Nirala Rachanawali : Vols. 1-8

Regular price Rs. 12,085
Sale price Rs. 12,085 Regular price Rs. 12,995
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Nirala Rachanawali : Vols. 1-8

Nirala Rachanawali : Vols. 1-8

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

निराला “आरम्भ से ही विद्रोही कवि के रूप में हिन्दी में दिखाई पड़े। गतानुगतिकता के प्रति तीव्र विद्रोह उनकी कविताओं में आदि से अन्त तक बना रहा। व्यक्तित्व की जैसी निर्बाध अभिव्यक्ति इनकी रचनाओं में हुई है, वैसी अन्य छायावादी कवियों में नहीं हुई।...सर्वत्र व्यक्तित्व की अत्यन्त पुरुष अभिव्यक्ति ही निराला की कविताओं का प्रधान आकर्षण है। फिर भी विरोधाभास यह है कि निराला में अपने व्यक्तित्व को सबसे अलग करके अभिव्यक्त करने की चेतना सबसे कम है।...यह ध्यान देने की बात है कि निराला जी के आरम्भिक प्रयोग छन्द के बन्धन से मुक्ति पाने का प्रयास है। छन्द के बन्धनों के प्रति विद्रोह करके उन्होंने उस मध्ययुगीन मनोवृत्ति पर ही पहला आघात किया था जो छन्द और कविता को प्राय: समानार्थक समझने लगी थी।...परन्तु निराला जी ने जब छन्दों के प्रति विद्रोह किया तो उनका उद्देश्य छन्द की अनुपयोगिता बताना नहीं था। वे केवल कविता में भावों की—व्यक्तिगत अनुभूति के भावों की—स्वछन्द अभिव्यक्ति को महत्त्व देना चाहते थे। जिसे वे मुक्तछन्द कहते थे, उसमें भी एक प्रकार की झंकार और एक प्रकार का ताल विद्यमान है। परिमल की जिन रचनाओं में वस्तु-व्यंजना की ओर कवि का ध्यान है, उनमें उनका व्यक्तित्व स्पष्ट नहीं हुआ किन्तु ‘तुम और मैं’, ‘जूही की कली’ जैसी कविताओं में उनकी कल्पना उनके आवेगों के साथ होड़ करती है। यही कारण है कि ये कविताएँ बहुत लोकप्रिय हुई हैं। बड़े कथात्मक प्रयोगों में निराला जी को अधिक सफलता मिली। वे पन्त की तरह अत्यधिक वैयक्तिकतावादी कवि नहीं हैं। बड़े आख्यानों—जैसे काव्य-विषय में उन्हें वस्तु-व्यंजना का भी अवसर मिला है और कल्पना के पंख पसारने का भी मौक़ा मिल जाता है। इसीलिए उनमें निराला अधिक सफल हुए हैं। ‘तुलसीदास’, ‘राम की शक्तिपूजा’ और ‘सरोज-स्मृति’ जैसी कविताएँ उनकी सर्वोत्तम कृतियाँ हैं। इनमें भाषा का
अद्भुत प्रवाह पाठक को निरन्तर व्यस्त बनाए रहता है। कल्पना यहाँ आवेगों के सामने फीकी लगती है।”
—हजारी प्रसाद द्विवेदी
‘परिमल’, ‘गीतिका’, ‘अनामिका’ और ‘तुलसीदास’ नामक काव्यकृतियों को सँजोए हुए रचनावली का यह खंड महाकवि की पूर्ववर्ती काव्य-साधना का सजीव साक्ष्य प्रस्तुत करता है। विचार-समृद्ध भावोद्रेक और सहज उदात्त स्वर निराला-काव्य की विशिष्ट पहचान है और अपनी काव्य-साधना के माध्यम से उन्होंने वस्तुओं एवं घटनाओं के भीतर पैठकर असाधारण रूप से भावात्मक सत्य का सन्धान किया है। Nirala “arambh se hi vidrohi kavi ke rup mein hindi mein dikhai pade. Gatanugatikta ke prati tivr vidroh unki kavitaon mein aadi se ant tak bana raha. Vyaktitv ki jaisi nirbadh abhivyakti inki rachnaon mein hui hai, vaisi anya chhayavadi kaviyon mein nahin hui. . . . Sarvatr vyaktitv ki atyant purush abhivyakti hi nirala ki kavitaon ka prdhan aakarshan hai. Phir bhi virodhabhas ye hai ki nirala mein apne vyaktitv ko sabse alag karke abhivyakt karne ki chetna sabse kam hai. . . . Ye dhyan dene ki baat hai ki nirala ji ke aarambhik pryog chhand ke bandhan se mukti pane ka pryas hai. Chhand ke bandhnon ke prati vidroh karke unhonne us madhyayugin manovritti par hi pahla aaghat kiya tha jo chhand aur kavita ko pray: samanarthak samajhne lagi thi. . . . Parantu nirala ji ne jab chhandon ke prati vidroh kiya to unka uddeshya chhand ki anupyogita batana nahin tha. Ve keval kavita mein bhavon ki—vyaktigat anubhuti ke bhavon ki—svchhand abhivyakti ko mahattv dena chahte the. Jise ve muktchhand kahte the, usmen bhi ek prkar ki jhankar aur ek prkar ka taal vidyman hai. Parimal ki jin rachnaon mein vastu-vyanjna ki or kavi ka dhyan hai, unmen unka vyaktitv spasht nahin hua kintu ‘tum aur main’, ‘juhi ki kali’ jaisi kavitaon mein unki kalpna unke aavegon ke saath hod karti hai. Yahi karan hai ki ye kavitayen bahut lokapriy hui hain. Bade kathatmak pryogon mein nirala ji ko adhik saphalta mili. Ve pant ki tarah atydhik vaiyaktiktavadi kavi nahin hain. Bade aakhyanon—jaise kavya-vishay mein unhen vastu-vyanjna ka bhi avsar mila hai aur kalpna ke pankh pasarne ka bhi mauqa mil jata hai. Isiliye unmen nirala adhik saphal hue hain. ‘tulsidas’, ‘ram ki shaktipuja’ aur ‘saroj-smriti’ jaisi kavitayen unki sarvottam kritiyan hain. Inmen bhasha kaAdbhut prvah pathak ko nirantar vyast banaye rahta hai. Kalpna yahan aavegon ke samne phiki lagti hai. ”
—hajari prsad dvivedi
‘parimal’, ‘gitika’, ‘anamika’ aur ‘tulsidas’ namak kavyakritiyon ko sanjoe hue rachnavli ka ye khand mahakavi ki purvvarti kavya-sadhna ka sajiv sakshya prastut karta hai. Vichar-samriddh bhavodrek aur sahaj udatt svar nirala-kavya ki vishisht pahchan hai aur apni kavya-sadhna ke madhyam se unhonne vastuon evan ghatnaon ke bhitar paithkar asadharan rup se bhavatmak satya ka sandhan kiya hai.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products