Nithalle Ki Diary

Regular price Rs. 185
Sale price Rs. 185 Regular price Rs. 199
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Nithalle Ki Diary

Nithalle Ki Diary

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

हरिशंकर परसाई हिन्दी के अकेले ऐसे व्यंग्यकार रहे हैं जिन्होंने आनन्द को व्यंग्य का साध्य न बनने देने की सर्वाधिक सचेत कोशिश की। उनकी एक-एक पंक्ति एक सोद्देश्य टिप्पणी के रूप में अपना स्थान बनाती है। स्थितियों के भीतर छिपी विसंगतियों के प्रकटीकरण के लिए वे कई बार अतिरंजना का आश्रय लेते हैं, लेकिन, तब भी यथार्थ के ठोस सन्दर्भों की धमक हमें लगातार सुनाई पड़ती रहती है। लगातार हमें यह एहसास होता रहता है कि जो विद्रूप हमारे सामने प्रस्तुत किया जा रहा है, उस पर सिर्फ ‘दिल खोलकर’ हँसने की नहीं, थोड़ा गम्भीर होकर सोचने की हमसे अपेक्षा की जा रही है। यही परसाई के पाठ की विशिष्टता है।
‘निठल्ले की डायरी’ में भी उनके ऐसे ही व्यंग्य शामिल हैं। आडंबर, हिप्पोक्रेसी, दोमुँहापन और ढोंग यहाँ भी उनकी क़लम के निशाने पर हैं। Harishankar parsai hindi ke akele aise vyangykar rahe hain jinhonne aanand ko vyangya ka sadhya na banne dene ki sarvadhik sachet koshish ki. Unki ek-ek pankti ek soddeshya tippni ke rup mein apna sthan banati hai. Sthitiyon ke bhitar chhipi visangatiyon ke praktikran ke liye ve kai baar atiranjna ka aashray lete hain, lekin, tab bhi yatharth ke thos sandarbhon ki dhamak hamein lagatar sunai padti rahti hai. Lagatar hamein ye ehsas hota rahta hai ki jo vidrup hamare samne prastut kiya ja raha hai, us par sirph ‘dil kholkar’ hansane ki nahin, thoda gambhir hokar sochne ki hamse apeksha ki ja rahi hai. Yahi parsai ke path ki vishishtta hai. ‘nithalle ki dayri’ mein bhi unke aise hi vyangya shamil hain. Aadambar, hippokresi, domunhapan aur dhong yahan bhi unki qalam ke nishane par hain.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Based on 2 reviews
100%
(2)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
d
dinesh gupta
jarror padhein

Parsai ji ka koi jod nahi hai. vyngya lekhan me unko maharath hasil hai

M
Manmohan Singh Bashera
इसमें सिर्फ हास्य ही नहीं अपितु बहुत कुछ है

हलाकि यह किताब काफी वर्षो पहले लिखी गयी थी परन्तु आज के कालखंड में भी बिलकुल सही बैठती है।
यह सिर्फ व्यंग मात्र नहीं है अपितु आपको सोचने पर भी विवश कर देती है।

Related Products

Recently Viewed Products