Look Inside
Nauka Doobi
Nauka Doobi
Nauka Doobi
Nauka Doobi

Nauka Doobi

Regular price Rs. 419
Sale price Rs. 419 Regular price Rs. 450
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Nauka Doobi

Nauka Doobi

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

भारत को आधुनिक समाज बनने के मार्ग पर आगे बढऩे की शक्ति प्रदान करनेवाले रवीन्द्रनाथ ने 'नौका डूबी' उपन्यास में व्यक्ति की मनोव्याकुलता के रहस्य उद्घाटित किए हैं। इसमें व्यक्ति के अन्तर्लोक और समाज की इच्छाओं-आस्थाओं के मध्य होनेवाली टकराहट से उत्पन्न त्रासद जीवन-दशाओं की अभिव्यक्ति हुई है। कमला, रमेश, हेमनलिनी और नलिनाक्ष तेज़ी से तथा अकस्मात् आकार लेती घटनाओं के जाल में निरन्तर उलझते रहते हैं। 'गोरा' की रचना के पूर्व रवीन्द्रनाथ भारत के समाज का जो रूप देख रहे थे और व्यक्तियों की चिन्तन-प्रणाली में जिस परिवर्तन की आहट सुन रहे थे, वही इस कृति में है। 'नौका डूबी' को उसमें निहित विशिष्ट सांस्कृतिक और सामाजिक प्रयोगों को जाने बिना अच्छी तरह नहीं समझा जा सकता। ध्यान यह भी रखना होगा कि रवीन्द्रनाथ ठाकुर भारतीय साहित्य की अवधारणा के पहले-पहले पक्षधरों में से थे; अत: उन्होंने अपनी रचनाओं में समग्र समाज के भीतरी व्यवहारों को भरपूर जगह दी है। जो पाठक यथास्थान प्रस्तुत टिप्पणियों पर ध्यान देंगे, उन्हें पता चल जाएगा कि 'नौका डूबी' के अनुवाद में इस सत्य को सामने लाने का प्रयास किया गया है। प्रामाणिकता और मूल की यथासाध्य रक्षा इस अनुवाद-कार्य का लक्ष्य रहा है। Bharat ko aadhunik samaj banne ke marg par aage badhne ki shakti prdan karnevale ravindrnath ne nauka dubi upanyas mein vyakti ki manovyakulta ke rahasya udghatit kiye hain. Ismen vyakti ke antarlok aur samaj ki ichchhaon-asthaon ke madhya honevali takrahat se utpann trasad jivan-dashaon ki abhivyakti hui hai. Kamla, ramesh, hemanalini aur nalinaksh tezi se tatha akasmat aakar leti ghatnaon ke jaal mein nirantar ulajhte rahte hain. Gora ki rachna ke purv ravindrnath bharat ke samaj ka jo rup dekh rahe the aur vyaktiyon ki chintan-prnali mein jis parivartan ki aahat sun rahe the, vahi is kriti mein hai. Nauka dubi ko usmen nihit vishisht sanskritik aur samajik pryogon ko jane bina achchhi tarah nahin samjha ja sakta. Dhyan ye bhi rakhna hoga ki ravindrnath thakur bhartiy sahitya ki avdharna ke pahle-pahle pakshadhron mein se the; at: unhonne apni rachnaon mein samagr samaj ke bhitri vyavharon ko bharpur jagah di hai. Jo pathak yathasthan prastut tippaniyon par dhyan denge, unhen pata chal jayega ki nauka dubi ke anuvad mein is satya ko samne lane ka pryas kiya gaya hai. Pramanikta aur mul ki yathasadhya raksha is anuvad-karya ka lakshya raha hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products