Parivartan Aur Vikas Ke Sanskritik Ayaam

Regular price Rs. 248
Sale price Rs. 248 Regular price Rs. 267
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Parivartan Aur Vikas Ke Sanskritik Ayaam

Parivartan Aur Vikas Ke Sanskritik Ayaam

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

समाजशास्त्र, अर्थशास्त्र और सांस्कृतिक क्षेत्र के मर्मज्ञ विद्वान प्रो. पूरनचन्द्र जोशी की यह कृति भारतीय सामाजिक परिवर्तन और विकास के सन्दर्भ में कुछ बुनियादी सवालों और समस्याओं पर किए गए चिन्तन का नतीजा है। चार भागों में संयोजित इस कृति में कुल पन्द्रह निबन्ध हैं, जो एक ओर आधुनिक आर्थिक विकास और सामाजिक परिवर्तन को सांस्कृतिक आयामों पर और दूसरी ओर सांस्कृतिक जगत की उभरती समस्याओं के आर्थिक और राजनीतिक पहलुओं पर नया प्रकाश डालते हैं।
हिन्दी पाठकों के लिए यह कृति विभिन्न दृष्टियों से मौलिक और नए ढंग का प्रयास है। एक ओर तो यह सांस्कृतिक सवालों को अर्थ, समाज और राजनीति के सवालों से जोड़कर संस्कृतिकर्मियों तथा अर्थ एवं समाजशास्त्रियों के बीच सेतुबन्धन के लिए नए विचार, अवधारणाएँ और मूलदृष्टि विचारार्थ प्रस्तुत करती है और दूसरी ओर उभरते हुए नए यथार्थ से विचार एवं व्यवहार—दोनों स्तरों पर जूझने में असमर्थ पुरानी बौद्धिक प्रणालियों, स्थापित मूलदृष्टियों और व्यवहारों की निर्मम विवेचना का भी आग्रह करती है। दूसरे शब्दों में, यह पुस्तक-संस्कृति, अर्थ और राजनीति को अलग-अलग कर खंडित रूप में नहीं, बल्कि इन तीनों के भीतरी सम्बन्धों और अन्तर्विरोधों के आधार पर समग्र रूप में समझने का आग्रह करती है।
प्रो. जोशी के अनुसार स्वातंत्र्योत्तर भारत में जो एक दोहरे समाज का उदय हुआ है, उसका मुख्य परिणाम है नवधनाढ्‌य वर्ग का उभार, जो पुराने सामन्ती वर्ग से समझौता कर सभी क्षेत्रों में प्रभुतावान होता जा रहा है और जिसका सामाजिक दर्शन, मानसिकता एवं व्यवहार गांधी और नेहरू-युग के मूल्य-मान्यताओं के पूर्णतया विरुद्ध हैं। वह पश्चिम के निर्बन्ध भोगवाद, विलासवाद और व्यक्तिवाद के साथ निरन्तर एकमेक होता जा रहा है। फलस्वरूप उसके और बहुजन समाज के बीच अलगाव ही नहीं, तनाव और संघर्ष भी विस्फोटक रूप ले रहे हैं। प्रो. जोशी सवाल उठाते हैं कि भारतीय समाज में बढ़ रहा यह तनाव और संघर्ष उसके अपकर्ष का कारण बनेगा या इसी में एक नए पुनर्जागरण की सम्भावनाएँ निहित हैं? वस्तुत: प्रो. जोशी की यह कृति पाठकों से इन प्रश्नों से वैचारिक स्तर पर ही नहीं, व्यावहारिक स्तर पर भी जूझने का आग्रह करती है। Samajshastr, arthshastr aur sanskritik kshetr ke marmagya vidvan pro. Puranchandr joshi ki ye kriti bhartiy samajik parivartan aur vikas ke sandarbh mein kuchh buniyadi savalon aur samasyaon par kiye ge chintan ka natija hai. Char bhagon mein sanyojit is kriti mein kul pandrah nibandh hain, jo ek or aadhunik aarthik vikas aur samajik parivartan ko sanskritik aayamon par aur dusri or sanskritik jagat ki ubharti samasyaon ke aarthik aur rajnitik pahaluon par naya prkash dalte hain. Hindi pathkon ke liye ye kriti vibhinn drishtiyon se maulik aur ne dhang ka pryas hai. Ek or to ye sanskritik savalon ko arth, samaj aur rajniti ke savalon se jodkar sanskritikarmiyon tatha arth evan samajshastriyon ke bich setubandhan ke liye ne vichar, avdharnayen aur muldrishti vichararth prastut karti hai aur dusri or ubharte hue ne yatharth se vichar evan vyavhar—donon stron par jujhne mein asmarth purani bauddhik prnaliyon, sthapit muldrishtiyon aur vyavharon ki nirmam vivechna ka bhi aagrah karti hai. Dusre shabdon mein, ye pustak-sanskriti, arth aur rajniti ko alag-alag kar khandit rup mein nahin, balki in tinon ke bhitri sambandhon aur antarvirodhon ke aadhar par samagr rup mein samajhne ka aagrah karti hai.
Pro. Joshi ke anusar svatantryottar bharat mein jo ek dohre samaj ka uday hua hai, uska mukhya parinam hai navadhnadh‌ya varg ka ubhar, jo purane samanti varg se samjhauta kar sabhi kshetron mein prabhutavan hota ja raha hai aur jiska samajik darshan, manasikta evan vyavhar gandhi aur nehru-yug ke mulya-manytaon ke purnatya viruddh hain. Vah pashchim ke nirbandh bhogvad, vilasvad aur vyaktivad ke saath nirantar ekmek hota ja raha hai. Phalasvrup uske aur bahujan samaj ke bich algav hi nahin, tanav aur sangharsh bhi visphotak rup le rahe hain. Pro. Joshi saval uthate hain ki bhartiy samaj mein badh raha ye tanav aur sangharsh uske apkarsh ka karan banega ya isi mein ek ne punarjagran ki sambhavnayen nihit hain? vastut: pro. Joshi ki ye kriti pathkon se in prashnon se vaicharik star par hi nahin, vyavharik star par bhi jujhne ka aagrah karti hai.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products