Look Inside
Ninyaanve
Ninyaanve

Ninyaanve

Regular price ₹ 175
Sale price ₹ 175 Regular price ₹ 175
Unit price
Save 0%
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Ninyaanve

Ninyaanve

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description
निन्यानवे - 'निन्यानवे' राष्ट्रीय विघटन का एक रूपक है। यह स्वातन्त्र्योत्तर समाज की क्रमिक टूटन को एक परिवार की कहानी के माध्यम से रूपायित करता है। इसका काल 1857 के स्वतन्त्रता संग्राम से 1992 के बाबरी मस्जिद विध्वंस तक है। परिवार का एक पुरखा 1857 के संग्राम में अपने पिता और परिवार को खोकर झाँसी के बाहर जंगल में घास खाता है और अगली सदी के अन्तिम दशक में उसी परिवार का एक पुत्र अपने शहर में नेता और ठेकेदार बनता है और अपने पुश्तैनी घर को बेचने की योजना बनाता है ताकि उसके निन्यानवे लाख एक करोड़ हो जायें उसे विधवा माँ की चिन्ता नहीं है। यह आत्म-केन्द्रित मध्यवर्गीय उपभोक्तावाद पर भी एक तीख़ी टिप्पणी है। इस सन्तान का नाम हरि है जिसका नाम उसके पिता उसके चाचा के नाम पर रखते हैं जो चन्द्रशेखर आज़ाद के क्रान्तिकारी दल में थे और एक बम-परीक्षण में मारे गये थे। हरि के पिता रामदयाल राष्ट्रीय आन्दोलन में कई बार जेल गये थे। आज़ादी के बाद शिक्षक रामदयाल पहले समाजवादी सपना देखते हैं, फिर अपने परिवार और समाज का टूटना। हरि का बड़ा भाई बलराम है जो एक मुस्लिम लड़की से शादी करता है और लखनऊ में रहते हुए बाबरी मस्जिद विध्वंस की विडम्बनाएँ झेलता है। रामदयाल अपने बेटे हरि में जो क्रान्तिकारी भाई का सपना देखते हैं, उसकी तामीर 'निन्यानवे' की दहशत में होती है जिससे बाबरी विध्वंस की जाने की कथा जुड़ी है। यह उपन्यास इस सदी में हमारी स्वातन्त्र्योत्तर त्रासदी का आभ्यन्तरीकरण है। हिन्दी कथा-परिदृश्य में अपनी छोटी कहानियों की गहरी काव्यात्मकता और सूक्ष्म रचना-दृष्टि के लिए विख्यात लेखक की कथा-भाषा इस उपन्यास में अपने चरम विकास पर है। यह बहु-आयामी भाषा है, जो एक साथ कई स्तरों पर चलती है और मानवीय नियति से उसकी सम्पूर्णता में साक्षात करती है। ninyanveninyanve rashtriy vightan ka ek rupak hai. ye svatantryottar samaj ki krmik tutan ko ek parivar ki kahani ke madhyam se rupayit karta hai. iska kaal 1857 ke svtantrta sangram se 1992 ke babri masjid vidhvans tak hai. parivar ka ek purkha 1857 ke sangram mein apne pita aur parivar ko khokar jhansi ke bahar jangal mein ghaas khata hai aur agli sadi ke antim dashak mein usi parivar ka ek putr apne shahar mein neta aur thekedar banta hai aur apne pushtaini ghar ko bechne ki yojna banata hai taki uske ninyanve laakh ek karoD ho jayen use vidhva maan ki chinta nahin hai.
ye aatm kendrit madhyvargiy upbhoktavad par bhi ek tikhi tippni hai.
is santan ka naam hari hai jiska naam uske pita uske chacha ke naam par rakhte hain jo chandrshekhar azad ke krantikari dal mein the aur ek bam parikshan mein mare gaye the. hari ke pita ramadyal rashtriy andolan mein kai baar jel gaye the. azadi ke baad shikshak ramadyal pahle samajvadi sapna dekhte hain, phir apne parivar aur samaj ka tutna. hari ka baDa bhai balram hai jo ek muslim laDki se shadi karta hai aur lakhanuu mein rahte hue babri masjid vidhvans ki viDambnayen jhelta hai.

ramadyal apne bete hari mein jo krantikari bhai ka sapna dekhte hain, uski tamir ninyanve ki dahshat mein hoti hai jisse babri vidhvans ki jane ki katha juDi hai.
ye upanyas is sadi mein hamari svatantryottar trasdi ka abhyantrikran hai.
hindi katha paridrishya mein apni chhoti kahaniyon ki gahri kavyatmakta aur sookshm rachna drishti ke liye vikhyat lekhak ki katha bhasha is upanyas mein apne charam vikas par hai. ye bahu ayami bhasha hai, jo ek saath kai stron par chalti hai aur manviy niyati se uski sampurnta mein sakshat karti hai.

Shipping & Return
  • Over 27,000 Pin Codes Served: Nationwide Delivery Across India!

  • Upon confirmation of your order, items are dispatched within 24-48 hours on business days.

  • Certain books may be delayed due to alternative publishers handling shipping.

  • Typically, orders are delivered within 5-7 days.

  • Delivery partner will contact before delivery. Ensure reachable number; not answering may lead to return.

  • Study the book description and any available samples before finalizing your order.

  • To request a replacement, reach out to customer service via phone or chat.

  • Replacement will only be provided in cases where the wrong books were sent. No replacements will be offered if you dislike the book or its language.

Note: Saturday, Sunday and Public Holidays may result in a delay in dispatching your order by 1-2 days.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products