Look Inside
Nimnavargiya Prasang : Vol. 1
Nimnavargiya Prasang : Vol. 1
Nimnavargiya Prasang : Vol. 1
Nimnavargiya Prasang : Vol. 1
Nimnavargiya Prasang : Vol. 1
Nimnavargiya Prasang : Vol. 1
Nimnavargiya Prasang : Vol. 1
Nimnavargiya Prasang : Vol. 1
Nimnavargiya Prasang : Vol. 1
Nimnavargiya Prasang : Vol. 1
Nimnavargiya Prasang : Vol. 1
Nimnavargiya Prasang : Vol. 1
Nimnavargiya Prasang : Vol. 1
Nimnavargiya Prasang : Vol. 1
Nimnavargiya Prasang : Vol. 1
Nimnavargiya Prasang : Vol. 1

Nimnavargiya Prasang : Vol. 1

Regular price ₹ 512
Sale price ₹ 512 Regular price ₹ 550
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.
Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Nimnavargiya Prasang : Vol. 1

Nimnavargiya Prasang : Vol. 1

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

‘निम्नवर्गीय प्रसंग’ एक ऐसी रचना है जिसमें निम्न वर्ग अर्थात् आम जनता—ग़रीब किसान, चरवाहा, कामगार, स्त्री समाज, दलित जातियों—के संघर्षों और विचार को बहुत क़रीब से समझने का प्रयास किया गया है। यह रचना अभिजन के दायरे से बाहर जाकर निम्न वर्ग की ऐतिहासिक प्रक्रियाओं को परखने के साथ–साथ, अभिजन और निम्न जन की प्रक्रियाओं को दो अलग–अलग पटरियों पर न धकेलकर, इन दोनों के पारस्परिक सम्बन्ध, आश्रय और द्वन्द्व के आधार पर उपनिवेश काल की हमारी समझ को गतिशील करती है।
दरअसल निम्नवर्गीय इतिहास एक सफल और चौंका देनेवाला प्रयोग है जिसके तहत भारतीय समाज में प्रभुत्व और मातहती के बहुआयामी रूप सामने आते हैं। वर्ग-संघर्ष और आर्थिक द्वन्द्व को कोरी आर्थिकता (Economism) के कठघरे से आज़ाद कर उसके सामाजिक और सांस्कृतिक प्रतिरूपों और विशिष्टताओं का इसमें गहराई के साथ विवेचन किया गया
है।
इस पुस्तक में स्वतंत्रता संग्राम, गांधी का माहात्म्य, किसान आन्दोलन, मज़दूर वर्ग की परिस्थितियाँ, आदिवासी स्वाभिमान और आत्माग्रह, निचली जातियों के सामाजिक–राजनीतिक और वैचारिक विकल्प जैसे अहम मुद्दों पर विवेकपूर्ण तर्क और निष्कर्षों से युक्त अद्वितीय सामग्री का संयोजन किया गया है।
‘निम्नवर्गीय प्रसंग : भाग-2’ आम जनता से सम्बन्धित नए इतिहास को लेकर चल रही अन्तरराष्ट्रीय बहस को आगे बढ़ाने का प्रयास है। 1982 में भारतीय इतिहास को लेकर की गई यह पहल, आज भारत ही नहीं, वरन् ‘तीसरी दुनिया’ के अन्य इतिहासकारों और संस्कृतिकर्मियों के लिए एक चुनौती और ध्येय दोनों है। हाल ही में सबॉल्टर्न स्टडीज़ शृंखला से जुड़े भारतीय उपनिवेशी इतिहास पर केन्द्रित लेखों का अनुवाद स्पैनिश, फ़्रेंच और जापानी भाषाओं में हुआ
है।
प्रस्तुत संकलन के लेख आम जनता से सम्बन्धित आधे-अधूरे स्रोतों को आधार बनाकर, किस प्रकार की मीमांसाओं, संरचनाओं के ज़रिए एक नया इतिहास लिखा जा सकता है, इसकी अनुभूति कराते हैं।
रणजीत गुहा का निबन्ध ‘चन्द्रा की मौत’ 1849 के एक पुलिस-केस के आंशिक इक़रारनामों की बिना पर भारतीय समाज के निम्नस्थ स्तर पर स्त्री-पुरुष प्रेम-सम्बन्धों की विषमताओं का मार्मिक चित्रण है। ज्ञान प्रकाश दक्षिण बिहार के बँधुआ, कमिया-जनों की दुनिया में झाँकते हैं कि ये लोग अपनी अधीनस्थता को दिनचर्या और लोक-विश्वास में कैसे आत्मसात् करते हुए ‘मालिकों’ को किस प्रकार चुनौती भी देते हैं। गौतम भद्र 1857 के चार अदना, पर महत्त्वपूर्ण बागियों की जीवनी और कारनामों को उजागर करते हैं। डेविड आर्नल्ड उपनिवेशी प्लेग सम्बन्धी डॉक्टरी और सामाजिक हस्तक्षेप को उत्पीड़ित भारतीयों के निजी आईनों में उतारते हैं, वहीं पार्थ चटर्जी राष्ट्रवादी नज़रिए में भारतीय महिला की भूमिका की पैनी समीक्षा करते हैं।
इस संकलन के लेख अन्य प्रश्न भी उठाते हैं। अधिकृत ऐतिहासिक महानायकों के उद्घोषों, कारनामों और संस्मरण पोथियों के बरक्स किस प्रकार वैकल्पिक इतिहास का सृजन मुमकिन है? लोक, व्यक्तिगत, या फिर पारिवारिक याददाश्त के ज़रिए ‘सर्वविदित' घटनाओं को कैसे नए सिरे से आँका जाए? हिन्दी में नए इतिहास-लेखन का क्या स्वरूप हो? नए इतिहास की भाषा क्या हो? ऐसे अहम सवालों से जूझते हुए ये लेख हिन्दी पाठकों के लिए अद्वितीय सामग्री का संयोजन करते हैं। ‘nimnvargiy prsang’ ek aisi rachna hai jismen nimn varg arthat aam janta—garib kisan, charvaha, kamgar, stri samaj, dalit jatiyon—ke sangharshon aur vichar ko bahut qarib se samajhne ka pryas kiya gaya hai. Ye rachna abhijan ke dayre se bahar jakar nimn varg ki aitihasik prakriyaon ko parakhne ke sath–sath, abhijan aur nimn jan ki prakriyaon ko do alag–alag patariyon par na dhakelkar, in donon ke parasprik sambandh, aashray aur dvandv ke aadhar par upanivesh kaal ki hamari samajh ko gatishil karti hai. Darasal nimnvargiy itihas ek saphal aur chaunka denevala pryog hai jiske tahat bhartiy samaj mein prbhutv aur matahti ke bahuayami rup samne aate hain. Varg-sangharsh aur aarthik dvandv ko kori aarthikta (economism) ke kathaghre se aazad kar uske samajik aur sanskritik pratirupon aur vishishttaon ka ismen gahrai ke saath vivechan kiya gaya
Hai.
Is pustak mein svtantrta sangram, gandhi ka mahatmya, kisan aandolan, mazdur varg ki paristhitiyan, aadivasi svabhiman aur aatmagrah, nichli jatiyon ke samajik–rajnitik aur vaicharik vikalp jaise aham muddon par vivekpurn tark aur nishkarshon se yukt advitiy samagri ka sanyojan kiya gaya hai.
‘nimnvargiy prsang : bhag-2’ aam janta se sambandhit ne itihas ko lekar chal rahi antarrashtriy bahas ko aage badhane ka pryas hai. 1982 mein bhartiy itihas ko lekar ki gai ye pahal, aaj bharat hi nahin, varan ‘tisri duniya’ ke anya itihaskaron aur sanskritikarmiyon ke liye ek chunauti aur dhyey donon hai. Haal hi mein sabaultarn stdiz shrinkhla se jude bhartiy upaniveshi itihas par kendrit lekhon ka anuvad spainish, french aur japani bhashaon mein hua
Hai.
Prastut sanklan ke lekh aam janta se sambandhit aadhe-adhure sroton ko aadhar banakar, kis prkar ki mimansaon, sanrachnaon ke zariye ek naya itihas likha ja sakta hai, iski anubhuti karate hain.
Ranjit guha ka nibandh ‘chandra ki maut’ 1849 ke ek pulis-kes ke aanshik iqrarnamon ki bina par bhartiy samaj ke nimnasth star par stri-purush prem-sambandhon ki vishamtaon ka marmik chitran hai. Gyan prkash dakshin bihar ke bandhua, kamiya-janon ki duniya mein jhankate hain ki ye log apni adhinasthta ko dincharya aur lok-vishvas mein kaise aatmsat karte hue ‘malikon’ ko kis prkar chunauti bhi dete hain. Gautam bhadr 1857 ke char adna, par mahattvpurn bagiyon ki jivni aur karnamon ko ujagar karte hain. Devid aarnald upaniveshi pleg sambandhi dauktri aur samajik hastakshep ko utpidit bhartiyon ke niji aainon mein utarte hain, vahin parth chatarji rashtrvadi nazariye mein bhartiy mahila ki bhumika ki paini samiksha karte hain.
Is sanklan ke lekh anya prashn bhi uthate hain. Adhikrit aitihasik mahanaykon ke udghoshon, karnamon aur sansmran pothiyon ke baraks kis prkar vaikalpik itihas ka srijan mumkin hai? lok, vyaktigat, ya phir parivarik yaddasht ke zariye ‘sarvavidit ghatnaon ko kaise ne sire se aanka jaye? hindi mein ne itihas-lekhan ka kya svrup ho? ne itihas ki bhasha kya ho? aise aham savalon se jujhte hue ye lekh hindi pathkon ke liye advitiy samagri ka sanyojan karte hain.

Shipping & Return
  • Over 27,000 Pin Codes Served: Nationwide Delivery Across India!

  • Upon confirmation of your order, items are dispatched within 24-48 hours on business days.

  • Certain books may be delayed due to alternative publishers handling shipping.

  • Typically, orders are delivered within 5-7 days.

  • Delivery partner will contact before delivery. Ensure reachable number; not answering may lead to return.

  • Study the book description and any available samples before finalizing your order.

  • To request a replacement, reach out to customer service via phone or chat.

  • Replacement will only be provided in cases where the wrong books were sent. No replacements will be offered if you dislike the book or its language.

Note: Saturday, Sunday and Public Holidays may result in a delay in dispatching your order by 1-2 days.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products