लीलाधर जगूड़ी निरन्तर अपने काव्य संस्कारों को माँजने वाले कवियों में रहे हैं। इसीलिए वे खेल-खेल में भी शब्दों के नये से नये अर्थ के प्रस्तावन के लिए प्रतिश्रुत दिखते हैं। अपनी सुदीर्घ काव्य यात्रा में जगूड़ी की विशेषता यह रही है कि वे विनोद कुमार शुक्ल की तरह ही, अपने ही प्रयुक्त कथन, भाव, बिम्ब या प्रतीक को दुहराने से बचते रहे हैं। यह उनकी मौलिकता का साक्ष्य है। हिन्दी की विदुषी आलोचक बृजबाला सिंह ने लीलाधर जगूड़ी पर केन्द्रित अपनी पुस्तक में जगूड़ी के पाठ्यबल के गुणसूत्र को कवि-जीवन, रचना यात्रा, कविता के उद्गम स्थल, चेतना के शिल्प और लम्बी कविताओं के महाकाव्यात्मक विधान के आलोक में कविता-विवेक के साथ लक्षित-विश्लेषित किया है। वे कविता में प्रतीकों के दिन थे, जब चिड़िया, बच्चे, पेड़ अपनी संज्ञाओं की चौहद्दी से पार नये अर्थ के प्रतीक के रूप में अभिहित हो रहे थे। जगूड़ी जैसे कवि ऐसे प्रतीकों के पुरोधा थे। कविता की धरती को अपने अनुभवन से निरन्तर पुनर्नवा करने की उनकी कोशिशों का ही प्रतिफल है कि उनकी कविता का मिजाज नाटक जारी है से जितने लोग उतने प्रेम तक उत्तरोत्तर बदलता रहा है। मेगा नैरेटिव के कवि जगूड़ी किसी आख्यानक का बानक रचने के बजाय सार्थक वक्तव्यों की लीक पर चलते हुए अब तक जीवन के तमाम ऐसे अलक्षित पहलुओं को कविता में लाने में सफल हुए हैं जैसी सफलता कम लोगों ने अर्जित की है। बाज़ारवाद, उदारतावाद और विश्व मानवता को प्रभावित करने वाले कारकों के साथ वैश्विक वित्त और लौकिक चित्त की अन्तर्दशाओं का ऐसा भाष्य उनके समकालीनों में विरल है, इसलिए जगूड़ी को लेकर किसी भी फौरी निष्कर्ष पर नहीं पहुँचा जा सकता। बृजबाला सिंह जगूड़ी के बहुआयामी अनुभव संसार से इस तरह जुड़ती हैं जैसे वे चौपाल में अपने शिष्यों के बीच बैठ कर धीरज के साथ कवि और कविता के सच्चे निहितार्थों का प्रवाचन कर रही हों। -ओम निश्चल hindi kavita ke samkalin phalak par gaye paanch dashkon se achchhadit liladhar jaguDi ki kavitayen jahan ek or apne kathya aur prteet ki yatharthvadi abhivyaktiyon ke liye jani pahchani jati hain, vahin apne sarvtha alag bhashik sthapatya ke liye bhi. hum kah sakte hain ki aaj ki kavita ko raghuvir sahay va kedarnath sinh ke baad dhumil aur jaguDi ne gahrai se prbhavit kiya hai. parivartan ki parampra ke kavi ke roop mein liladhar jaguDi nirantar apne kavya sanskaron ko manjane vale kaviyon mein rahe hain. isiliye ve khel khel mein bhi shabdon ke naye se naye arth ke prastavan ke liye prtishrut dikhte hain. apni sudirgh kavya yatra mein jaguDi ki visheshta ye rahi hai ki ve vinod kumar shukl ki tarah hi, apne hi pryukt kathan, bhaav, bimb ya prteek ko duhrane se bachte rahe hain. ye unki maulikta ka sakshya hai. hindi ki vidushi alochak brijbala sinh ne liladhar jaguDi par kendrit apni pustak mein jaguDi ke pathybal ke gunsutr ko kavi jivan, rachna yatra, kavita ke udgam sthal, chetna ke shilp aur lambi kavitaon ke mahakavyatmak vidhan ke aalok mein kavita vivek ke saath lakshit vishleshit kiya hai. ve kavita mein prtikon ke din the, jab chiDiya, bachche, peD apni sangyaon ki chauhaddi se paar naye arth ke prteek ke roop mein abhihit ho rahe the. jaguDi jaise kavi aise prtikon ke purodha the. kavita ki dharti ko apne anubhvan se nirantar punarnva karne ki unki koshishon ka hi pratiphal hai ki unki kavita ka mijaj natak jari hai se jitne log utne prem tak uttrottar badalta raha hai. mega nairetiv ke kavi jaguDi kisi akhyanak ka banak rachne ke bajay sarthak vaktavyon ki leek par chalte hue ab tak jivan ke tamam aise alakshit pahaluon ko kavita mein lane mein saphal hue hain jaisi saphalta kam logon ne arjit ki hai. bazarvad, udartavad aur vishv manavta ko prbhavit karne vale karkon ke saath vaishvik vitt aur laukik chitt ki antardshaon ka aisa bhashya unke samkalinon mein viral hai, isaliye jaguDi ko lekar kisi bhi phauri nishkarsh par nahin pahuncha ja sakta. brijbala sinh jaguDi ke bahuayami anubhav sansar se is tarah juDti hain jaise ve chaupal mein apne shishyon ke beech baith kar dhiraj ke saath kavi aur kavita ke sachche nihitarthon ka prvachan kar rahi hon. om nishchal