Nij Brahma Vichar : Dharm, Samaaj Aur Dharmetar Adhyatma

Regular price Rs. 367
Sale price Rs. 367 Regular price Rs. 395
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Nij Brahma Vichar : Dharm, Samaaj Aur Dharmetar Adhyatma

Nij Brahma Vichar : Dharm, Samaaj Aur Dharmetar Adhyatma

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

धर्म के सामान्य अनुयायी, साधारण आस्थावान् लोग हों या धर्म को हिंसक राजनीति में बदलनेवाले चतुर सुजान, धर्म के अध्येता हों या कठोर आलोचक और घोर विरोधी—अपने सारे मतभेदों के बावजूद इनमें से अधिकांश एक बात पर सहमत हैं। वह यह कि धर्म और अध्यात्म एक ही सिक्के के दो पहलू हैं। या तो अध्यात्म फ़िज़ूल की बात है, या फिर धर्म ही अध्यात्म का एकमात्र आधार और माध्यम है। या तो अध्यात्म का आशय है—समाजनिरपेक्ष आत्मलीनता या अध्यात्म का अर्थ है प्रतिक्रियावादी रहस्यवाद। दोनों में से किसी भी तर्क-पद्धति को अपनाइए, निष्कर्ष पहले से तय है : यदि अध्यात्म के प्रश्नों में आपकी दिलचस्पी है तो आप धर्म को अपनाइए; यदि आप धर्म से असुविधा महसूस करते हैं तो अध्यात्म को भी साथ-साथ ख़ारिज कर दीजिए।
परस्पर विरोधी तर्क-पद्धतियों का निष्कर्ष के धरातल पर यह सामंजस्य अद्भुत है। धर्मेतर अध्यात्म की सम्भावनाओं पर विचार का प्रस्ताव, जो यह पुस्तक आपको देती है, विरुद्धों के इस सामंजस्य से टकराने का, और हो सके तो इसके परे जाने का प्रस्ताव है।
पिछले एक साल से भी ज़्यादा समय से दैनिक ‘जनसत्ता’ में चिन्‍तक-आलोचक
डॉ. पुरुषोत्तम अग्रवाल का चर्चित कॉलम ‘मुखामुखम’ एक समग्रबोध की साधना करने की भरसक कोशिश करता रहा है। सैद्धान्तिक प्रश्नों से जूझने से लेकर अटलांटा, वर्धा और गोपेश्वर के अनुभव-संवेदनों को पाठकों के सामने प्रस्तुत करने तक के रूप में ये लेख लगातार उत्सुकता के साथ पढ़े गए। जाने-माने बुद्धिजीवियों से लेकर पाठकों तक सभी ने इनमें विशेष दिलचस्पी ज़ाहिर की। बहसें भी हुईं। शुरुआती एक वर्ष (मई 2003-मई 2004) में प्रकाशित चर्चित लेख यहाँ पुस्तक रूप में प्रस्तुत हैं। लेखक ने इनमें वे आवश्यक पाद-टिप्पणियाँ और सन्‍दर्भोल्लेख भी जोड़ दिए हैं, जो अख़बार में नहीं आ सकते थे, लेकिन ज़रूरी थे। Dharm ke samanya anuyayi, sadharan aasthavan log hon ya dharm ko hinsak rajniti mein badalnevale chatur sujan, dharm ke adhyeta hon ya kathor aalochak aur ghor virodhi—apne sare matbhedon ke bavjud inmen se adhikansh ek baat par sahmat hain. Vah ye ki dharm aur adhyatm ek hi sikke ke do pahlu hain. Ya to adhyatm fizul ki baat hai, ya phir dharm hi adhyatm ka ekmatr aadhar aur madhyam hai. Ya to adhyatm ka aashay hai—samajanirpeksh aatmlinta ya adhyatm ka arth hai prtikriyavadi rahasyvad. Donon mein se kisi bhi tark-paddhati ko apnaiye, nishkarsh pahle se tay hai : yadi adhyatm ke prashnon mein aapki dilchaspi hai to aap dharm ko apnaiye; yadi aap dharm se asuvidha mahsus karte hain to adhyatm ko bhi sath-sath kharij kar dijiye. Paraspar virodhi tark-paddhatiyon ka nishkarsh ke dharatal par ye samanjasya adbhut hai. Dharmetar adhyatm ki sambhavnaon par vichar ka prastav, jo ye pustak aapko deti hai, viruddhon ke is samanjasya se takrane ka, aur ho sake to iske pare jane ka prastav hai.
Pichhle ek saal se bhi zyada samay se dainik ‘jansatta’ mein chin‍tak-alochak
Dau. Purushottam agrval ka charchit kaulam ‘mukhamukham’ ek samagrbodh ki sadhna karne ki bharsak koshish karta raha hai. Saiddhantik prashnon se jujhne se lekar atlanta, vardha aur gopeshvar ke anubhav-sanvednon ko pathkon ke samne prastut karne tak ke rup mein ye lekh lagatar utsukta ke saath padhe ge. Jane-mane buddhijiviyon se lekar pathkon tak sabhi ne inmen vishesh dilchaspi zahir ki. Bahsen bhi huin. Shuruati ek varsh (mai 2003-mai 2004) mein prkashit charchit lekh yahan pustak rup mein prastut hain. Lekhak ne inmen ve aavashyak pad-tippaniyan aur san‍darbhollekh bhi jod diye hain, jo akhbar mein nahin aa sakte the, lekin zaruri the.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products