Pani Ki Prarthana : Paryavaran Vishayak Kavitayen

Regular price Rs. 367
Sale price Rs. 367 Regular price Rs. 395
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Pani Ki Prarthana : Paryavaran Vishayak Kavitayen

Pani Ki Prarthana : Paryavaran Vishayak Kavitayen

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

केदारनाथ सिंह के कविता-कर्म में प्रकृति और पर्यावरण की उपस्थिति बरगद की जड़ों की तरह इतनी गहरी और विस्तीर्ण है कि उनकी कुछेक कविताओं को पर्यावरण-केन्द्रित कहना अन्याय होगा। उनकी कई ऐसी कविताएँ जो आपाततः प्रकृति और पर्यावरण की परिधि से बाहर दिखती हैं, लोक और प्रकृति के ताने-बाने को अन्तःसलिला की तरह समेटकर रखती हैं। उनकी पर्यावरण सम्बन्धी कविताओं का चयन दुष्कर तो है ही, कइयों को ग़ैरज़रूरी भी लग सकता है। यह भी हो सकता है कि इस तरह के चयन में ऐसी कई कविताएँ छूट जाएँ जिनमें प्रकृति और पर्यावरण की चिन्ता थोड़े भिन्न स्वरूप में मौजूद है। इस चयन का उद्देश्य केदारनाथ सिंह की ऐसी कविताओं को एक स्थान पर दर्ज करना है, जिनमें प्रकृति और पर्यावरण या तो चरित्र-नायक की तरह या स्थापत्य के स्तर पर अधिक प्रदीप्त हैं। आज पूरा विश्व जिस तरह से पर्यावरण संकट से गुज़र रहा है, यह चिन्ता का विषय है। यह चिन्ता जब कवि की चिन्ता बन जाती है तो जीवन के संकट का प्रश्न बन जाती है क्योंकि कवि पूरी पृथ्वी का नागरिक होता है। पृथ्वी की सभी आहटें उसकी बंसी के सुर बन जाती हैं। ऐसे विषय जब लेखन में आते हैं तो अक्सर बेसुरे हो जाते हैं। ऐसी स्थिति में कविताएँ सुरसाधक-शब्दसाधक की तरह आपका सन्तुलन बनाए रखती हैं। पर्यावरणीय दृष्टि से केदारनाथ सिंह की कविताओं के चयन का यह सम्भवत: पहला प्रयास है। इससे कवि के दृष्टि-विस्तार को समझने और ऐसे विषयों को भाषा में बरतते हुए ज़रूरी संवेदनशील बिन्दुओं को उजागर करने में कुछ सहायता अवश्य मिलेगी, ऐसी उम्मीद है। साथ ही, कवि के कुछ अनचीन्हे बिन्दुओं को भी रेखांकित किया जा सकेगा। Kedarnath sinh ke kavita-karm mein prkriti aur paryavran ki upasthiti bargad ki jadon ki tarah itni gahri aur vistirn hai ki unki kuchhek kavitaon ko paryavran-kendrit kahna anyay hoga. Unki kai aisi kavitayen jo aapatatः prkriti aur paryavran ki paridhi se bahar dikhti hain, lok aur prkriti ke tane-bane ko antःsalila ki tarah sametkar rakhti hain. Unki paryavran sambandhi kavitaon ka chayan dushkar to hai hi, kaiyon ko gairazruri bhi lag sakta hai. Ye bhi ho sakta hai ki is tarah ke chayan mein aisi kai kavitayen chhut jayen jinmen prkriti aur paryavran ki chinta thode bhinn svrup mein maujud hai. Is chayan ka uddeshya kedarnath sinh ki aisi kavitaon ko ek sthan par darj karna hai, jinmen prkriti aur paryavran ya to charitr-nayak ki tarah ya sthapatya ke star par adhik prdipt hain. Aaj pura vishv jis tarah se paryavran sankat se guzar raha hai, ye chinta ka vishay hai. Ye chinta jab kavi ki chinta ban jati hai to jivan ke sankat ka prashn ban jati hai kyonki kavi puri prithvi ka nagrik hota hai. Prithvi ki sabhi aahten uski bansi ke sur ban jati hain. Aise vishay jab lekhan mein aate hain to aksar besure ho jate hain. Aisi sthiti mein kavitayen sursadhak-shabdsadhak ki tarah aapka santulan banaye rakhti hain. Paryavarniy drishti se kedarnath sinh ki kavitaon ke chayan ka ye sambhvat: pahla pryas hai. Isse kavi ke drishti-vistar ko samajhne aur aise vishyon ko bhasha mein baratte hue zaruri sanvedanshil binduon ko ujagar karne mein kuchh sahayta avashya milegi, aisi ummid hai. Saath hi, kavi ke kuchh anchinhe binduon ko bhi rekhankit kiya ja sakega.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products