Look Inside
Parampara Ka Mulyankan
Parampara Ka Mulyankan
Parampara Ka Mulyankan
Parampara Ka Mulyankan

Parampara Ka Mulyankan

Regular price Rs. 739
Sale price Rs. 739 Regular price Rs. 795
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Parampara Ka Mulyankan

Parampara Ka Mulyankan

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

प्रगतिशीलता के सन्दर्भ में परम्परा-बोध एक बुनियादी मूल्य है, फिर चाहे इसे साहित्य के परिप्रेक्ष्य में रखा-परखा जाए अथवा समाज के। दूसरे शब्दों में बिना साहित्यिक परम्परा को समझे न तो प्रगतिशील आलोचना और साहित्य की रचना हो सकती है और न ही अपनी ऐतिहासिक परम्परा से अलग रहकर कोई बड़ा सामाजिक बदलाव सम्भव है। लेकिन परम्परा में जो उपयोगी और सार्थक है, उसे उसका मूल्यांकन किए बिना नहीं अपनाया जा सकता।
यह पुस्तक परम्परा के इसी उपयोगी और सार्थक की तलाश का प्रतिफलन है।
सुविख्यात समालोचक डॉ. रामविलास शर्मा ने जहाँ इसमें हिन्दी जाति के सांस्कृतिक इतिहास की रूपरेखा प्रस्तुत की है, वहीं अपने-अपने युग में विशिष्ट भवभूति और तुलसी की लोकाभिमुख काव्य-चेतना का विस्तृत मूल्यांकन किया है। तुलसी के भक्तिकाव्य के सामाजिक मूल्यों का उद्घाटन करते हुए उनका कहना है कि दरिद्रता पर जितना अकेले तुलसीदास ने लिखा है, उतना हिन्दी के समस्त नए-पुराने कवियों ने मिलकर न लिखा होगा। भवभूति के सन्दर्भ में रामविलास जी का यह निष्कर्ष महत्त्वपूर्ण है कि ‘यूनानी नाटककारों की देवसापेक्ष न्याय-व्यवस्था की जगह देवनिरपेक्ष न्याय-व्यवस्था का चित्रण शेक्सपियर से पहले भवभूति ने किया’ और रामायण-महाभारत के नायकों के विषय में यह कि ‘राम और कृष्ण दोनों श्याम वर्ण के पुरुष हैं’।
वस्तुतः इस कृति में, आधुनिक साहित्य के जनवादी मूल्यों के सन्दर्भ में, प्राचीन, मध्यकालीन और समकालीन भारतीय साहित्य में अभिव्यक्त संघर्षशील जनचेतना के उस विकासमान स्वरूप की पुष्टि हुई है जो शोषक वर्गों के विरुद्ध श्रमिक जनता के हितों को प्रतिबिम्बित करता रहा है। Pragatishilta ke sandarbh mein parampra-bodh ek buniyadi mulya hai, phir chahe ise sahitya ke pariprekshya mein rakha-parkha jaye athva samaj ke. Dusre shabdon mein bina sahityik parampra ko samjhe na to pragatishil aalochna aur sahitya ki rachna ho sakti hai aur na hi apni aitihasik parampra se alag rahkar koi bada samajik badlav sambhav hai. Lekin parampra mein jo upyogi aur sarthak hai, use uska mulyankan kiye bina nahin apnaya ja sakta. Ye pustak parampra ke isi upyogi aur sarthak ki talash ka pratiphlan hai.
Suvikhyat samalochak dau. Ramavilas sharma ne jahan ismen hindi jati ke sanskritik itihas ki ruprekha prastut ki hai, vahin apne-apne yug mein vishisht bhavbhuti aur tulsi ki lokabhimukh kavya-chetna ka vistrit mulyankan kiya hai. Tulsi ke bhaktikavya ke samajik mulyon ka udghatan karte hue unka kahna hai ki daridrta par jitna akele tulsidas ne likha hai, utna hindi ke samast ne-purane kaviyon ne milkar na likha hoga. Bhavbhuti ke sandarbh mein ramavilas ji ka ye nishkarsh mahattvpurn hai ki ‘yunani natakkaron ki devsapeksh nyay-vyvastha ki jagah devanirpeksh nyay-vyvastha ka chitran sheksapiyar se pahle bhavbhuti ne kiya’ aur ramayan-mahabharat ke naykon ke vishay mein ye ki ‘ram aur krishn donon shyam varn ke purush hain’.
Vastutः is kriti mein, aadhunik sahitya ke janvadi mulyon ke sandarbh mein, prachin, madhykalin aur samkalin bhartiy sahitya mein abhivyakt sangharshshil janchetna ke us vikasman svrup ki pushti hui hai jo shoshak vargon ke viruddh shrmik janta ke hiton ko pratibimbit karta raha hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products