BackBack

Pahachan Uttar Pradesh

Kumkum Sharma

Rs. 495 Rs. 441

अनेक दृष्टियों से उत्‍तर प्रदेश भारत का सबसे महत्त्‍वपूर्ण प्रान्‍त रहा है। प्रदेश की कुल जनसंख्‍या का सवाल हो या संसद में सांसदों की संख्‍या का, उत्‍तर प्रदेश का स्‍थान सर्वोपरि है। उत्‍तर प्रदेश को यह भी श्रेय प्राप्‍त है कि इसने दुनिया के अपने सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश को... Read More

BlackBlack
Description

अनेक दृष्टियों से उत्‍तर प्रदेश भारत का सबसे महत्त्‍वपूर्ण प्रान्‍त रहा है। प्रदेश की कुल जनसंख्‍या का सवाल हो या संसद में सांसदों की संख्‍या का, उत्‍तर प्रदेश का स्‍थान सर्वोपरि है। उत्‍तर प्रदेश को यह भी श्रेय प्राप्‍त है कि इसने दुनिया के अपने सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश को सबसे अधिक संख्‍या में प्रधानमंत्री भी दिए हैं।
उत्‍तर प्रदेश को अपना वर्तमान नाम 26 जनवरी, 1950 को भारतीय संविधान के लागू होने के साथ-साथ प्राप्‍त हुआ। 1937 से 1950 तक इसे यूनाइटेड प्रॉविन्‍सेज (संयुक्‍त प्रान्‍त) के नाम से पुकारा जाता था।
इस नयनाभिराम प्रस्‍तुति में उत्‍तर प्रदेश की बहुआयामी, बहुरंगी और विविधता-सम्‍पन्‍न सांस्‍कृतिक, ऐतिहासिक, साहित्यिक और राजनीतिक विरासत को रेखांकित करने का प्रयास किया गया है। आज़ादी से पहले और बाद के उत्‍तर प्रदेश में घटित हुई घटनाओं से लेकर यहाँ की परम्‍पराओं, साहित्‍य, कला, संगीत-नृत्‍य, रंगमंच के साथ-साथ यहाँ के नगरों को आधार बनाकर विद्वानों द्वारा लिखे गए आलेखों के माध्‍यम से कोशिश की गई है कि इस अनूठे प्रान्‍त की एक पूरी तस्‍वीर पाठकों को मिल जाए। Anek drishtiyon se ut‍tar prdesh bharat ka sabse mahatt‍vapurn pran‍ta raha hai. Prdesh ki kul jansankh‍ya ka saval ho ya sansad mein sansdon ki sankh‍ya ka, ut‍tar prdesh ka ‍than sarvopari hai. Ut‍tar prdesh ko ye bhi shrey prap‍ta hai ki isne duniya ke apne sabse bade loktantrik desh ko sabse adhik sankh‍ya mein prdhanmantri bhi diye hain. Ut‍tar prdesh ko apna vartman naam 26 janavri, 1950 ko bhartiy sanvidhan ke lagu hone ke sath-sath prap‍ta hua. 1937 se 1950 tak ise yunaited prauvin‍sej (sanyuk‍ta pran‍ta) ke naam se pukara jata tha.
Is naynabhiram pras‍tuti mein ut‍tar prdesh ki bahuayami, bahurangi aur vividhta-sam‍pan‍na sans‍kritik, aitihasik, sahityik aur rajnitik virasat ko rekhankit karne ka pryas kiya gaya hai. Aazadi se pahle aur baad ke ut‍tar prdesh mein ghatit hui ghatnaon se lekar yahan ki param‍paraon, sahit‍ya, kala, sangit-nrit‍ya, rangmanch ke sath-sath yahan ke nagron ko aadhar banakar vidvanon dvara likhe ge aalekhon ke madh‍yam se koshish ki gai hai ki is anuthe pran‍ta ki ek puri tas‍vir pathkon ko mil jaye.

Additional Information
Color

Black

Publisher
Language
ISBN
Pages
Publishing Year

Pahachan Uttar Pradesh

अनेक दृष्टियों से उत्‍तर प्रदेश भारत का सबसे महत्त्‍वपूर्ण प्रान्‍त रहा है। प्रदेश की कुल जनसंख्‍या का सवाल हो या संसद में सांसदों की संख्‍या का, उत्‍तर प्रदेश का स्‍थान सर्वोपरि है। उत्‍तर प्रदेश को यह भी श्रेय प्राप्‍त है कि इसने दुनिया के अपने सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश को सबसे अधिक संख्‍या में प्रधानमंत्री भी दिए हैं।
उत्‍तर प्रदेश को अपना वर्तमान नाम 26 जनवरी, 1950 को भारतीय संविधान के लागू होने के साथ-साथ प्राप्‍त हुआ। 1937 से 1950 तक इसे यूनाइटेड प्रॉविन्‍सेज (संयुक्‍त प्रान्‍त) के नाम से पुकारा जाता था।
इस नयनाभिराम प्रस्‍तुति में उत्‍तर प्रदेश की बहुआयामी, बहुरंगी और विविधता-सम्‍पन्‍न सांस्‍कृतिक, ऐतिहासिक, साहित्यिक और राजनीतिक विरासत को रेखांकित करने का प्रयास किया गया है। आज़ादी से पहले और बाद के उत्‍तर प्रदेश में घटित हुई घटनाओं से लेकर यहाँ की परम्‍पराओं, साहित्‍य, कला, संगीत-नृत्‍य, रंगमंच के साथ-साथ यहाँ के नगरों को आधार बनाकर विद्वानों द्वारा लिखे गए आलेखों के माध्‍यम से कोशिश की गई है कि इस अनूठे प्रान्‍त की एक पूरी तस्‍वीर पाठकों को मिल जाए। Anek drishtiyon se ut‍tar prdesh bharat ka sabse mahatt‍vapurn pran‍ta raha hai. Prdesh ki kul jansankh‍ya ka saval ho ya sansad mein sansdon ki sankh‍ya ka, ut‍tar prdesh ka ‍than sarvopari hai. Ut‍tar prdesh ko ye bhi shrey prap‍ta hai ki isne duniya ke apne sabse bade loktantrik desh ko sabse adhik sankh‍ya mein prdhanmantri bhi diye hain. Ut‍tar prdesh ko apna vartman naam 26 janavri, 1950 ko bhartiy sanvidhan ke lagu hone ke sath-sath prap‍ta hua. 1937 se 1950 tak ise yunaited prauvin‍sej (sanyuk‍ta pran‍ta) ke naam se pukara jata tha.
Is naynabhiram pras‍tuti mein ut‍tar prdesh ki bahuayami, bahurangi aur vividhta-sam‍pan‍na sans‍kritik, aitihasik, sahityik aur rajnitik virasat ko rekhankit karne ka pryas kiya gaya hai. Aazadi se pahle aur baad ke ut‍tar prdesh mein ghatit hui ghatnaon se lekar yahan ki param‍paraon, sahit‍ya, kala, sangit-nrit‍ya, rangmanch ke sath-sath yahan ke nagron ko aadhar banakar vidvanon dvara likhe ge aalekhon ke madh‍yam se koshish ki gai hai ki is anuthe pran‍ta ki ek puri tas‍vir pathkon ko mil jaye.