Pahali Umangen

Regular price Rs. 74
Sale price Rs. 74 Regular price Rs. 80
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Pahali Umangen

Pahali Umangen

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

उपन्यास के घटना-क्रम की शुरुआत प्रथम विश्वयुद्ध की पूर्ववेला में, 1910 के आसपास वोल्गा के किनारे स्थित सरातोव नामक छोटे-से शहर में होती है। कहानी मुख्यतः एक युवा क्रान्तिकारी (इज्वेकोव) और एक प्रौढ़-परिपक्व बोल्शेविक कारख़ाना मज़दूर (रागोजिन) की गतिविधियों के आसपास घूमती है, लेकिन इनके साथ ही क्रान्ति पूर्व रूस के विभिन्न वर्गों और संस्तरों के प्रतिनिधि अपनी सामाजिक स्थिति, मनोविज्ञान, राग-विराग और पारस्परिक सम्बन्धों के साथ अत्यन्त जीवन्त रूप में मौजूद हैं—व्यापारी मेरकूरी अव्देविच और उसकी बेटी लीजा, अभिजात लेखक पास्तुखोव, छलिया अभिनेता स्त्वेतुखिन, क्रान्ति के गुप्त सहयोगी बुद्धिजीवी और तलछट-निवासी लम्पट सर्वहारा चरित्र।
टाइप चरित्रों के सृजन और विकास की फ़ेदिन की तकनीक अनूठी है। सामान्य घटनाक्रम-विकास के बीच वे चरित्रों की परत-दर-परत खोलते हुए मानो उनका मनोवैज्ञानिक अध्ययन भी प्रस्तुत करते चलते हैं। काल-विशेष की सामाजिक-राजनीतिक स्थितियों की वस्तुपरक प्रस्तुति, ऐतिहासिक घटना प्रवाह का व्यक्तियों पर प्रभाव और घटना-प्रवाह में व्यक्तियों की भूमिका तथा अलग-अलग वर्गों के प्रतिनिधि चरित्रों की ऐतिहासिक नियति के चित्रण के साथ ही फ़ेदिन जनता के बीच से उभरते प्रतिनिधि सकारात्मक चरित्रों की गतिकी को उद्घाटित करते हुए एक नए मानव के जन्म की कहानी बयान करते हैं।
‘पहली उमंगें’ उपन्यास एक ऐसे समय का साहित्यिक दस्तावेज़ है जब समाज में, आतंक के साए के बीच, कभी भी कहीं से परिवर्तन की किसी विस्फोटक, आकस्मिक शुरुआत की सम्भावना लोग निरन्तर महसूस कर रहे थे। सतह पर सामान्य जीवन का दैनंदिन नाटक जारी था और सतह के नीचे परिवर्तन की शक्तियाँ लगातार संगठित तैयारियों में जुटी हुई थीं। उपन्यास की अनेक थीमें इस विचार द्वारा एकताबद्ध हैं कि दुनिया को पुनर्संगठित करने का संघर्ष ही मूल्य और सत्यनिष्ठा से युक्त मानव-व्यक्तित्व का निर्माण कर सकता है, चीज़ों को बदलने की प्रक्रिया में ही लोग स्वयं को बदल सकते हैं और क्रान्ति के दहनपात्र में ही नया मानव ढाला-गढ़ा जा सकता है। Upanyas ke ghatna-kram ki shuruat prtham vishvyuddh ki purvvela mein, 1910 ke aaspas volga ke kinare sthit saratov namak chhote-se shahar mein hoti hai. Kahani mukhyatः ek yuva krantikari (ijvekov) aur ek praudh-paripakv bolshevik karkhana mazdur (ragojin) ki gatividhiyon ke aaspas ghumti hai, lekin inke saath hi kranti purv rus ke vibhinn vargon aur sanstron ke pratinidhi apni samajik sthiti, manovigyan, rag-virag aur parasprik sambandhon ke saath atyant jivant rup mein maujud hain—vyapari merkuri avdevich aur uski beti lija, abhijat lekhak pastukhov, chhaliya abhineta stvetukhin, kranti ke gupt sahyogi buddhijivi aur talchhat-nivasi lampat sarvhara charitr. Taip charitron ke srijan aur vikas ki fedin ki taknik anuthi hai. Samanya ghatnakram-vikas ke bich ve charitron ki parat-dar-parat kholte hue mano unka manovaigyanik adhyyan bhi prastut karte chalte hain. Kal-vishesh ki samajik-rajnitik sthitiyon ki vastuprak prastuti, aitihasik ghatna prvah ka vyaktiyon par prbhav aur ghatna-prvah mein vyaktiyon ki bhumika tatha alag-alag vargon ke pratinidhi charitron ki aitihasik niyati ke chitran ke saath hi fedin janta ke bich se ubharte pratinidhi sakaratmak charitron ki gatiki ko udghatit karte hue ek ne manav ke janm ki kahani bayan karte hain.
‘pahli umangen’ upanyas ek aise samay ka sahityik dastavez hai jab samaj mein, aatank ke saye ke bich, kabhi bhi kahin se parivartan ki kisi visphotak, aakasmik shuruat ki sambhavna log nirantar mahsus kar rahe the. Satah par samanya jivan ka dainandin natak jari tha aur satah ke niche parivartan ki shaktiyan lagatar sangthit taiyariyon mein juti hui thin. Upanyas ki anek thimen is vichar dvara ektabaddh hain ki duniya ko punarsangthit karne ka sangharsh hi mulya aur satynishtha se yukt manav-vyaktitv ka nirman kar sakta hai, chizon ko badalne ki prakriya mein hi log svayan ko badal sakte hain aur kranti ke dahanpatr mein hi naya manav dhala-gadha ja sakta hai.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products