Look Inside
Nihshabd Noopur : Rumi Ki 100 Gazalein
Nihshabd Noopur : Rumi Ki 100 Gazalein
Nihshabd Noopur : Rumi Ki 100 Gazalein
Nihshabd Noopur : Rumi Ki 100 Gazalein

Nihshabd Noopur : Rumi Ki 100 Gazalein

Regular price Rs. 1,204
Sale price Rs. 1,204 Regular price Rs. 1,295
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Nihshabd Noopur : Rumi Ki 100 Gazalein

Nihshabd Noopur : Rumi Ki 100 Gazalein

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

रूमी ईरान के सर्वाधिक प्रसिद्ध कवि हैं। उनकी ग़ज़लें ऊर्जस्वी काव्य के दुर्लभ उदाहरणों में से हैं। रूमी की ग़ज़लें सामान्य कविताओं की तुलना में अलग हैं। इनकी प्रत्येक ग़ज़ल का हर शे’र आत्म-अनुभूति की परिपूर्णता से उच्छलित है। इनकी कविता केवल काव्यात्मक चमत्कारों को प्रदर्शित कर पाठकों को लुब्ध करने में पर्यवसित नहीं होती, बल्कि दिल से निकलकर मस्तिष्क और हृदय को भिगोती हुई आत्मा तक का स्पर्श कर लेती है। प्रस्तुत पुस्तक उनकी चुनिन्दा 100 ग़ज़लों का अनुवाद है। इस पुस्तक के माध्यम से रूमी पहली बार सीधे फ़ारसी से हिन्दी में अनूदित हुए हैं। इसमें सबसे पहले फ़ारसी ग़ज़लों का देवनागरी में लिप्यन्तरण प्रस्तुत किया गया है, फिर साथ में ही उनका हिन्दी अनुवाद दिया गया है। अन्त में मूल ग़ज़लें फ़ारसी लिपि में भी रखी गई हैं। पुस्तक के अन्त में दिए गए अनेक परिशिष्टों के माध्यम से फ़ारसी काव्य-भाषा को समझने के महत्त्वपूर्ण उपकरण जुटाए गए हैं। ग़ज़लों में प्रयुक्त सभी छन्दों को ईरानी तथा भारतीय काव्यशास्त्रीय रीति से समझाया गया है। क्लासिकल फ़ारसी कविता के सम्यक् परिचय के लिए आवश्यक संक्षिप्त फ़ारसी व्याकरण जोड़ा गया है। अन्त में प्रत्येक शब्द का अर्थ भी दिया गया है। इस प्रकार मूल से जुड़े रसपूर्ण अनुवाद की प्रस्तुति के साथ ही यह पुस्तक रूमी-रीडर के तौर पर भी उपयोग में आने योग्य है। Rumi iiran ke sarvadhik prsiddh kavi hain. Unki gazlen uurjasvi kavya ke durlabh udaharnon mein se hain. Rumi ki gazlen samanya kavitaon ki tulna mein alag hain. Inki pratyek gazal ka har she’ra aatm-anubhuti ki paripurnta se uchchhlit hai. Inki kavita keval kavyatmak chamatkaron ko prdarshit kar pathkon ko lubdh karne mein paryavsit nahin hoti, balki dil se nikalkar mastishk aur hriday ko bhigoti hui aatma tak ka sparsh kar leti hai. Prastut pustak unki chuninda 100 gazlon ka anuvad hai. Is pustak ke madhyam se rumi pahli baar sidhe farsi se hindi mein anudit hue hain. Ismen sabse pahle farsi gazlon ka devnagri mein lipyantran prastut kiya gaya hai, phir saath mein hi unka hindi anuvad diya gaya hai. Ant mein mul gazlen farsi lipi mein bhi rakhi gai hain. Pustak ke ant mein diye ge anek parishishton ke madhyam se farsi kavya-bhasha ko samajhne ke mahattvpurn upakran jutaye ge hain. Gazlon mein pryukt sabhi chhandon ko iirani tatha bhartiy kavyshastriy riti se samjhaya gaya hai. Klasikal farsi kavita ke samyak parichay ke liye aavashyak sankshipt farsi vyakran joda gaya hai. Ant mein pratyek shabd ka arth bhi diya gaya hai. Is prkar mul se jude raspurn anuvad ki prastuti ke saath hi ye pustak rumi-ridar ke taur par bhi upyog mein aane yogya hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products