Look Inside
Panchhi Aise Aate hai
Panchhi Aise Aate hai
Panchhi Aise Aate hai
Panchhi Aise Aate hai

Panchhi Aise Aate hai

Regular price Rs. 233
Sale price Rs. 233 Regular price Rs. 250
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Panchhi Aise Aate hai

Panchhi Aise Aate hai

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

विजय तेंडुलकर की मूल मराठी नाट्य कृति ‘अशी पाखरे यती’ का यह हिन्दी अनुवाद अब पूरे देश की नाट्य सम्पदा का महत्त्वपूर्ण अंश है। जहाँ भी रंगमंच जीवन्त है, वहाँ यह नाटक लगातार खेला जा रहा है। कितने ही नगरों में दर्शकों की माँग पर इस नाटक के अनेकानेक प्रदर्शन हुए हैं जो कृति के समग्र प्रभाव का आकलन तो करते ही हैं—लोकरुचि के स्वस्थ परिवार की भी सूचना देते हैं। नाटक में तमाम शिल्पगत विशेषताएँ भरी हुई हैं। सबसे अचरज की बात यह है कि यह नाटक साधारण दर्शक से लेकर सुरुचि सम्पन्न आभिजात्य बौद्धिक वर्ग को भी तीन घंटे तक अपने अन्दर बाँधे रहता है। इस अर्थ में यह कृति सचमुच नाट्य जगत की अभूतपूर्व घटना है—जैसा कि भारतीय पत्र-पत्रिकाओं ने इसके बारे में एक स्वर से घोषणा की है। इस नाटक ने हर स्तर के दर्शकों को बरबस आकर्षित और अभिभूत किया है। अपने भीतर प्रवाहित करुणा की धारा को संपुंजित किए हुए दर्शकों को यह नाटक हँसाता चलता है। यह इस नाटककार की अपनी विशेषता है। Vijay tendulkar ki mul marathi natya kriti ‘ashi pakhre yati’ ka ye hindi anuvad ab pure desh ki natya sampda ka mahattvpurn ansh hai. Jahan bhi rangmanch jivant hai, vahan ye natak lagatar khela ja raha hai. Kitne hi nagron mein darshkon ki mang par is natak ke anekanek prdarshan hue hain jo kriti ke samagr prbhav ka aaklan to karte hi hain—lokaruchi ke svasth parivar ki bhi suchna dete hain. Natak mein tamam shilpgat visheshtayen bhari hui hain. Sabse achraj ki baat ye hai ki ye natak sadharan darshak se lekar suruchi sampann aabhijatya bauddhik varg ko bhi tin ghante tak apne andar bandhe rahta hai. Is arth mein ye kriti sachmuch natya jagat ki abhutpurv ghatna hai—jaisa ki bhartiy patr-patrikaon ne iske bare mein ek svar se ghoshna ki hai. Is natak ne har star ke darshkon ko barbas aakarshit aur abhibhut kiya hai. Apne bhitar prvahit karuna ki dhara ko sampunjit kiye hue darshkon ko ye natak hansata chalta hai. Ye is natakkar ki apni visheshta hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products