Pali

Regular price Rs. 367
Sale price Rs. 367 Regular price Rs. 395
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Pali

Pali

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

भीष्म साहनी का यथार्थबोध यद्यपि समाज को कई बार बहुत वेधक दृष्टि से देखता है, लेकिन करुणा से परहेज करते वे कहीं दिखाई नहीं देते। करुणा का उछाल यहाँ इतने स्वाभाविक रूप में आता है कि पाठक गहरी आन्तरिक वेदना से भर उठता है और समाज की न्यायसंगत पुनर्रचना उसे अनिवार्य लगने लगती है।
विभाजन की यादों को ताजा करानेवाली कुछ कहानियाँ इस संग्रह (प्रथम प्रकाशन, 1989) में भी हैं जिनमें सबसे प्रमुख है 'पाली’। इस कहानी में करुणा का परिपाक अद्भुत ढंग से मर्मस्पर्शी है। एक छोटा-सा बच्चा पाकिस्तान से भारत आते समय अपने माता-पिता से बिछुड़कर वहीं रह गया, और एक मुस्लिम माँ-बाप का लाड़ला हो गया। पाँच-छह साल बाद उसे वापस अपने माता-पिता के पास भारत ले आया गया। हिन्दू-मुसलमान आदि पहचानों के खोखलेपन को उजागर करती यह कहानी हृदयवान पाठक को बार-बार भिगो जाती है।
'आवाजें’ इस संग्रह की एक और महत्त्वपूर्ण कहानी है जिसमें विभाजन के बाद भारत आए शरणार्थियों के बसने-बढ़ने की प्रक्रिया का वर्णन बहुत दिलचस्प ढंग से किया गया है। घरों की नींव पड़ने से लेकर उनके बहुमंजिला होकर किराए पर चढ़ने तक।
संग्रह में कुछ ग्यारह कहानियाँ हैं जो अलग-अलग कोणों से मन और मनुष्य का उत्खनन करती हैं। Bhishm sahni ka yatharthbodh yadyapi samaj ko kai baar bahut vedhak drishti se dekhta hai, lekin karuna se parhej karte ve kahin dikhai nahin dete. Karuna ka uchhal yahan itne svabhavik rup mein aata hai ki pathak gahri aantrik vedna se bhar uthta hai aur samaj ki nyaysangat punarrachna use anivarya lagne lagti hai. Vibhajan ki yadon ko taja karanevali kuchh kahaniyan is sangrah (prtham prkashan, 1989) mein bhi hain jinmen sabse prmukh hai pali’. Is kahani mein karuna ka paripak adbhut dhang se marmasparshi hai. Ek chhota-sa bachcha pakistan se bharat aate samay apne mata-pita se bichhudkar vahin rah gaya, aur ek muslim man-bap ka ladla ho gaya. Panch-chhah saal baad use vapas apne mata-pita ke paas bharat le aaya gaya. Hindu-musalman aadi pahchanon ke khokhlepan ko ujagar karti ye kahani hridayvan pathak ko bar-bar bhigo jati hai.
Avajen’ is sangrah ki ek aur mahattvpurn kahani hai jismen vibhajan ke baad bharat aae sharnarthiyon ke basne-badhne ki prakriya ka varnan bahut dilchasp dhang se kiya gaya hai. Gharon ki ninv padne se lekar unke bahumanjila hokar kiraye par chadhne tak.
Sangrah mein kuchh gyarah kahaniyan hain jo alag-alag konon se man aur manushya ka utkhnan karti hain.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products