Look Inside
Nirala Sahitya Mein Pratirodh Ke Swar
Nirala Sahitya Mein Pratirodh Ke Swar
Nirala Sahitya Mein Pratirodh Ke Swar
Nirala Sahitya Mein Pratirodh Ke Swar

Nirala Sahitya Mein Pratirodh Ke Swar

Regular price Rs. 460
Sale price Rs. 460 Regular price Rs. 495
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Nirala Sahitya Mein Pratirodh Ke Swar

Nirala Sahitya Mein Pratirodh Ke Swar

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

प्रस्तुत पुस्तक प्रतिरोध की संस्कृति के ऐतिहासिक विकासक्रम में निराला की प्रतिरोधी चेतना को उनके समग्र रचनात्मक जगत में चिन्हित करती है। कहना न होगा कि निराला के साहित्य की गहरी समझ और साफ़-सुथरी वैचारिकी के नाते अनायास ही यह किताब रामविलास जी का स्मरण कराती है। रामविलास जी के प्रभाव के बतौर हम देखते हैं कि यह किताब, जीवन-संघर्ष और रचना दोनों के जटिल अन्तर्द्वन्द्वों के रिश्तों को समझते हुए आगे बढ़ती है।
निराला की कविताओं पर काफ़ी काम हुए हैं पर विवेक यहाँ निराला के कविता-संसार में अन्य पहलुओं के साथ ही दलित और स्त्री अस्मिताओं की महत्त्वपूर्ण शिनाख़्त भी करते हैं। कथा-साहित्य में निराला के उपन्यासों और कहानियों में यथार्थवाद की गहरी समझ को चिन्हित करते हुए विवेक, निराला के गहन समयबोध को निराला के ही शब्दों में रेखांकित करते हैं—“...यह लड़ाई जनता की लड़ाई है और फ़ासिज़्म के ख़िलाफ़ विजय पाना हमारे और विश्व के कल्याण के लिए ज़रूरी है।”
निराला की यह चिन्ता आज हमारे लिए और अधिक प्रासंगिक हो जाती है जब विकास और धर्मान्धता साथ-साथ फल-फूल रहे हैं और फासीवादी ख़तरा एकदम आसन्न है। निराला के शोषण-विरोधी चिन्तन पर लिखा गया अंश किताब का बेहतरीन हिस्सा है। विवेक इस हिस्से में निराला के कम चर्चित पर बेहद महत्त्वपूर्ण लेखों के सहारे उनकी निःशंक साम्राज्यवाद-विरोधी, सामन्तवाद-विरोधी दृष्टि पर प्रकाश डालते हैं। अपने समकाल की राजनैतिक हलचलों, वैश्विक स्थितियों और उपनिवेशवादी शासन की गहरी समझ निराला के चिन्तनपरक लेखों में मौजूद है।
विवेक ने इस पुस्तक में निराला की रचनाओं के नए अस्मिता केन्द्रित पाठ पर सवालिया निशान लगाते हुए निराला को उद्‌धृत किया है—“तोड़कर फेंक दीजिए जनेऊ जिसकी आज कोई उपयोगिता नहीं, जो बड़प्पन का भ्रम पैदा करता है और सम स्वर से कहिए कि आप उतनी ही मर्यादा रखते हैं जितना आपका नीच से नीच पड़ोसी चमार या भंगी रखता है।” यह पुस्तक भारतीय आधुनिक साहित्य की शोषणविरोधी परम्परा को बढ़ाने में निराला के योग को बेहतरीन ढंग से रेखांकित करती है। इसे पढ़ना एक विचारोत्तेजक अनुभव से गुज़रना है।
—मृत्युंजय Prastut pustak pratirodh ki sanskriti ke aitihasik vikasakram mein nirala ki pratirodhi chetna ko unke samagr rachnatmak jagat mein chinhit karti hai. Kahna na hoga ki nirala ke sahitya ki gahri samajh aur saf-suthri vaichariki ke nate anayas hi ye kitab ramavilas ji ka smran karati hai. Ramavilas ji ke prbhav ke bataur hum dekhte hain ki ye kitab, jivan-sangharsh aur rachna donon ke jatil antardvandvon ke rishton ko samajhte hue aage badhti hai. Nirala ki kavitaon par kafi kaam hue hain par vivek yahan nirala ke kavita-sansar mein anya pahaluon ke saath hi dalit aur stri asmitaon ki mahattvpurn shinakht bhi karte hain. Katha-sahitya mein nirala ke upanyason aur kahaniyon mein yatharthvad ki gahri samajh ko chinhit karte hue vivek, nirala ke gahan samaybodh ko nirala ke hi shabdon mein rekhankit karte hain—“. . . Ye ladai janta ki ladai hai aur fasizm ke khilaf vijay pana hamare aur vishv ke kalyan ke liye zaruri hai. ”
Nirala ki ye chinta aaj hamare liye aur adhik prasangik ho jati hai jab vikas aur dharmandhta sath-sath phal-phul rahe hain aur phasivadi khatra ekdam aasann hai. Nirala ke shoshan-virodhi chintan par likha gaya ansh kitab ka behatrin hissa hai. Vivek is hisse mein nirala ke kam charchit par behad mahattvpurn lekhon ke sahare unki niःshank samrajyvad-virodhi, samantvad-virodhi drishti par prkash dalte hain. Apne samkal ki rajanaitik halachlon, vaishvik sthitiyon aur upaniveshvadi shasan ki gahri samajh nirala ke chintanaprak lekhon mein maujud hai.
Vivek ne is pustak mein nirala ki rachnaon ke ne asmita kendrit path par savaliya nishan lagate hue nirala ko ud‌dhrit kiya hai—“todkar phenk dijiye janeu jiski aaj koi upyogita nahin, jo badappan ka bhram paida karta hai aur sam svar se kahiye ki aap utni hi maryada rakhte hain jitna aapka nich se nich padosi chamar ya bhangi rakhta hai. ” ye pustak bhartiy aadhunik sahitya ki shoshanavirodhi parampra ko badhane mein nirala ke yog ko behatrin dhang se rekhankit karti hai. Ise padhna ek vicharottejak anubhav se guzarna hai.
—mrityunjay

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products