BackBack
-10%

Neend Nahin Jaag Nahin

Aniruddh Umat

Rs. 175 Rs. 158

Vani Prakashan

गद्य की आत्मीय परम्परा के रचनाकार अनिरुद्ध उमट का यह नवीनतम उपन्यास है- 'नींद नहीं जाग नहीं।' एक युवती प्रेम और राग की डोर से बँधी अपना एकाकी जीवन जी रही है जिसे संगीत की स्मृति भी अनुराग का उत्ताप याद दिलाती है। अनिरुद्ध उमट अपनी हर रचना में तिलिस्म... Read More

Description

गद्य की आत्मीय परम्परा के रचनाकार अनिरुद्ध उमट का यह नवीनतम उपन्यास है- 'नींद नहीं जाग नहीं।' एक युवती प्रेम और राग की डोर से बँधी अपना एकाकी जीवन जी रही है जिसे संगीत की स्मृति भी अनुराग का उत्ताप याद दिलाती है। अनिरुद्ध उमट अपनी हर रचना में तिलिस्म के तहख़ाने रचते हैं। इस रचना की नायिका अभिसारिका नहीं है, लेकिन जाना, आना, रुकना, प्रतीक्षा करना उसकी नियति है। वह बिस्तर पर आधी चादर बिछाकर लेट जाती है। उसके उदास एकान्त में प्रेम की स्मृति किशोरी अमोनकर के गाये राग ‘सहेला रे, आ मिल गा' के स्वर में बन उठती है। प्रेमी का चला जाना उसे सूने स्टेशन, यशोधरा की प्रतीक्षातुर आँखें और किसी परिचित सिगरेट गन्ध से जोड़ता चलता है। अनिरुद्ध उमट की बेचैन भाषा में प्रेमिका की आकुलता पकड़ने की लपट और छटपटाहट है। ऐसी भाषा कई दशक बाद किसी प्रेम-कहानी में पढ़ने को मिली है। आख़िरी बार निर्मल वर्मा के उपन्यास 'वे दिन' में आत्मीयता, उद्विग्नता और उदासी की त्रिपथगा महसूस की गयी थी। इस बिम्बात्मक कृति में ऊष्मा है, उत्ताप है, रक्तचाप है। कोई आश्चर्य नहीं कि इस छोटी-सी रचना का बड़ा प्रभाव हमारी नसों पर पड़ता है। हम यथार्थवाद के भौतिक शब्दजाल से इतर राजस्थान की खण्डहर हवेली, धोरों, निर्जन स्टेशनों के इन्द्रजाल में फँसे कामना करते हैं कि युवती का प्रेमी वापस आ जाये। अकेले जीवन की जटिल परतों से गुज़रती हुई ‘नींद नहीं जाग नहीं' की नायिका दुखान्त को प्राप्त होती है। इससे पहले अनिरुद्ध उमट अपने दो उपन्यासों से एक विशिष्ट पहचान बना चुके हैं- 'अँधेरी खिड़कियाँ' और 'पीठ पीछे का आँगन' से। विख्यात साहित्यकार कृष्ण बलदेव वैद ने उपन्यास ‘पीठ पीछे का आँगन' पढ़कर कहा था, 'तुमने एक तरह से (फिर) स्थापित कर दिया है कि उपन्यास में अमूर्तन सम्भव ही नहीं, सुन्दर भी हो सकता है, कि प्रयोग अराजकता का पर्याय नहीं, कि प्रयोगवादी उपन्यास भी उपन्यास ही है। साधारण यथार्थ में बगैर भाषा और शिल्प के सहारे, आन्तरिकता के सहारे, मानवीय लाचारियों के सहारे-कहने का मतलब यह है कि तुमने अपने इस काम से मुझे प्रभावित ही नहीं किया, मोह भी लिया।' अक्क महादेवी और मीरा की बेचैनी अपने मन में समोये नायिका अपने कभी न लौटने वाले नायक की प्रतीक्षा में भटक रही है। कथा के कत्थई पृष्ठों के ख़त्म होते-न-होते कथा का अवसान होता है मानो जीवन विदा लेता है। प्रेम की त्रासदी जीवन की त्रासदी में परिणत हो जाती है और हमें लियो टॉलस्टॉय का वह अमर वाक्य याद आ जाता है- 'सुखी परिवार सब एक से होते हैं। हर दुखी परिवार की अलग कहानी होती है।' -ममता कालिया gadya ki atmiy parampra ke rachnakar aniruddh umat ka ye navintam upanyas hai neend nahin jaag nahin. ek yuvti prem aur raag ki Dor se bandhi apna ekaki jivan ji rahi hai jise sangit ki smriti bhi anurag ka uttap yaad dilati hai. aniruddh umat apni har rachna mein tilism ke tahkhane rachte hain. is rachna ki nayika abhisarika nahin hai, lekin jana, aana, rukna, prtiksha karna uski niyati hai. vah bistar par aadhi chadar bichhakar let jati hai. uske udas ekant mein prem ki smriti kishori amonkar ke gaye raag ‘sahela re, aa mil gaa ke svar mein ban uthti hai. premi ka chala jana use sune steshan, yashodhra ki prtikshatur ankhen aur kisi parichit sigret gandh se joDta chalta hai. aniruddh umat ki bechain bhasha mein premika ki akulta pakaDne ki lapat aur chhataptahat hai. aisi bhasha kai dashak baad kisi prem kahani mein paDhne ko mili hai. akhiri baar nirmal varma ke upanyas ve din mein atmiyta, udvignta aur udasi ki tripathga mahsus ki gayi thi. is bimbatmak kriti mein uushma hai, uttap hai, raktchap hai. koi ashcharya nahin ki is chhoti si rachna ka baDa prbhaav hamari nason par paDta hai. hum yatharthvad ke bhautik shabdjal se itar rajasthan ki khanDhar haveli, dhoron, nirjan steshnon ke indrjal mein phanse kamna karte hain ki yuvti ka premi vapas aa jaye. akele jivan ki jatil parton se guzarti hui ‘neend nahin jaag nahin ki nayika dukhant ko praapt hoti hai. isse pahle aniruddh umat apne do upanyason se ek vishisht pahchan bana chuke hain andheri khiDakiyan aur peeth pichhe ka angan se. vikhyat sahitykar krishn baldev vaid ne upanyas ‘peeth pichhe ka angan paDhkar kaha tha, tumne ek tarah se (phir) sthapit kar diya hai ki upanyas mein amurtan sambhav hi nahin, sundar bhi ho sakta hai, ki pryog arajakta ka paryay nahin, ki pryogvadi upanyas bhi upanyas hi hai. sadharan yatharth mein bagair bhasha aur shilp ke sahare, antarikta ke sahare, manviy lachariyon ke sahare kahne ka matlab ye hai ki tumne apne is kaam se mujhe prbhavit hi nahin kiya, moh bhi liya. akk mahadevi aur mera ki bechaini apne man mein samoye nayika apne kabhi na lautne vale nayak ki prtiksha mein bhatak rahi hai. katha ke katthii prishthon ke khatm hote na hote katha ka avsan hota hai mano jivan vida leta hai. prem ki trasdi jivan ki trasdi mein parinat ho jati hai aur hamein liyo taulastauy ka vah amar vakya yaad aa jata hai sukhi parivar sab ek se hote hain. har dukhi parivar ki alag kahani hoti hai. mamta kaliya