BackBack
-11%

Pahighar

Kamlakant Tripathi

Rs. 199 Rs. 177

‘पाहीघर’ अवध के एक गाँव, ख़ासकर एक परिवार के इर्द-गिर्द बुनी गई कथा के साथ-साथ सन् 1857 के उस तूफ़ान की इतिहास-कथा भी है जिसके थपेड़ों से अवध का मध्ययुगीन ढाँचा पूरी तरह चरमरा उठा। एक ओर इसमें तत्कालीन सामाजिक और राजनीतिक व्यवस्था का विवरण है तो दूसरी ओर अंग्रेज़ों... Read More

BlackBlack
Description

‘पाहीघर’ अवध के एक गाँव, ख़ासकर एक परिवार के इर्द-गिर्द बुनी गई कथा के साथ-साथ सन् 1857 के उस तूफ़ान की इतिहास-कथा भी है जिसके थपेड़ों से अवध का मध्ययुगीन ढाँचा पूरी तरह चरमरा उठा। एक ओर इसमें तत्कालीन सामाजिक और राजनीतिक व्यवस्था का विवरण है तो दूसरी ओर अंग्रेज़ों के भारत में पैर जमाने के पीछे के कारणों पर लेखक की वस्तुपरक दृष्टि और पैनी सोच की भी झलक है।
यह उपन्यास तत्कालीन समाज की विसंगतियों और अन्‍तर्द्वन्‍द्व का भी दर्पण है, जिसके कारण कल और आज में कोई तात्त्विक फ़र्क़ नहीं दिखता। साम्‍प्रदायिक और जातीय तनाव पैदा कर राजनीति करनेवाले तब भी थे और आज भी हैं, बस फ़र्क़ यह है कि उनके मुखौटे बदल गए हैं। उस वक़्त यह काम विदेशी करवाते थे और अब यही काम देशी चरित्र करा रहे हैं।
वस्तुतः ‘पाहीघर’ की कथा एक बहुआयामी अनुभव की धरोहर की दस्तावेज़ है, जो अपनी अन्‍तर्धारा के व्यापक फैलाव के चलते किसी स्थान या काल विशेष की परिधि में बँधना अस्वीकार कर जाती है। ‘pahighar’ avadh ke ek ganv, khaskar ek parivar ke ird-gird buni gai katha ke sath-sath san 1857 ke us tufan ki itihas-katha bhi hai jiske thapedon se avadh ka madhyayugin dhancha puri tarah charamra utha. Ek or ismen tatkalin samajik aur rajnitik vyvastha ka vivran hai to dusri or angrezon ke bharat mein pair jamane ke pichhe ke karnon par lekhak ki vastuprak drishti aur paini soch ki bhi jhalak hai. Ye upanyas tatkalin samaj ki visangatiyon aur an‍tardvan‍dv ka bhi darpan hai, jiske karan kal aur aaj mein koi tattvik farq nahin dikhta. Sam‍prdayik aur jatiy tanav paida kar rajniti karnevale tab bhi the aur aaj bhi hain, bas farq ye hai ki unke mukhaute badal ge hain. Us vakt ye kaam videshi karvate the aur ab yahi kaam deshi charitr kara rahe hain.
Vastutः ‘pahighar’ ki katha ek bahuayami anubhav ki dharohar ki dastavez hai, jo apni an‍tardhara ke vyapak phailav ke chalte kisi sthan ya kaal vishesh ki paridhi mein bandhana asvikar kar jati hai.

Additional Information
Color

Black

Publisher
Language
ISBN
Pages
Publishing Year