BackBack
-11%

Nigahon Ke Saye

Jaan Nisar Akhtar, Ed. Vijay Akela

Rs. 250 Rs. 223

जाँ निसार अख़्तर फरवरी, 1914 को खैराबाद, ज़िला—सीतापुर में जन्म हुआ। पिता मुज़्तर खैराबादी उर्दू के प्रसिद्ध कवियों में से थे और घर का वातावरण साहित्यिक होने के कारण उनमें बचपन से ही शे’र कहने की रुचि पैदा हुई और दस-ग्यारह वर्ष की आयु से कविता करने लगे। सन् 1939... Read More

BlackBlack
Description

जाँ निसार अख़्तर
फरवरी, 1914 को खैराबाद, ज़िला—सीतापुर में जन्म हुआ। पिता मुज़्तर खैराबादी उर्दू के प्रसिद्ध कवियों में से थे और घर का वातावरण साहित्यिक होने के कारण उनमें बचपन से ही शे’र कहने की रुचि पैदा हुई और दस-ग्यारह वर्ष की आयु से कविता करने लगे। सन् 1939 में अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय से एम.ए. करने के बाद विक्टोरिया कॉलेज, ग्वालियर में उर्दू के प्राध्यापक नियुक्त हुए, किन्तु 1947 में साम्प्रदायिक दंगे छिड़ जाने से त्याग-पत्र देकर भोपाल चले गए और वहाँ हमीदिया कॉलेज के उर्दू-फ़ारसी विभाग के अध्यक्ष बने। फिर 1950 में वहाँ से त्याग-पत्र देकर बम्बई चले गए। प्रारम्भ के रूमानी काव्य में धीरे-धीरे क्रान्तिकारी तत्त्वों का मिश्रण होता गया और वे यथार्थवाद की ओर बढ़ते गए। साम्राज्यवाद का विरोध और स्वदेश-प्रेम की भावना से इनकी कविता ओत-प्रोत रही। दूसरा महायुद्ध, आर्थिक दुर्दशा, राजनीतिक स्वाधीनता, विश्वशान्ति और ऐसी ही अनेक घटनाएँ हैं जिनको ‘अख़्तर’ ने वाणी प्रदान की। आज के जीवन-संघर्ष को वे कल के नव-निर्माण का सूचक मानते थे। उनके काव्य में सामाजिक यथार्थ का गहरा बोध परिलक्षित होता है और उनके काव्य का लक्ष्य वह मानव है जो प्रकृति पर विजय प्राप्त कर सुन्दर, सरस और सन्तुलित जीवन के निर्माण के लिए संघर्षशील है। उनके कला-बोध की परिपक्वता एक ओर तो उनकी सम्पन्न विरासत और दूसरी ओर उर्दू-फ़ारसी साहित्य के गहन अध्ययन की देन है। प्रस्तुत पुस्तक का विषय-चयन तथा काव्य-सम्‍पादन उनकी उपर्युक्त विशेषताओं का ही परिणाम है। वे वर्षों फ़िल्म-जगत से सम्बद्ध रहे और उनके अनेक फ़िल्मी गीत विशेषतः लोकप्रिय हुए।
निधन: 18 अगस्त, 1976 Jan nisar akhtarPharavri, 1914 ko khairabad, zila—sitapur mein janm hua. Pita muztar khairabadi urdu ke prsiddh kaviyon mein se the aur ghar ka vatavran sahityik hone ke karan unmen bachpan se hi she’ra kahne ki ruchi paida hui aur das-gyarah varsh ki aayu se kavita karne lage. San 1939 mein aligadh muslim vishvvidyalay se em. e. Karne ke baad viktoriya kaulej, gvaliyar mein urdu ke pradhyapak niyukt hue, kintu 1947 mein samprdayik dange chhid jane se tyag-patr dekar bhopal chale ge aur vahan hamidiya kaulej ke urdu-farsi vibhag ke adhyaksh bane. Phir 1950 mein vahan se tyag-patr dekar bambii chale ge. Prarambh ke rumani kavya mein dhire-dhire krantikari tattvon ka mishran hota gaya aur ve yatharthvad ki or badhte ge. Samrajyvad ka virodh aur svdesh-prem ki bhavna se inki kavita ot-prot rahi. Dusra mahayuddh, aarthik durdsha, rajnitik svadhinta, vishvshanti aur aisi hi anek ghatnayen hain jinko ‘akhtar’ ne vani prdan ki. Aaj ke jivan-sangharsh ko ve kal ke nav-nirman ka suchak mante the. Unke kavya mein samajik yatharth ka gahra bodh parilakshit hota hai aur unke kavya ka lakshya vah manav hai jo prkriti par vijay prapt kar sundar, saras aur santulit jivan ke nirman ke liye sangharshshil hai. Unke kala-bodh ki paripakvta ek or to unki sampann virasat aur dusri or urdu-farsi sahitya ke gahan adhyyan ki den hai. Prastut pustak ka vishay-chayan tatha kavya-sam‍padan unki uparyukt visheshtaon ka hi parinam hai. Ve varshon film-jagat se sambaddh rahe aur unke anek filmi git visheshatः lokapriy hue.
Nidhan: 18 agast, 1976