Look Inside
Paani Ke Beej
Paani Ke Beej

Paani Ke Beej

Regular price ₹ 150
Sale price ₹ 150 Regular price ₹ 150
Unit price
Save 0%
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Paani Ke Beej

Paani Ke Beej

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description
पानी के बीज - श्री मुकुट बिहारी सरोज लोकप्रिय शैली के हिन्दी कवि हैं। जिन्होंने मंच पर उन्हें कविता पढ़ते देखा है, वे उनकी शैली और प्रभाव से भली-भाँति परिचित हैं। 'इन्हें प्रणाम करो ये बड़े महान हैं-ऐसी कविताएँ बारंबार सुनकर भी लोगों की दिलचस्पी क़ायम रहती है। सरोज जी का व्यंग्य यहाँ अपने निखरे हुए रूप में विद्यमान है। ऐसा व्यंग्य तभी उत्पन्न होता है जब उत्पीड़ित और श्रमिक जनता से कवि की संवेदनशीलता के तार जुड़ जाते हैं। सरोज जी की लोकप्रियता का स्रोत उनके इसी लोकतान्त्रिक दृष्टिकोण, सामाजिक व्यंग्य और वर्गीय संवेदनशीलता में है। सरोज जी की काव्य-यात्रा उत्तर-छायावाद की रोमानियत और आदर्शवाद से शुरू हुई थी। लेकिन उनकी संवेदनशीलता वैयक्तिक स्तर से आगे बढ़कर इतिहास की प्रगतिशील शक्तियों से, श्रमजीवियों से, तादात्म्य स्थापित कर लेती है। इसलिए उनकी कविताओं में एक तरफ़ अन्तरंग निजी व्यथा और व्यापक सामाजिक व्यथा का सामंजस्य मिलता है, दूसरी तरफ संघर्ष और आन्दोलन में सक्रिय जनता से यह आत्मविश्वास मिलता है कि 'जनबल की गंगा को रोके यह किसी औक़ात है।' जनबल की गंगा से कवि की सरस्वती भी शक्ति पाती है-'सृजन कभी मंजूर नहीं करता पहरे तलवार के'। आज के बाज़ारवादी समय के लिए यह स्वर जितना दुर्लभ है, उतना ही मूल्यवान भी है। सरोज जी ने अपने को जनसाधारण से इस तरह जोड़ने का प्रयत्न किया है कि अगर 'जनबल के अधर जितना पीते ज़हर बने उतने अमर', तो कवि की नियति इससे भिन्न नहीं है, 'जितना ज़हर पिया उतनी बढ़ गयी उमर' और स्वाधीन भारत की परिस्थितियों में जनता को और उसके कवि को-कितना ज़हर पीना पड़ा होगा, इसकी कल्पना किसी के लिए कठिन नहीं है। कवि ने प्रतिज्ञा की थी कि 'लाशों का व्यापार करने वालों का साथ वह कभी न देगा'। उसने अपनी प्रतिज्ञा बख़ूबी निभायी लेकिन समाज पर, श्रम पर, इन व्यापारियों का शिकंजा और कसता गया है। यह मत पूछो, कितना हारा हूँ, इसे कवि की व्यक्तिगत निराशा और पराजय नहीं मानना चाहिए। वर्गरूप में रचनाशील शक्तियों की पराजय को वह व्यक्तिगत आघात के रूप में लेता है। इसलिए उसके काव्य में उत्साह, आवेश, व्यंग्य, पराजय के विभिन्न स्वर सुनाई देते हैं। उन्होंने इसी व्यापक अर्थ में अपने को दुख के गुरुकुल का स्नातक कहा है। जनबल की गंगा में नहाकर सरोज जी की कविता अपनी सांस्कृतिक विरासत के प्रति जागरूक होती है और साम्प्रदायिक भेदभाव का विरोध करती है। केवल आन्दोलन में 'गीता क़ुरान के साथ नहीं आती, बल्कि छन्दविधान में भी हिन्दी-उर्दू की लोकप्रिय शैली का प्रयोग दिखाई देता है और भाषा में भी बोलचाल की सजीवता प्रकट होती है। यही मुकुट बिहारी सरोज की लोकप्रियता का जनवादी आधार है। -अजय तिवारी pani ke beejshri mukut bihari saroj lokapriy shaili ke hindi kavi hain. jinhonne manch par unhen kavita paDhte dekha hai, ve unki shaili aur prbhaav se bhali bhanti parichit hain. inhen prnaam karo ye baDe mahan hain aisi kavitayen barambar sunkar bhi logon ki dilchaspi qayam rahti hai. saroj ji ka vyangya yahan apne nikhre hue roop mein vidyman hai. aisa vyangya tabhi utpann hota hai jab utpiDit aur shrmik janta se kavi ki sanvedanshilta ke taar juD jate hain. saroj ji ki lokapriyta ka srot unke isi loktantrik drishtikon, samajik vyangya aur vargiy sanvedanshilta mein hai.
saroj ji ki kavya yatra uttar chhayavad ki romaniyat aur adarshvad se shuru hui thi. lekin unki sanvedanshilta vaiyaktik star se aage baDhkar itihas ki pragatishil shaktiyon se, shramjiviyon se, tadatmya sthapit kar leti hai. isaliye unki kavitaon mein ek taraf antrang niji vytha aur vyapak samajik vytha ka samanjasya milta hai, dusri taraph sangharsh aur andolan mein sakriy janta se ye atmvishvas milta hai ki janbal ki ganga ko roke ye kisi auqat hai. janbal ki ganga se kavi ki sarasvti bhi shakti pati hai srijan kabhi manjur nahin karta pahre talvar ke. aaj ke bazarvadi samay ke liye ye svar jitna durlabh hai, utna hi mulyvan bhi hai.

saroj ji ne apne ko jansadharan se is tarah joDne ka pryatn kiya hai ki agar janbal ke adhar jitna pite zahar bane utne amar, to kavi ki niyati isse bhinn nahin hai, jitna zahar piya utni baDh gayi umar aur svadhin bharat ki paristhitiyon mein janta ko aur uske kavi ko kitna zahar pina paDa hoga, iski kalpna kisi ke liye kathin nahin hai. kavi ne prtigya ki thi ki lashon ka vyapar karne valon ka saath vah kabhi na dega. usne apni prtigya bakhubi nibhayi lekin samaj par, shram par, in vyapariyon ka shikanja aur kasta gaya hai. ye mat puchho, kitna hara hoon, ise kavi ki vyaktigat nirasha aur parajay nahin manna chahiye. vargrup mein rachnashil shaktiyon ki parajay ko vah vyaktigat aghat ke roop mein leta hai. isaliye uske kavya mein utsah, avesh, vyangya, parajay ke vibhinn svar sunai dete hain. unhonne isi vyapak arth mein apne ko dukh ke gurukul ka snatak kaha hai.
janbal ki ganga mein nahakar saroj ji ki kavita apni sanskritik virasat ke prati jagruk hoti hai aur samprdayik bhedbhav ka virodh karti hai. keval andolan mein gita quran ke saath nahin aati, balki chhandavidhan mein bhi hindi urdu ki lokapriy shaili ka pryog dikhai deta hai aur bhasha mein bhi bolchal ki sajivta prkat hoti hai. yahi mukut bihari saroj ki lokapriyta ka janvadi adhar hai.
ajay tivari

Shipping & Return
  • Over 27,000 Pin Codes Served: Nationwide Delivery Across India!

  • Upon confirmation of your order, items are dispatched within 24-48 hours on business days.

  • Certain books may be delayed due to alternative publishers handling shipping.

  • Typically, orders are delivered within 5-7 days.

  • Delivery partner will contact before delivery. Ensure reachable number; not answering may lead to return.

  • Study the book description and any available samples before finalizing your order.

  • To request a replacement, reach out to customer service via phone or chat.

  • Replacement will only be provided in cases where the wrong books were sent. No replacements will be offered if you dislike the book or its language.

Note: Saturday, Sunday and Public Holidays may result in a delay in dispatching your order by 1-2 days.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products