Look Inside
Padmavat
Padmavat
Padmavat
Padmavat

Padmavat

Regular price Rs. 628
Sale price Rs. 628 Regular price Rs. 675
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Padmavat

Padmavat

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

हिन्दी के प्रसिद्ध सूफ़ी कवि मलिक मुहम्मद जायसी द्वारा रचित प्रस्तुत पुस्तक ‘पद्मावत’ एक प्रेमाख्यान है जिसमें प्रेम-साधना का सम्यक् प्रतिपादन किया गया है। इसमें प्रेमात्मक इतिवृत्ति की रोचकता है, गम्भीर भावों की सुन्दर अभिव्यक्ति व उदास चरित्रों का विशद चित्रण है।
सिंहल द्वीप के राजा गन्धर्वसेन की पुत्री पद्मावती परम सुन्दरी थी और उसके योग्य वर कहीं नहीं मिल रहा था। पद्मावती के पास हीरामन नाम का एक तोता था, जो बहुत वाचाल एवं पंडित था और उसे बहुत प्रिय था।
पद्मावती के रूप एवं गुणों की प्रशंसा सुनते ही राजा रतनसेन उसके लिए अधीर हो उठे और उसे प्राप्त करने की आशा में जोगी का वेश धारण कर घर से निकल पड़े।
सिंहल द्वीप में पहुँचकर राजा रतनसेन जोगियों के साथ शिव के मन्दिर में पद्मावती का ध्यान एवं नाम जाप करने लगे। हीरामन ने उधर यह समाचार पद्मावती से कह सुनाया, जो राजा के प्रेम से प्रभावित होकर विकल हो उठी। पंचमी के दिन वह शिवपूजन के लिए उस मन्दिर में गई, जहाँ उसका रूप देखते ही राजा मूर्च्छित हो गया और वह भली-भाँति उसे देख भी नहीं सका। जागने पर जब वह अधीर हो रहे थे, पद्मावती ने उन्हें कहला भेजा कि दुर्ग सिंहलगढ़ पर चढ़े बिना अब उससे भेंट होना सम्भव नहीं है। तदनुसार शिव से सिद्धि पाकर रतनसेन उक्त गढ़ में प्रवेश करने की चेष्टा में ही सबेरे पकड़ लिए गए और उन्हें सूली की आज्ञा दे दी गई। अन्त में जोगियों द्वारा गढ़ के घिर जाने पर शिव की सहायता से उस पर विजय हो गई और गन्धर्वसेन ने पद्मावती के साथ रतनसेन का विवाह कर दिया।
विवाहोपरान्त राजा रतनसेन चित्तौड़ लौट आए और सुखपूर्वक रानी पद्मावती के साथ रहने लगे।
दूसरी तरफ़ बादशाह अलाउद्दीन रानी पद्मावती के रूप-लावण्य की प्रशंसा सुनकर मुग्ध हो जाता है और विवाह करने को आतुर हो उठा।
इसके बाद राजा रतनसेन से मित्रता कर छलपूर्वक उन्हें मरवा दिया। पति का शव देखकर रानी पद्मावती सती हो गईं।
अन्त में जब अलाउद्दीन अपनी सेना के साथ चित्तौड़गढ़ पहुँचता है तो रानी पद्मावती की चिता की राख देखकर दु:ख एवं ग्लानि का अनुभव करता है।
इस महाकाव्य में प्रेमतत्त्व-विरह का निरूपण तथा प्रेम-साधना का सम्यक् प्रतिपादन तथा सूक्तियों, लोकोक्तियों, मुहावरे तथा कहावतों का प्रयोग बड़े ही सुन्दर ढंग से प्रस्तुत किया गया है। Hindi ke prsiddh sufi kavi malik muhammad jaysi dvara rachit prastut pustak ‘padmavat’ ek premakhyan hai jismen prem-sadhna ka samyak pratipadan kiya gaya hai. Ismen prematmak itivritti ki rochakta hai, gambhir bhavon ki sundar abhivyakti va udas charitron ka vishad chitran hai. Sinhal dvip ke raja gandharvsen ki putri padmavti param sundri thi aur uske yogya var kahin nahin mil raha tha. Padmavti ke paas hiraman naam ka ek tota tha, jo bahut vachal evan pandit tha aur use bahut priy tha.
Padmavti ke rup evan gunon ki prshansa sunte hi raja ratansen uske liye adhir ho uthe aur use prapt karne ki aasha mein jogi ka vesh dharan kar ghar se nikal pade.
Sinhal dvip mein pahunchakar raja ratansen jogiyon ke saath shiv ke mandir mein padmavti ka dhyan evan naam jaap karne lage. Hiraman ne udhar ye samachar padmavti se kah sunaya, jo raja ke prem se prbhavit hokar vikal ho uthi. Panchmi ke din vah shivpujan ke liye us mandir mein gai, jahan uska rup dekhte hi raja murchchhit ho gaya aur vah bhali-bhanti use dekh bhi nahin saka. Jagne par jab vah adhir ho rahe the, padmavti ne unhen kahla bheja ki durg sinhalgadh par chadhe bina ab usse bhent hona sambhav nahin hai. Tadanusar shiv se siddhi pakar ratansen ukt gadh mein prvesh karne ki cheshta mein hi sabere pakad liye ge aur unhen suli ki aagya de di gai. Ant mein jogiyon dvara gadh ke ghir jane par shiv ki sahayta se us par vijay ho gai aur gandharvsen ne padmavti ke saath ratansen ka vivah kar diya.
Vivahoprant raja ratansen chittaud laut aae aur sukhpurvak rani padmavti ke saath rahne lage.
Dusri taraf badshah alauddin rani padmavti ke rup-lavanya ki prshansa sunkar mugdh ho jata hai aur vivah karne ko aatur ho utha.
Iske baad raja ratansen se mitrta kar chhalpurvak unhen marva diya. Pati ka shav dekhkar rani padmavti sati ho gain.
Ant mein jab alauddin apni sena ke saath chittaudgadh pahunchata hai to rani padmavti ki chita ki rakh dekhkar du:kha evan glani ka anubhav karta hai.
Is mahakavya mein premtattv-virah ka nirupan tatha prem-sadhna ka samyak pratipadan tatha suktiyon, lokoktiyon, muhavre tatha kahavton ka pryog bade hi sundar dhang se prastut kiya gaya hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products