Look Inside
Nayi Kavita Aur Astitwavad
Nayi Kavita Aur Astitwavad
Nayi Kavita Aur Astitwavad
Nayi Kavita Aur Astitwavad

Nayi Kavita Aur Astitwavad

Regular price Rs. 925
Sale price Rs. 925 Regular price Rs. 995
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Nayi Kavita Aur Astitwavad

Nayi Kavita Aur Astitwavad

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

डॉ. रामविलास शर्मा ने इस महत्त्वपूर्ण कृति में यह स्पष्ट किया है कि ‘नयी कविता’ के विकास की क्या प्रक्रिया रही तथा अस्तित्ववादी भावबोध ने इसे किस प्रकार और किस हद तक प्रभावित किया है। ‘तार सप्तक’ के पहले और बाद की नयी कविता की विषयवस्तु और इसके स्वरूप का विवेचन करते हुए इसमें इसकी अन्तर्वर्ती धाराओं का भी परिचय दिया गया है, साथ ही तत्त्ववाद की मूल दार्शनिक मान्यताओं की रोशनी में लेखक ने यह सिद्ध करने का प्रयास किया है कि ‘हिन्दी में अस्तित्ववाद एक अराजकतावादी धारा है’, तथा अस्तित्ववादी कवियों ने प्रायः ‘समस्त इतिहास की व्यर्थता’ सिद्ध करते हुए ‘पूँजीवादी दृष्टिकोण से यथार्थ को देखा और परखा’ है। इसी क्रम में उनका यह सन्तोष ज़ाहिर करना भी महत्त्व रखता है कि ‘हिन्दी में पिछले बीस साल में बहुत-सी कविता अस्तित्ववाद से अलग हटकर हुई है।’
नयी कविता के मुख्य स्वरों को प्रस्तुत ग्रन्थ में बड़ी प्रामाणिकता और ईमानदारी के साथ रेखांकित किया गया है तथा अज्ञेय, शमशेर, मुक्तिबोध और नागार्जुन जैसे प्रमुख कवियों के लिए अलग-अलग अध्याय देकर उनके कृतित्व का पैना विश्लेषण किया है। ‘मुक्तिबोध का पुनर्मूल्यांकन’ शीर्षक विस्तृत लेख मुक्तिबोध को ज़्यादा तर्कसंगत दृष्टि से प्रस्तुत करता है। साथ ही इस नये संस्करण में पहली बार शामिल एक और महत्त्वपूर्ण लेख ‘कविता में यथार्थवाद और नयी कविता’ हिन्दी कविता की यथार्थवादी धारा को फिर से पहचानने का आग्रह करता है, जिसमें नागार्जुन और केदारनाथ अग्रवाल की कविता पर विस्तार से विचार किया गया है। Dau. Ramavilas sharma ne is mahattvpurn kriti mein ye spasht kiya hai ki ‘nayi kavita’ ke vikas ki kya prakriya rahi tatha astitvvadi bhavbodh ne ise kis prkar aur kis had tak prbhavit kiya hai. ‘tar saptak’ ke pahle aur baad ki nayi kavita ki vishayvastu aur iske svrup ka vivechan karte hue ismen iski antarvarti dharaon ka bhi parichay diya gaya hai, saath hi tattvvad ki mul darshnik manytaon ki roshni mein lekhak ne ye siddh karne ka pryas kiya hai ki ‘hindi mein astitvvad ek arajaktavadi dhara hai’, tatha astitvvadi kaviyon ne prayः ‘samast itihas ki vyarthta’ siddh karte hue ‘punjivadi drishtikon se yatharth ko dekha aur parkha’ hai. Isi kram mein unka ye santosh zahir karna bhi mahattv rakhta hai ki ‘hindi mein pichhle bis saal mein bahut-si kavita astitvvad se alag hatkar hui hai. ’Nayi kavita ke mukhya svron ko prastut granth mein badi pramanikta aur iimandari ke saath rekhankit kiya gaya hai tatha agyey, shamsher, muktibodh aur nagarjun jaise prmukh kaviyon ke liye alag-alag adhyay dekar unke krititv ka paina vishleshan kiya hai. ‘muktibodh ka punarmulyankan’ shirshak vistrit lekh muktibodh ko zyada tarksangat drishti se prastut karta hai. Saath hi is naye sanskran mein pahli baar shamil ek aur mahattvpurn lekh ‘kavita mein yatharthvad aur nayi kavita’ hindi kavita ki yatharthvadi dhara ko phir se pahchanne ka aagrah karta hai, jismen nagarjun aur kedarnath agrval ki kavita par vistar se vichar kiya gaya hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products