Neera Ke Liye

Regular price Rs. 166
Sale price Rs. 166 Regular price Rs. 178
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Neera Ke Liye

Neera Ke Liye

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

सुनील गंगोपाध्याय के देहावसान के बाद विश्वनाथ प्रसाद तिवारी ने एक कविता लिखी—‘पत्र जिसे पढ़नेवाला चला गया’। इसकी पंक्तियाँ हैं—‘कौन जाने नीरा का पत्र हो जिसके लिए लिखता रहा वह कविताएँ और कविताएँ और कविताएँ।’
सुनील गंगोपाध्याय की रचनाशीलता में 'नीरा' का एक विचित्र स्थान है। एक साथ ऐन्द्रिक और अतीन्द्रिय। 'नीरा के लिए' कविता-संग्रह में इसका अनुभव किया जा सकता है। प्रस्तुत कविता-संग्रह की भूमिका में सुनील गंगोपाध्याय स्वीकारते हैं, “...तमाम बीते बरसों में नीरा बार-बार घूम-फिरकर आती रही मेरी कविता में। मेरी उम्र ढल रही है पर नीरा आज भी किसी स्थिर चित्र की तरह ‘नव-यौवना’ है। मैं उसे रक्त-मांस की मानवी बनाकर रखना चाहता हूँ पर कभी-कभी अचानक से वह प्रवेश कर जाती है शिल्प की सीमाओं के भीतर।
मैं उसे फिर वापस ले आना चाहता हूँ, उसके पाँव में काँटे चुभ जाते हैं, उसकी आँखों में अश्रु झिलमिलाने लगते हैं। यह दूरी, साथ ही यह आलिंगन की निकटता, नीरा के साथ यह खेल चलता ही रहा है जीवन-भर।”
मूलत: बांग्ला में लिखी इन कविताओं का सोमा बंद्योपाध्याय द्वारा किया गया यह अनुवाद मौलिक आस्वाद प्रदान करता है। आसक्ति व अनासक्ति के बीच विचरण करती अद्भुत कविताओं का प्रीतिकर संग्रह। Sunil gangopadhyay ke dehavsan ke baad vishvnath prsad tivari ne ek kavita likhi—‘patr jise padhnevala chala gaya’. Iski panktiyan hain—‘kaun jane nira ka patr ho jiske liye likhta raha vah kavitayen aur kavitayen aur kavitayen. ’Sunil gangopadhyay ki rachnashilta mein nira ka ek vichitr sthan hai. Ek saath aindrik aur atindriy. Nira ke liye kavita-sangrah mein iska anubhav kiya ja sakta hai. Prastut kavita-sangrah ki bhumika mein sunil gangopadhyay svikarte hain, “. . . Tamam bite barson mein nira bar-bar ghum-phirkar aati rahi meri kavita mein. Meri umr dhal rahi hai par nira aaj bhi kisi sthir chitr ki tarah ‘nav-yauvna’ hai. Main use rakt-mans ki manvi banakar rakhna chahta hun par kabhi-kabhi achanak se vah prvesh kar jati hai shilp ki simaon ke bhitar.
Main use phir vapas le aana chahta hun, uske panv mein kante chubh jate hain, uski aankhon mein ashru jhilamilane lagte hain. Ye duri, saath hi ye aalingan ki nikatta, nira ke saath ye khel chalta hi raha hai jivan-bhar. ”
Mulat: bangla mein likhi in kavitaon ka soma bandyopadhyay dvara kiya gaya ye anuvad maulik aasvad prdan karta hai. Aasakti va anasakti ke bich vichran karti adbhut kavitaon ka pritikar sangrah.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products