BackBack
-10%

Paap Ke Din

Rajkishore

Rs. 395 Rs. 356

Vani Prakashan

राजकिशोर के कविता-संग्रह 'पाप के दिन' में सामाजिक चिन्ताओं के अलावा ऐसे निजी सच हैं, जो बदलते समय को अनार की तरह खोलते हुए दरअसल स्वयं से जिरह के नतीजे हैं। जिन दिनों इतिहास का इस्तेमाल घृणा, परायापन और दूरियाँ बढ़ाने के लिए किया जा रहा है, राजकिशोर अपनी कविताओं... Read More

Description

राजकिशोर के कविता-संग्रह 'पाप के दिन' में सामाजिक चिन्ताओं के अलावा ऐसे निजी सच हैं, जो बदलते समय को अनार की तरह खोलते हुए दरअसल स्वयं से जिरह के नतीजे हैं। जिन दिनों इतिहास का इस्तेमाल घृणा, परायापन और दूरियाँ बढ़ाने के लिए किया जा रहा है, राजकिशोर अपनी कविताओं में एक तरफ अपनी सभ्यता के दुख, उदासी और विडम्बना के चित्र देते हैं, दूसरी ओर अपने कवि-मन के उस मध्यवर्गीय पापबोध को उजागर करना नहीं भूलते जो चारों तरफ़ मची पुण्य और सुख की लूट के बीच एक अलग संकेत देता है। कविता को किसी उत्सव या अनुष्ठान में बदलने की जगह ज़िन्दगी की एक आत्मीय चीज़ तथा आदमी की बेचैनी और आनन्द की एक कलात्मक जगह के रूप में देखना और एक ऐसी गैर-व्यावसायिक जगह के रूप में लेना, जहाँ आदमी अभी भी अपने स्वप्न देख सकता है, मूल्यों की बात कर सकता है और आत्मविमुग्ध हुए बिना अपने अन्धकार में भी निर्मम होकर झाँक सकता है-राजकिशोर का कविता से इस तरह का नाता न केवल उनके संवेदनशील व्यक्तित्व के अनदेखे पहलुओं को उभारता है, कविता के दायरे को भी विस्तार देता है। हिन्दी पत्रकारिता को नया क्षितिज देने वाले राजकिशोर के लेखन की शुरुआत कविता से ही हुई थी। उनके बहुत-से पाठकों को सन्तोष की बात लग सकती है कि उनका कविकर्म जीवन के बीहड़ संघर्षों में भी थमा नहीं। ‘पाप के दिन' उनकी ज्ञानात्मक संवेदना में एक नये मोड़ की सूचना है। इस संग्रह की कविताओं में राजकिशोर किसी निष्क्रिय मनोव्यथा में फंसे रह जाने की जगह वैश्विक महाविपत्ति की तह में जाते हैं और हत्यारी दशाओं में आम आदमी के उत्तर-आधुनिक परायेपन का गहरा एहसास उजागर करते हैं। रोचक सूक्ति-कथन और व्यंग्य-विनोद से भरपूर ‘पाप के दिन' एक कवि की बेलौस आत्मकथा भर नहीं है। यहाँ सार्वजनिक और व्यक्तिगत, दोनों का आत्मीय अनुभव है। कवि ने छोटे सच के वैभव को पहचाना है और विभिन्न पीड़ाओं के बीच उसे ढलते-खड़े होते भी देखा है। उन्हें सिद्धान्त और आचरण के फर्क ने हमेशा परेशान किया। वे काव्यात्मक ईमानदारी से अपना भी ऑपरेशन करते हैं। उनकी कविताओं में आवेग नहीं, खुलापन है। वे दुख, उदासी और दुविधाओं से दबे आदमी में छिपे उस साहस की तलाश करते हैं जो कभी नहीं मरता। सब कुछ के बावजूद, उनकी कविताओं के माध्यम से यह जानना कितना आश्वस्तिकर है कि दुनिया सुन्दर है, लोग अच्छे हैं, घर खूबसूरत हैं और उपभोक्ता के अन्दर आदमी बचा हुआ है। -शंभुनाथ rajakishor ke kavita sangrah paap ke din mein samajik chintaon ke alava aise niji sach hain, jo badalte samay ko anar ki tarah kholte hue darasal svayan se jirah ke natije hain. jin dinon itihas ka istemal ghrina, parayapan aur duriyan baDhane ke liye kiya ja raha hai, rajakishor apni kavitaon mein ek taraph apni sabhyta ke dukh, udasi aur viDambna ke chitr dete hain, dusri or apne kavi man ke us madhyvargiy papbodh ko ujagar karna nahin bhulte jo charon taraf machi punya aur sukh ki loot ke beech ek alag sanket deta hai. kavita ko kisi utsav ya anushthan mein badalne ki jagah zindagi ki ek atmiy cheez tatha aadmi ki bechaini aur anand ki ek kalatmak jagah ke roop mein dekhna aur ek aisi gair vyavsayik jagah ke roop mein lena, jahan aadmi abhi bhi apne svapn dekh sakta hai, mulyon ki baat kar sakta hai aur atmavimugdh hue bina apne andhkar mein bhi nirmam hokar jhaank sakta hai rajakishor ka kavita se is tarah ka nata na keval unke sanvedanshil vyaktitv ke andekhe pahaluon ko ubharta hai, kavita ke dayre ko bhi vistar deta hai. hindi patrkarita ko naya kshitij dene vale rajakishor ke lekhan ki shuruat kavita se hi hui thi. unke bahut se pathkon ko santosh ki baat lag sakti hai ki unka kavikarm jivan ke bihaD sangharshon mein bhi thama nahin. ‘paap ke din unki gyanatmak sanvedna mein ek naye moD ki suchna hai. is sangrah ki kavitaon mein rajakishor kisi nishkriy manovytha mein phanse rah jane ki jagah vaishvik mahavipatti ki tah mein jate hain aur hatyari dashaon mein aam aadmi ke uttar adhunik parayepan ka gahra ehsas ujagar karte hain. rochak sukti kathan aur vyangya vinod se bharpur ‘paap ke din ek kavi ki belaus atmaktha bhar nahin hai. yahan sarvajnik aur vyaktigat, donon ka atmiy anubhav hai. kavi ne chhote sach ke vaibhav ko pahchana hai aur vibhinn piDaon ke beech use Dhalte khaDe hote bhi dekha hai. unhen siddhant aur achran ke phark ne hamesha pareshan kiya. ve kavyatmak iimandari se apna bhi aupreshan karte hain. unki kavitaon mein aaveg nahin, khulapan hai. ve dukh, udasi aur duvidhaon se dabe aadmi mein chhipe us sahas ki talash karte hain jo kabhi nahin marta. sab kuchh ke bavjud, unki kavitaon ke madhyam se ye janna kitna ashvastikar hai ki duniya sundar hai, log achchhe hain, ghar khubsurat hain aur upbhokta ke andar aadmi bacha hua hai. shambhunath