Look Inside
Naye Patte
Naye Patte
Naye Patte
Naye Patte

Naye Patte

Regular price Rs. 233
Sale price Rs. 233 Regular price Rs. 250
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Naye Patte

Naye Patte

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

निराला का दूसरे चरण का काव्य भी दो दौरों से गुज़रा है। उसके पहले दौर में ‘कुकुरमुत्ता’ (प्रथम संस्करण) और ‘अणिमा’ की कविताएँ रची गई हैं और उसके दूसरे दौर में ‘बेला’ और ‘नये पत्ते’ की कविताएँ। निराला के पहले चरण के तीसरे दौर की कविताओं में ही उनका यथार्थवादी रुझान प्रबलतर होता हुआ दिखलाई पड़ता है। उसी का विकास दूसरे चरण के पहले दौर की कविताओं में देखने को मिलता है। निराला बहुत ही संश्लिष्ट भाव-बोध के कवि थे, इसलिए वे इस दौर में भी गीत-रचना करते रहते हैं।
‘अणिमा’ की अनेक रचनाएँ इस बात का प्रमाण प्रस्तुत करती हैं कि निराला का सामाजिक यथार्थ का ज्ञान प्रौढ़तर हुआ है। इससे उनका यथार्थवाद नये उत्कर्ष को प्राप्त करता है, जिसे हम ‘नये पत्ते’ की नई कविताओं में, जिनका सम्बन्ध किसानों से है, स्पष्टता से देखते हैं। यह निराला-काव्य की नई मंजिल है। इसी कारण हमने ‘बेला’, ‘नये पत्ते’ की कविताओं को उनके दूसरे चरण के काव्य के दूसरे दौर की कविताएँ माना है।
निराला का यथार्थवाद ‘नये पत्ते’ की ‘कुत्ता भौंकने लगा’, ‘झींगुर डटकर बोला’, ‘छलाँग मारता चला गया’, ‘डिप्टी साहब आए’ और ‘महगू महगा रहा’ जैसी कविताओं में बुलन्दी पर पहुँचता है।
—नन्दकिशोर नवल (निराला रचनावली की भूमिका से)। Nirala ka dusre charan ka kavya bhi do dauron se guzra hai. Uske pahle daur mein ‘kukurmutta’ (prtham sanskran) aur ‘anima’ ki kavitayen rachi gai hain aur uske dusre daur mein ‘bela’ aur ‘naye patte’ ki kavitayen. Nirala ke pahle charan ke tisre daur ki kavitaon mein hi unka yatharthvadi rujhan prabaltar hota hua dikhlai padta hai. Usi ka vikas dusre charan ke pahle daur ki kavitaon mein dekhne ko milta hai. Nirala bahut hi sanshlisht bhav-bodh ke kavi the, isaliye ve is daur mein bhi git-rachna karte rahte hain. ‘anima’ ki anek rachnayen is baat ka prman prastut karti hain ki nirala ka samajik yatharth ka gyan praudhtar hua hai. Isse unka yatharthvad naye utkarsh ko prapt karta hai, jise hum ‘naye patte’ ki nai kavitaon mein, jinka sambandh kisanon se hai, spashtta se dekhte hain. Ye nirala-kavya ki nai manjil hai. Isi karan hamne ‘bela’, ‘naye patte’ ki kavitaon ko unke dusre charan ke kavya ke dusre daur ki kavitayen mana hai.
Nirala ka yatharthvad ‘naye patte’ ki ‘kutta bhaunkne laga’, ‘jhingur datkar bola’, ‘chhalang marta chala gaya’, ‘dipti sahab aae’ aur ‘mahgu mahga raha’ jaisi kavitaon mein bulandi par pahunchata hai.
—nandakishor naval (nirala rachnavli ki bhumika se).

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products