BackBack
-10%

Panchwan Sahibzada

Baldev Singh Translated by Jasvinder Kaur Bindra

Rs. 795.00 Rs. 715.50

बलदेव सिंह भाई जैताजी ने ऐसे कर्मठ, शूरवीर और पूर्ण रूप से गुरुघर को समर्पित बहादुर योद्धा और गुरुजी के मित्र, स्नेही सखा और सहयोगी सेवक को ‘पाँचवाँ साहिबज़ादा’ से सम्बोधित कर उन्हें श्रद्वांजलि देते हुए उनकी जीवन गाथा को सरल और रसभरी शैली के माध्यम से उपन्यास रूप में... Read More

BlackBlack
Vendor: Vani Prakashan Categories: Novels, Vani Prakashan Books Tags: Novel
Description
बलदेव सिंह भाई जैताजी ने ऐसे कर्मठ, शूरवीर और पूर्ण रूप से गुरुघर को समर्पित बहादुर योद्धा और गुरुजी के मित्र, स्नेही सखा और सहयोगी सेवक को ‘पाँचवाँ साहिबज़ादा’ से सम्बोधित कर उन्हें श्रद्वांजलि देते हुए उनकी जीवन गाथा को सरल और रसभरी शैली के माध्यम से उपन्यास रूप में प्रस्तुत किया है। आशा है कि हिन्दी पाठकों को यह उपन्यास अवश्य पसन्द आयेगा और सिख धर्म के अन्य शूरवीरों और शख़्सियतों को जानने के लिए भी प्रेरित करेगा।