BackBack
-11%

Nishachar

Bhishma Sahni

Rs. 395 Rs. 352

भीष्म साहनी ने बतौर कथाकार जो रास्ता चुना, उसके आधार पर अगर उन्हें पथ-प्रवर्तक कहा जाए तो वह ग़लत इसलिए होगा कि उसका अनुकरण हर किसी के लिए सहज नहीं है। बह रास्ता स्वयं सहजता का है, और उस पर चलने की हर सचेत कोशिश अपको न सिर्फ़ असहज, बल्कि... Read More

BlackBlack
Description

भीष्म साहनी ने बतौर कथाकार जो रास्ता चुना, उसके आधार पर अगर उन्हें पथ-प्रवर्तक कहा जाए तो वह ग़लत इसलिए होगा कि उसका अनुकरण हर किसी के लिए सहज नहीं है। बह रास्ता स्वयं सहजता का है, और उस पर चलने की हर सचेत कोशिश अपको न सिर्फ़ असहज, बल्कि अमौलिक भी कर देगी।
वह सहजता जीवन के स्व-भाव से आती है जिसे आप अपने परिवेश के बीचोबीच रहते हुए अर्जित भी नहीं करते, सिर्फ़ स्वीकार करते हैं। यथार्थ के प्रति यह स्वीकृति-भाव ही द्रष्टा को यथार्थ के सम्पूर्ण तक ले जाता है। यह यह आश्चर्यजनक है कि प्रगतिशील विचारधारा में प्रशिक्षित भीष्म जी ने अपने कथाकार को कभी इस स्वीकृति-भाव से वंचित नहीं किया।
अपनी हर कथा-रचना की तरह इस संग्रह की कहानियों में भी भीष्म जी ने दृष्टि की उस विराटता का परिचय दिया है। वर्ष 1983 में प्रकाशित इस संग्रह में उनकी प्रसिद्ध कहानियों में से एक ‘चाचा मंगलसेन’ भी है। साथ ही ‘जहूर बख्श’, ‘सरदारनी’ और 'सलमा आपा’ सहित कुल चौदह कहानियों से सम्पन्न यह पुस्तक सम्बन्धों के बनते-बिगड़ते रूपों और उनके मध्य अकुंठ खड़ी मानवीय जिजीविषा के अनेक आत्मीय और करुण चित्र हमें देती है। ये कहानियाँ गहरे संघर्ष के बाबजूद पलायन नहीं करने की ज़‍िद को भी रेखांकित करती हैं और वीभत्स के सम्मुख खड़े सौन्दर्य को भी। Bhishm sahni ne bataur kathakar jo rasta chuna, uske aadhar par agar unhen path-prvartak kaha jaye to vah galat isaliye hoga ki uska anukran har kisi ke liye sahaj nahin hai. Bah rasta svayan sahajta ka hai, aur us par chalne ki har sachet koshish apko na sirf ashaj, balki amaulik bhi kar degi. Vah sahajta jivan ke sv-bhav se aati hai jise aap apne parivesh ke bichobich rahte hue arjit bhi nahin karte, sirf svikar karte hain. Yatharth ke prati ye svikriti-bhav hi drashta ko yatharth ke sampurn tak le jata hai. Ye ye aashcharyajnak hai ki pragatishil vichardhara mein prshikshit bhishm ji ne apne kathakar ko kabhi is svikriti-bhav se vanchit nahin kiya.
Apni har katha-rachna ki tarah is sangrah ki kahaniyon mein bhi bhishm ji ne drishti ki us viratta ka parichay diya hai. Varsh 1983 mein prkashit is sangrah mein unki prsiddh kahaniyon mein se ek ‘chacha mangalsen’ bhi hai. Saath hi ‘jahur bakhsh’, ‘sardarni’ aur salma aapa’ sahit kul chaudah kahaniyon se sampann ye pustak sambandhon ke bante-bigadte rupon aur unke madhya akunth khadi manviy jijivisha ke anek aatmiy aur karun chitr hamein deti hai. Ye kahaniyan gahre sangharsh ke babjud palayan nahin karne ki za‍id ko bhi rekhankit karti hain aur vibhats ke sammukh khade saundarya ko bhi.