Pahala Raja

Regular price Rs. 47
Sale price Rs. 47 Regular price Rs. 50
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Pahala Raja

Pahala Raja

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

जगदीशचन्द्र माथुर का नाम हिन्दी नाट्‌य साहित्य में आधुनिक और प्रयोगशील नाटककार के रूप में समादृत है, और ‘पहला राजा’ उनकी एक अविस्मरणीय नाट्‌यकृति के रूप में बहुचर्चित।
‘पहला राजा’ की कथा एक पौराणिक आख्यान पर आधारित है, जिसमें प्रकृति और मनुष्य के बीच सनातन श्रम-सम्बन्धों की महत्ता को रेखांकित किया गया है।
यह उन दिनों की कथा है, जब आर्यों को भारत में आए बहुत दिन नहीं हुए थे और हड़प्पा-सभ्यता के आदि निवासियों से उनका संघर्ष चल रहा था। कहते हैं उन दिनों राजा नहीं थे, जब वेन जैसे उद्दंड व्यक्ति के शव-मन्थन से पृथु जैसा तेजस्वी पुरुष प्रकट हुआ और कालान्तर में मुनियों द्वारा उसे पहला राजा घोषित किया गया। पृथु यानी पहला राजा। राजा, यानी जो लोकों और प्रजा का अनुरंजन करे। पृथु ने अपनी पात्रता सिद्ध की अर्थात् उसके हाथ धरती को समतल बनाकर उसे दोहनेवाले सिद्ध हुए। परिणामत: धरती को भी एक नया नाम मिला—पृथ्वी।
निश्चय ही यह एक अत्यन्त चित्ताकर्षण और अर्थपूर्ण नाट्‌यकृति है। Jagdishchandr mathur ka naam hindi nat‌ya sahitya mein aadhunik aur pryogshil natakkar ke rup mein samadrit hai, aur ‘pahla raja’ unki ek avismarniy nat‌yakriti ke rup mein bahucharchit. ‘pahla raja’ ki katha ek pauranik aakhyan par aadharit hai, jismen prkriti aur manushya ke bich sanatan shram-sambandhon ki mahatta ko rekhankit kiya gaya hai.
Ye un dinon ki katha hai, jab aaryon ko bharat mein aae bahut din nahin hue the aur hadappa-sabhyta ke aadi nivasiyon se unka sangharsh chal raha tha. Kahte hain un dinon raja nahin the, jab ven jaise uddand vyakti ke shav-manthan se prithu jaisa tejasvi purush prkat hua aur kalantar mein muniyon dvara use pahla raja ghoshit kiya gaya. Prithu yani pahla raja. Raja, yani jo lokon aur prja ka anuranjan kare. Prithu ne apni patrta siddh ki arthat uske hath dharti ko samtal banakar use dohnevale siddh hue. Parinamat: dharti ko bhi ek naya naam mila—prithvi.
Nishchay hi ye ek atyant chittakarshan aur arthpurn nat‌yakriti hai.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products