BackBack
-11%

Padari Mafi Mango

Tr. Sharad Chandra

Rs. 225 Rs. 200

सटीक शब्दों का चुनाव, चुस्त वाक्य और संवेदना को भाषा का बाना देने का कौशल—ये चीज़ें इन कहानियों को पढ़ते हुए सबसे पहले ध्यान खींचती हैं, ख़ास तौर से इसलिए कि इधर की हिन्दी कहानी में अकसर इन चीज़ों का, एक समर्थ भाषा का अभाव खटकता है। ये कहानियाँ एक... Read More

BlackBlack
Description

सटीक शब्दों का चुनाव, चुस्त वाक्य और संवेदना को भाषा का बाना देने का कौशल—ये चीज़ें इन कहानियों को पढ़ते हुए सबसे पहले ध्यान खींचती हैं, ख़ास तौर से इसलिए कि इधर की हिन्दी कहानी में अकसर इन चीज़ों का, एक समर्थ भाषा का अभाव खटकता है।
ये कहानियाँ एक सधे हुए हाथ से उतरी हुई रचनाएँ हैं। संग्रह की शीर्षक कहानी ‘पादरी, माफ़ी माँगो’ धार्मिक कट्‌टरता और एकांगिता पर हिन्दी की कुछ श्रेष्ठ कथा-रचनाओं में गिनने योग्य है। जहाँ तक विषय-वस्तु का सवाल है, ये कहानियाँ जैसे पूरे समाज, और व्यक्ति के समूचे मनोसंसार को कहीं-न-कहीं छूती हैं।
कहानी एक सजीव इकाई की तरह जैसे अपनी आँख से हमें हमारी दुनिया का दर्शन कराती है, लेखक बस एक निमित्त-भर है। मसलन ‘अम्माँ’ कहानी में एक भी वाक्य अपनी तरफ़ से कहे बग़ैर सिर्फ़ स्थितियों और घटनाओं के अंकन से ही उस हृदय-विदारक पीड़ा को सम्प्रेषित कर दिया जाता है जिसके कारण कहानी का बीज पड़ा होगा। समकालीन समाज की भौतिक और नैतिक विडम्बनाओं को रेखांकित करना कहानीकार का प्रधान प्रेरक बिन्दु है जो ‘दूसरा वर्ग’, ‘बेड नं. दस’, ‘वक़्त की कमी’ और ‘जोंक’ के साथ सभी कहानियों में किसी-न-किसी रूप में उजागर हुआ है।
कहानी में नएपन और भाषिक तथा संवेदनात्मक ताज़गी चाहनेवाले पाठकों को यह संग्रह निश्चित रूप से पसन्द आएगा। Satik shabdon ka chunav, chust vakya aur sanvedna ko bhasha ka bana dene ka kaushal—ye chizen in kahaniyon ko padhte hue sabse pahle dhyan khinchti hain, khas taur se isaliye ki idhar ki hindi kahani mein aksar in chizon ka, ek samarth bhasha ka abhav khatakta hai. Ye kahaniyan ek sadhe hue hath se utri hui rachnayen hain. Sangrah ki shirshak kahani ‘padri, mafi mango’ dharmik kat‌tarta aur ekangita par hindi ki kuchh shreshth katha-rachnaon mein ginne yogya hai. Jahan tak vishay-vastu ka saval hai, ye kahaniyan jaise pure samaj, aur vyakti ke samuche manosansar ko kahin-na-kahin chhuti hain.
Kahani ek sajiv ikai ki tarah jaise apni aankh se hamein hamari duniya ka darshan karati hai, lekhak bas ek nimitt-bhar hai. Maslan ‘amman’ kahani mein ek bhi vakya apni taraf se kahe bagair sirf sthitiyon aur ghatnaon ke ankan se hi us hriday-vidarak pida ko sampreshit kar diya jata hai jiske karan kahani ka bij pada hoga. Samkalin samaj ki bhautik aur naitik vidambnaon ko rekhankit karna kahanikar ka prdhan prerak bindu hai jo ‘dusra varg’, ‘bed nan. Das’, ‘vaqt ki kami’ aur ‘jonk’ ke saath sabhi kahaniyon mein kisi-na-kisi rup mein ujagar hua hai.
Kahani mein nepan aur bhashik tatha sanvednatmak tazgi chahnevale pathkon ko ye sangrah nishchit rup se pasand aaega.