BackBack
-11%

Nyay Ka Ganit

Rs. 250 Rs. 223

किसी लेखक की दुनिया कितनी विशाल हो सकती है, इस संग्रह के लेखों से उसे समझा जा सकता है। ये लेख विशेषकर तीसरी दुनिया के समाज में एक लेखक की भूमिका का भी मानदंड कहे जा सकते हैं। अरुंधति रॉय भारतीय अंग्रेजी की उन विरल लेखकों में से हैं जिनका... Read More

BlackBlack
Description

किसी लेखक की दुनिया कितनी विशाल हो सकती है, इस संग्रह के लेखों से उसे समझा जा सकता है। ये लेख विशेषकर तीसरी दुनिया के समाज में एक लेखक की भूमिका का भी मानदंड कहे जा सकते हैं। अरुंधति रॉय भारतीय अंग्रेजी की उन विरल लेखकों में से हैं जिनका सारा रचनाकर्म अपने सामाजिक सरोकार से उपजा है। इन लेखों को पढ़ते हुए जो बात उभरकर आती है, वह यह कि वही लेखक वैश्विक दृष्टिवाला हो सकता है जिसकी जड़ें अपने समाज में हों। यही वह स्रोत है जो किसी लेखक की आवाज को मजबूती देता है और नैतिक बल से पुष्ट करता है। क्या यह अकारण है कि जिस दृढ़ता से मध्य प्रदेश के आदिवासियों के हक में हम अरुंधति की आवाज सुन सकते हैं, उसी बुलन्दी से वह रेड इंडियनों या आस्ट्रेलिया के आदिवासियों के पक्ष में भी सुनी जा सकती है। तात्पर्य यह है कि परमाणु बम हो या बोध का मसला, अफगानिस्तान हो या इराक, जब वह अपनी बात कह रही होती हैं, उसे अनसुना-अनदेखा नहीं किया जा सकता। वह ऐसी विश्व-मानव हैं जिसकी प्रतिबद्धता संस्कृति, धर्म, सम्प्रदाय, राष्ट्र और भूगोल की सीमाओं को लाँघती नजर आती है। ये लेख भारतीय सत्ता प्रतिष्ठान से लेकर सर्वशक्तिमान अमरीकी सत्ता प्रतिष्ठान तक के निहित स्वार्थों और क्रिया-कलापों पर समान ताकत से आक्रमण करते हुए उनके जन विरोधी कार्यों को उद्घाटित कर असली चेहरे को हमारे सामने रख देते हैं। एक रचनात्मक लेखक के चुटीलेपन, संवेदनशीलता, सघनता व दृष्टि-सम्पन्नता के अलावा इन लेखों में पत्रकारिता की रवानगी और उस शोधकर्ता का-सा परिश्रम और सजगता है जो अपने तर्क को प्रस्तुत करने के दौरान शायद ही किसी तथ्य का इस्तेमाल करने से चूकता हो।
यह मात्र संयोग है कि संग्रह के लेख पिछली सदी के अन्त और नई सदी के शुरुआती वर्षों में लिखे गए हैं। ये सत्ताओं के दमन और शोषण की विश्वव्यापी प्रवृत्तियों, ताकतवर की मनमानी व हिंसा तथा नव-साम्राज्यवादी मंशाओं के उस बोझ की ओर पूरी तीव्रता से हमारा ध्यान खींचते हैं जो नई सदी के कन्धों पर जाते हुए और भारी होता नजर आ रहा है। अरुंधति रॉय इस अमानुषिक और बर्बर होते खतरनाक समय को मात्र चित्रित नहीं करती हैं, उसके प्रति हमें आगाह भी करती हैं : यह समय मूक दर्शक बने रहने का नहीं है।
–पंकज बिष्ट Kisi lekhak ki duniya kitni vishal ho sakti hai, is sangrah ke lekhon se use samjha ja sakta hai. Ye lekh visheshkar tisri duniya ke samaj mein ek lekhak ki bhumika ka bhi mandand kahe ja sakte hain. Arundhati rauy bhartiy angreji ki un viral lekhkon mein se hain jinka sara rachnakarm apne samajik sarokar se upja hai. In lekhon ko padhte hue jo baat ubharkar aati hai, vah ye ki vahi lekhak vaishvik drishtivala ho sakta hai jiski jaden apne samaj mein hon. Yahi vah srot hai jo kisi lekhak ki aavaj ko majbuti deta hai aur naitik bal se pusht karta hai. Kya ye akaran hai ki jis dridhta se madhya prdesh ke aadivasiyon ke hak mein hum arundhati ki aavaj sun sakte hain, usi bulandi se vah red indiynon ya aastreliya ke aadivasiyon ke paksh mein bhi suni ja sakti hai. Tatparya ye hai ki parmanu bam ho ya bodh ka masla, aphganistan ho ya irak, jab vah apni baat kah rahi hoti hain, use anasuna-andekha nahin kiya ja sakta. Vah aisi vishv-manav hain jiski pratibaddhta sanskriti, dharm, samprday, rashtr aur bhugol ki simaon ko langhati najar aati hai. Ye lekh bhartiy satta prtishthan se lekar sarvshaktiman amriki satta prtishthan tak ke nihit svarthon aur kriya-kalapon par saman takat se aakrman karte hue unke jan virodhi karyon ko udghatit kar asli chehre ko hamare samne rakh dete hain. Ek rachnatmak lekhak ke chutilepan, sanvedanshilta, saghanta va drishti-sampannta ke alava in lekhon mein patrkarita ki ravangi aur us shodhkarta ka-sa parishram aur sajagta hai jo apne tark ko prastut karne ke dauran shayad hi kisi tathya ka istemal karne se chukta ho. Ye matr sanyog hai ki sangrah ke lekh pichhli sadi ke ant aur nai sadi ke shuruati varshon mein likhe ge hain. Ye sattaon ke daman aur shoshan ki vishvavyapi prvrittiyon, takatvar ki manmani va hinsa tatha nav-samrajyvadi manshaon ke us bojh ki or puri tivrta se hamara dhyan khinchte hain jo nai sadi ke kandhon par jate hue aur bhari hota najar aa raha hai. Arundhati rauy is amanushik aur barbar hote khatarnak samay ko matr chitrit nahin karti hain, uske prati hamein aagah bhi karti hain : ye samay muk darshak bane rahne ka nahin hai.
–pankaj bisht