BackBack
-11%

Neem Ka Ped

Rahi Masoom Raza

Rs. 299 Rs. 266

“मैं अपनी तरफ़ से इस कहानी में कहानी भी नहीं जोड़ सकता था। इसीलिए इस कहानी में आपको हदें भी दिखाई देंगी और सरहदें भी। नफ़रतों की आग में मोहब्बत के छींटे दिखाई देंगे। सपने दिखाई देंगे तो उनका टूटना भी।...और इन सबके पीछे दिखाई देगी सियासत की काली स्याह... Read More

BlackBlack
Description

“मैं अपनी तरफ़ से इस कहानी में कहानी भी नहीं जोड़ सकता था। इसीलिए इस कहानी में आपको हदें भी दिखाई देंगी और सरहदें भी। नफ़रतों की आग में मोहब्बत के छींटे दिखाई देंगे। सपने दिखाई देंगे तो उनका टूटना भी।...और इन सबके पीछे दिखाई देगी सियासत की काली स्याह दीवार। हिन्दुस्तान की आज़ादी को जिसने निगल लिया। जिसने राज को कभी भी सु-राज नहीं होने दिया। जिसे हम रोज़ झंडे और पहिए के पीछे ढूँढ़ते रहे कि आख़िर उसका निशान कहाँ है? गाँव मदरसा ख़ुर्द और लछमनपुर कलाँ महज़ दो गाँव-भर नहीं हैं और अली ज़ामिन खाँ और मुस्लिम मियाँ की अदावत बस दो ख़ालाज़ाद भाइयों की अदावत नहीं है। ये तो मुझे मुल्कों की अदावत की तरह दिखाई देती है, जिसमें कभी एक का पलड़ा झुकता दिखाई देता है तो कभी दूसरे का और जिसमें न कोई हारता है, न कोई जीतता है। बस, बाक़ी रह जाता है नफ़रत का एक सिलसिला...
“मैं शुक्रगुज़ार हूँ उस नीम के पेड़ का जिसने मुल्क को टुकड़े होते हुए भी देखा और आज़ादी के सपनों को टूटे हुए भी देखा। उसका दर्द बस इतना है कि वह इन सबके बीच मोहब्बत और सुकून की तलाश करता फिर रहा है।” “main apni taraf se is kahani mein kahani bhi nahin jod sakta tha. Isiliye is kahani mein aapko haden bhi dikhai dengi aur sarahden bhi. Nafarton ki aag mein mohabbat ke chhinte dikhai denge. Sapne dikhai denge to unka tutna bhi. . . . Aur in sabke pichhe dikhai degi siyasat ki kali syah divar. Hindustan ki aazadi ko jisne nigal liya. Jisne raaj ko kabhi bhi su-raj nahin hone diya. Jise hum roz jhande aur pahiye ke pichhe dhundhate rahe ki aakhir uska nishan kahan hai? ganv madarsa khurd aur lachhamanpur kalan mahaz do ganv-bhar nahin hain aur ali zamin khan aur muslim miyan ki adavat bas do khalazad bhaiyon ki adavat nahin hai. Ye to mujhe mulkon ki adavat ki tarah dikhai deti hai, jismen kabhi ek ka palda jhukta dikhai deta hai to kabhi dusre ka aur jismen na koi harta hai, na koi jitta hai. Bas, baqi rah jata hai nafrat ka ek silasila. . . “main shukraguzar hun us nim ke ped ka jisne mulk ko tukde hote hue bhi dekha aur aazadi ke sapnon ko tute hue bhi dekha. Uska dard bas itna hai ki vah in sabke bich mohabbat aur sukun ki talash karta phir raha hai. ”