Look Inside
Nirvasit
Nirvasit
Nirvasit
Nirvasit

Nirvasit

Regular price Rs. 163
Sale price Rs. 163 Regular price Rs. 175
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Nirvasit

Nirvasit

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

प्रस्तुत उपन्यास की कथा का आरम्भ उस समय से होता है जब द्वितीय महायुद्ध अपनी प्रारम्भिक अवस्था में था और उसकी छाया भारत में पूरी तरह से नहीं पड़ी थी। तब मध्यवर्गीय समाज के जीवन से रोमान्स की रंगीनी एकदम उठ नहीं गई थी। इसमें सन्देह नहीं कि उस रंगीनी को युद्धजनित प्रतिक्रिया की विभीषिका का अस्पष्ट आभास किंचित् म्लान करने लगा था, पर अभी उस म्लान छायाभास ने सघन रूप धारण नहीं किया था।
एक ओर मध्यवर्गीय समाज अभी तक उसी युग की भावनाओं, संस्कारों और मान्यताओं से बँधा हुआ था जब प्रथम महायुद्धजनित प्रतिक्रियाओं की पूर्ण समाप्ति के बाद प्रतिदिन के जीवन की साधारण सुख-सुविधाओं में एक प्रकार की ऊपरी स्थिरता-सी मालूम होने लगी थी, और यद्यपि समाज के भीतर-ही-भीतर स्वयं उसके अज्ञात में—आग निरन्तर धधकती चली जा रही थी।
कहानी जब द्वितीय स्थिति पर पहुँचती है, तब एक ओर सन् बयालीस के अगस्त आन्दोलन का दमनचक्रपूर्ण सघन वातावरण भारतीय आकाश को भाराक्रान्त किए हुए था। दूसरी ओर महायुद्ध की प्रतिक्रिया का परिपूर्ण प्रकोप पूरे प्रवेग से देश की जनता के ऊपर टूट पड़ा था। केवल पूँजीपति और ज़मींदा़र वर्ग को छोड़कर और सभी वर्ग इन दो पाटों के बीच में बुरी तरह पिसने लगे थे।
उपन्यास की तीसरी और अन्तिम स्थिति तब आती है जब द्वितीय महायुद्ध तो समाप्त हो जाता है, किन्तु समाप्ति के साथ ही अणु-बम के आविष्कार द्वारा तृतीय महायुद्ध के छायापात की सूचना भी दे जाता है।
उपन्यास के नायक का जीवन उन तीनों परिस्थितियों से होकर गुज़रता है। उन तीनों परिस्थितियों में, अपने संघर्षमय जीवन के बीच में, वह किन-किन और किस प्रकार के पात्रों तथा यात्रियों के सम्पर्क में आता है, जीवन के किन जटिल-जाल-संकुल पथों से होकर विचरण करता है, किन-किन घटना-चक्रों का सामना उसे करना पड़ता है और उनकी क्या-क्या और कैसी प्रतिक्रियाएँ उसके भीतर होती हैं, इन्हीं सब बातों का चित्रण करने का प्रयत्न इस उपन्यास में किया गया है। Prastut upanyas ki katha ka aarambh us samay se hota hai jab dvitiy mahayuddh apni prarambhik avastha mein tha aur uski chhaya bharat mein puri tarah se nahin padi thi. Tab madhyvargiy samaj ke jivan se romans ki rangini ekdam uth nahin gai thi. Ismen sandeh nahin ki us rangini ko yuddhajnit prtikriya ki vibhishika ka aspasht aabhas kinchit mlan karne laga tha, par abhi us mlan chhayabhas ne saghan rup dharan nahin kiya tha. Ek or madhyvargiy samaj abhi tak usi yug ki bhavnaon, sanskaron aur manytaon se bandha hua tha jab prtham mahayuddhajnit prtikriyaon ki purn samapti ke baad pratidin ke jivan ki sadharan sukh-suvidhaon mein ek prkar ki uupri sthirta-si malum hone lagi thi, aur yadyapi samaj ke bhitar-hi-bhitar svayan uske agyat men—ag nirantar dhadhakti chali ja rahi thi.
Kahani jab dvitiy sthiti par pahunchati hai, tab ek or san bayalis ke agast aandolan ka damanchakrpurn saghan vatavran bhartiy aakash ko bharakrant kiye hue tha. Dusri or mahayuddh ki prtikriya ka paripurn prkop pure prveg se desh ki janta ke uupar tut pada tha. Keval punjipati aur zamindar varg ko chhodkar aur sabhi varg in do paton ke bich mein buri tarah pisne lage the.
Upanyas ki tisri aur antim sthiti tab aati hai jab dvitiy mahayuddh to samapt ho jata hai, kintu samapti ke saath hi anu-bam ke aavishkar dvara tritiy mahayuddh ke chhayapat ki suchna bhi de jata hai.
Upanyas ke nayak ka jivan un tinon paristhitiyon se hokar guzarta hai. Un tinon paristhitiyon mein, apne sangharshmay jivan ke bich mein, vah kin-kin aur kis prkar ke patron tatha yatriyon ke sampark mein aata hai, jivan ke kin jatil-jal-sankul pathon se hokar vichran karta hai, kin-kin ghatna-chakron ka samna use karna padta hai aur unki kya-kya aur kaisi prtikriyayen uske bhitar hoti hain, inhin sab baton ka chitran karne ka pryatn is upanyas mein kiya gaya hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products