BackBack
-10%

Navjagran : Deshi Swachchhandatavad Aur Nai Kavyadhara

Krishnadatta Paliwal

Rs. 595.00 Rs. 535.50

Vani Prakashan

मेरे लिए निबन्ध लिखना रचनाओं से वैचारिक संवाद स्थापित करना भर नहीं है, उनकी पाठात्मकता में पैठकर रचना-चिन्ताओं, रचना की समस्याओं का नये सिरे से सामना करना है। रचना-कर्म में प्रवेश करने, उनका भाष्य करने का अर्थ है, उन पर युग सन्दर्भो में नये सिरे से विचार करना, उनको खोल-खँगालकर... Read More

Description
मेरे लिए निबन्ध लिखना रचनाओं से वैचारिक संवाद स्थापित करना भर नहीं है, उनकी पाठात्मकता में पैठकर रचना-चिन्ताओं, रचना की समस्याओं का नये सिरे से सामना करना है। रचना-कर्म में प्रवेश करने, उनका भाष्य करने का अर्थ है, उन पर युग सन्दर्भो में नये सिरे से विचार करना, उनको खोल-खँगालकर समझना-समझाना। अर्थ के एकत्व से हटकर टेक्स्ट या पाठ की बहुलार्थकता, अर्थ-व्यंजकता पर ध्यान केन्द्रित करना मेरा पाठक स्वभाव रहा है। इन लेखों में समय, समाज-संस्कृति और राजनीति से संवाद-विवाद का स्वर प्रमुख है। नवजागरण देशी स्वच्छन्दतावाद के प्रकाश में रचना-कर्म की अन्तर्यात्रा करने का प्रयत्न संकल्प रूप में रहा है।