Look Inside
Parchhaiyan
Parchhaiyan
Parchhaiyan
Parchhaiyan

Parchhaiyan

Regular price Rs. 465
Sale price Rs. 465 Regular price Rs. 500
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Parchhaiyan

Parchhaiyan

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

‘परछाइयाँ’ आत्म-कथा नहीं, जीवन-गाथा है। इसमें जीवन के अनुभवों और निष्कर्षों को अनावृत्त किया गया है। इस पुस्तक की पंक्तियों में पाठक स्वयं अपने जीवन में घटित घटनाओं की अनुभूति करता चलता है। मनुष्य की मूल प्रवृत्तियों का सूक्ष्मता और सरलता से किया गया विश्लेषण श्रीमती महिमा मेहता के संवेदनशील मन को भी उजागर कर देता है। जीवन में संघर्ष क्या होता है और उससे जूझने के लिए सकारात्मक एवं आस्थावादी दृष्टि कैसी भूमिका निभाती है, इसका दिग्दर्शन कराती है ‘परछाइयाँ’। इन परछाइयों में जो चित्र उभरते चलते हैं उनको कुशल चितेरे की भाँति उकेरने में लेखिका अत्यन्त सफल रही है।
इस संस्मरणात्मक उपन्यास में केवल घटनाएँ नहीं, अपने समय की परिक्रमा है। वह जो बीत गया है, वह अब नहीं लौटता, लेकिन स्मृतियों में बस जाता है। प्रसाद जी के ‘आँसू’ की रचना विकल वेदना के उभरने पर सम्भव हुई थी, लेकिन यह संस्मरणात्मक उपन्यास जीवन के एकाकीपन का सहचर है।
महिमा जी गद्य लेखन करती हैं और सहज-सरल भाषा में अपने संवेगों को सम्प्रेषित करती हैं। वे ऐसे समय में लिख रही हैं जब शारीरिक पीड़ा व्यथित करती है और इस एकाकीपन में स्मृतियाँ ही साथ देती हैं। पाठक आश्चर्यचकित होगा कि उन स्मृतियों के सकारात्मक पहलुओं को लेखिका किस कुशलता से चित्रित करती हैं। मूल्यों के क्षरण के इस युग में ये प्रकाश-स्तम्भ का काम करेंगी।
लेखिका का विश्वास है कि कुछ मूल्य ऐसे होते हैं जो जीवन को जीने योग्य बनाते हैं। यही मूल्य हैं जिन्हें महिमा जी ने प्रयासपूर्वक सँजोया ही नहीं, अपनी स्मृति का हिस्सा बनाया है। आज के युग में उन मूल्यों के सजीव चित्रण ने ‘परछाइयाँ’ को विशिष्टता प्रदान की है। ‘parchhaiyan’ aatm-katha nahin, jivan-gatha hai. Ismen jivan ke anubhvon aur nishkarshon ko anavritt kiya gaya hai. Is pustak ki panktiyon mein pathak svayan apne jivan mein ghatit ghatnaon ki anubhuti karta chalta hai. Manushya ki mul prvrittiyon ka sukshmta aur saralta se kiya gaya vishleshan shrimti mahima mehta ke sanvedanshil man ko bhi ujagar kar deta hai. Jivan mein sangharsh kya hota hai aur usse jujhne ke liye sakaratmak evan aasthavadi drishti kaisi bhumika nibhati hai, iska digdarshan karati hai ‘parchhaiyan’. In parchhaiyon mein jo chitr ubharte chalte hain unko kushal chitere ki bhanti ukerne mein lekhika atyant saphal rahi hai. Is sansmarnatmak upanyas mein keval ghatnayen nahin, apne samay ki parikrma hai. Vah jo bit gaya hai, vah ab nahin lautta, lekin smritiyon mein bas jata hai. Prsad ji ke ‘ansu’ ki rachna vikal vedna ke ubharne par sambhav hui thi, lekin ye sansmarnatmak upanyas jivan ke ekakipan ka sahchar hai.
Mahima ji gadya lekhan karti hain aur sahaj-saral bhasha mein apne sanvegon ko sampreshit karti hain. Ve aise samay mein likh rahi hain jab sharirik pida vythit karti hai aur is ekakipan mein smritiyan hi saath deti hain. Pathak aashcharyachkit hoga ki un smritiyon ke sakaratmak pahaluon ko lekhika kis kushalta se chitrit karti hain. Mulyon ke kshran ke is yug mein ye prkash-stambh ka kaam karengi.
Lekhika ka vishvas hai ki kuchh mulya aise hote hain jo jivan ko jine yogya banate hain. Yahi mulya hain jinhen mahima ji ne pryaspurvak sanjoya hi nahin, apni smriti ka hissa banaya hai. Aaj ke yug mein un mulyon ke sajiv chitran ne ‘parchhaiyan’ ko vishishtta prdan ki hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products