Look Inside
Navshati Hindi Vyakaran
Navshati Hindi Vyakaran
Navshati Hindi Vyakaran
Navshati Hindi Vyakaran

Navshati Hindi Vyakaran

Regular price Rs. 460
Sale price Rs. 460 Regular price Rs. 495
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Navshati Hindi Vyakaran

Navshati Hindi Vyakaran

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

हमारी भाषा की सबसे बड़ी विडम्बना यह है कि इसमें भाषा को निर्मित और विकसित करनेवाले देशज तत्त्वों की घोर उपेक्षा की जाती है। रचनात्मक साहित्य का एक हिस्सा भले ही ऐसा नहीं हो, लेकिन शेष लेखन पर तो अंग्रेज़ी भाषा का प्रभाव साफ़ दिखलाई पड़ता है। कहन और शैली ही नहीं, भाषा के स्वरूप का ज्ञान करानेवाला हमारा व्याकरण भी अंग्रेज़ी भाषा के व्याकरणिक ढाँचे से आवश्यकता से अधिक जकड़ा हुआ है। हालाँकि, पिछले कुछ दशकों से हिन्दी की प्रकृति और प्रवृत्ति के अनुरूप व्याकरण प्रस्तुत करने के प्रयास होने लगे हैं। लेखक की इस पुस्तक को इसी प्रयास के क्रम में देखा जाना चाहिए।
भाषाविद् तथा कोशकार के रूप में ख्याति प्राप्त कर चुके बदरीनाथ कपूर ने हिन्दी की स्वाभाविक प्रकृति के अनुरूप व्याकरण की रचना करके यह प्रमाणित किया है कि हिन्दी दुनिया की अन्य विकसित भाषाओं की तुलना में अधिक व्यवस्थित होने के साथ-साथ सरल और लचीली भी है। यह एक मात्र ऐसी भाषा है जिसके अधिकतर नियम अपवादविहीन हैं।
इस पुस्तक से गुज़रते हुए सहज ही यह एहसास होता है कि व्याकरण नियमों का पुलिन्‍दा-भर नहीं होता, वह भाषा-भाषियों की ज्ञान-गरिमा, बुद्धि-वैभव, रचना-कौशल, सन्‍दर्भबोध और सर्जनक्षमता का भी परिचायक होता है।
हिन्दी का यह सर्वथा नवीन व्याकरण सिर्फ़ छात्रों के लिए ही उपयोगी नहीं होगा, यह उन जिज्ञासुओं को भी राह दिखाएगा जो भाषा की आत्मा तक पहुँचना चाहते हैं। Hamari bhasha ki sabse badi vidambna ye hai ki ismen bhasha ko nirmit aur viksit karnevale deshaj tattvon ki ghor upeksha ki jati hai. Rachnatmak sahitya ka ek hissa bhale hi aisa nahin ho, lekin shesh lekhan par to angrezi bhasha ka prbhav saaf dikhlai padta hai. Kahan aur shaili hi nahin, bhasha ke svrup ka gyan karanevala hamara vyakran bhi angrezi bhasha ke vyakarnik dhanche se aavashyakta se adhik jakda hua hai. Halanki, pichhle kuchh dashkon se hindi ki prkriti aur prvritti ke anurup vyakran prastut karne ke pryas hone lage hain. Lekhak ki is pustak ko isi pryas ke kram mein dekha jana chahiye. Bhashavid tatha koshkar ke rup mein khyati prapt kar chuke badrinath kapur ne hindi ki svabhavik prkriti ke anurup vyakran ki rachna karke ye prmanit kiya hai ki hindi duniya ki anya viksit bhashaon ki tulna mein adhik vyvasthit hone ke sath-sath saral aur lachili bhi hai. Ye ek matr aisi bhasha hai jiske adhiktar niyam apvadavihin hain.
Is pustak se guzarte hue sahaj hi ye ehsas hota hai ki vyakran niymon ka pulin‍da-bhar nahin hota, vah bhasha-bhashiyon ki gyan-garima, buddhi-vaibhav, rachna-kaushal, san‍darbhbodh aur sarjnakshamta ka bhi parichayak hota hai.
Hindi ka ye sarvtha navin vyakran sirf chhatron ke liye hi upyogi nahin hoga, ye un jigyasuon ko bhi raah dikhayega jo bhasha ki aatma tak pahunchana chahte hain.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products