Look Inside
Nibandhon Ki Duniya : Jainendra Kumar
Nibandhon Ki Duniya : Jainendra Kumar

Nibandhon Ki Duniya : Jainendra Kumar

Regular price ₹ 125
Sale price ₹ 125 Regular price ₹ 125
Unit price
Save 0%
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Nibandhon Ki Duniya : Jainendra Kumar

Nibandhon Ki Duniya : Jainendra Kumar

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description
जैनेन्द्र कुमार - निबन्धों की दुनिया – ऐसे निबन्धों में कहानीकार जैनेन्द्र पाठक का हाथ पकड़कर जिस यात्रा पर निकलता है उसमें कुछ दूर जाकर उसे चिन्तक जैनेन्द्र को पकड़ा देता है और ख़ुद एक तरफ़ हो जाता है। उनके निबन्धों में कहानीकार और विचारक जैनेन्द्र को यह आवाजाही बराबर बनी रहती है। इस कौशल का सबसे प्रभावी रूप उनके निबन्ध 'जड़ की बात' में दिखाई पड़ता है। बात इस दृश्य के वर्णन से शुरू होती है कि एक रोज़ सड़क के किनारे धूप में एक आदमी पड़ा है, जो हड्डियों का ढाँचा रह गया है और मिनटों का मेहमान है। चलती सड़क पर आते जाते लोग उसकी तरफ़ देखते और बढ़ जाते हैं। उसी सड़क पर एक मोटर चलते-चलते रुकती है। उसमें से उतरकर दो आदमी पीछे की ओर जाते हैं जहाँ उन्हें एक रुपया सड़क पर पड़ा मिलता है। इस रुपए को उन्होंने शायद चलती मोटर से देखा था। वे उसी के लिए मोटर से उतरे थे। कहने का यह शुरुआती अन्दाज़ कहानीकार का है। पर इस वास्तविक या कल्पित दृश्य पर टिप्पणी बौद्धिक की है: "आदमी मरने के लिए आदमी की ओर से छुट्टी पा गया है। कारण, पैसे की क़ीमत है। आदमी की क़ीमत नहीं है।" यहीं से सूत्र निबन्धकार के हाथ में आ जाता है क्योंकि वह जानना चाहता है कि "यह अनर्थ कैसे होने में आया?" इस प्रश्न के घेरे में जवाबदेही के लिए व्यवस्था, शासन, समूचा तन्त्र, वे सब आ जाते हैं जो समाज में असमानता के लिए ज़िम्मेदार हैं। जिनके कारण ऐसे दृश्यों की सम्भावना बनती है कि कोई मनुष्य भुखमरी और उपेक्षा से सड़क के किनारे मरने के लिए विवश हो। इसी से व्यवस्था के विरुद्ध घृणा की त्रासकारी शक्तियाँ संघटित होकर मानो क्रान्ति के लिए इकट्ठा होती हैं क्योंकि सत्ता प्रभुता की ही नहीं त्रास की भी होती है। निबन्धों में जैनेन्द्र का यह अन्दाज़ बराबर बना रहा है। jainendr kumar nibandhon ki duniya –
aise nibandhon mein kahanikar jainendr pathak ka haath pakaDkar jis yatra par nikalta hai usmen kuchh door jakar use chintak jainendr ko pakDa deta hai aur khud ek taraf ho jata hai. unke nibandhon mein kahanikar aur vicharak jainendr ko ye avajahi barabar bani rahti hai. is kaushal ka sabse prbhavi roop unke nibandh jaD ki baat mein dikhai paDta hai. baat is drishya ke varnan se shuru hoti hai ki ek roz saDak ke kinare dhoop mein ek aadmi paDa hai, jo haDDiyon ka Dhancha rah gaya hai aur minton ka mehman hai. chalti saDak par aate jate log uski taraf dekhte aur baDh jate hain. usi saDak par ek motar chalte chalte rukti hai. usmen se utarkar do aadmi pichhe ki or jate hain jahan unhen ek rupya saDak par paDa milta hai. is rupe ko unhonne shayad chalti motar se dekha tha. ve usi ke liye motar se utre the.

kahne ka ye shuruati andaz kahanikar ka hai. par is vastvik ya kalpit drishya par tippni bauddhik ki hai: "admi marne ke liye aadmi ki or se chhutti pa gaya hai. karan, paise ki qimat hai. aadmi ki qimat nahin hai. " yahin se sootr nibandhkar ke haath mein aa jata hai kyonki vah janna chahta hai ki "yah anarth kaise hone mein aya?" is prashn ke ghere mein javabdehi ke liye vyvastha, shasan, samucha tantr, ve sab aa jate hain jo samaj mein asmanta ke liye zimmedar hain. jinke karan aise drishyon ki sambhavna banti hai ki koi manushya bhukhamri aur upeksha se saDak ke kinare marne ke liye vivash ho. isi se vyvastha ke viruddh ghrina ki traskari shaktiyan sanghtit hokar mano kranti ke liye ikattha hoti hain kyonki satta prabhuta ki hi nahin traas ki bhi hoti hai.

nibandhon mein jainendr ka ye andaz barabar bana raha hai.


Shipping & Return
  • Over 27,000 Pin Codes Served: Nationwide Delivery Across India!

  • Upon confirmation of your order, items are dispatched within 24-48 hours on business days.

  • Certain books may be delayed due to alternative publishers handling shipping.

  • Typically, orders are delivered within 5-7 days.

  • Delivery partner will contact before delivery. Ensure reachable number; not answering may lead to return.

  • Study the book description and any available samples before finalizing your order.

  • To request a replacement, reach out to customer service via phone or chat.

  • Replacement will only be provided in cases where the wrong books were sent. No replacements will be offered if you dislike the book or its language.

Note: Saturday, Sunday and Public Holidays may result in a delay in dispatching your order by 1-2 days.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products