BackBack
-11%

Nari Swasthya Aur Saundarya

Dr. Yatish Agarwal

Rs. 500 Rs. 445

जीवन में सुख और ख़ुशियों के रंग भरने के लिए अपनी देह और मन के बारे में जानना हर स्त्री के लिए ज़रूरी है। इसी से वह अपने भीतर के रचना-संसार, उसकी बनावट और व्यवहार को ठीक से समझ सकती है और सामान्य–असामान्य की पहचान कर सकती है। अत्यन्त सरल... Read More

Description

जीवन में सुख और ख़ुशियों के रंग भरने के लिए अपनी देह और मन के बारे में जानना हर स्त्री के लिए ज़रूरी है। इसी से वह अपने भीतर के रचना-संसार, उसकी बनावट और व्यवहार को ठीक से समझ सकती है और सामान्य–असामान्य की पहचान कर सकती है। अत्यन्त सरल और दिलचस्प शैली में रची गई यह पुस्तक नारी शरीर की दुनिया, मासिक धर्म और उससे जुड़े विकारों, जनन अंगों के रोगों, सन्तान की चाह पूरी करने के नूतन उपायों, अनचाहे गर्भ से बचे रहने के तरीक़ों, गर्भाशय और स्तन के कैंसरों, विविध जाँच–परीक्षणों, रूप–सौन्दर्य आदि पर प्रामाणिक व्यावहारिक जानकारी का ख़ज़ाना है। इन विषयों पर आपके हर सवाल का नारी स्वास्थ्य और सौन्दर्य में समाधान प्रस्तुत है— नारी, स्त्री, अम्बा, वामा शब्द कैसे बने?; किशोरावस्था, यौवन और जीवन के अलग–अलग चरणों में शरीर के भीतर क्या–क्या परिवर्तन आते हैं?; मासिक धर्म के दिनों में अपनी देखभाल कैसे करें?; गर्भाशय की रसौली, बच्चेदानी के नीचे सरकने, एंडोमेट्रियोसिस, यू.टी.आई. जैसे रोगों का क्या इलाज है?; स्तन में हुई गिलटी का क्या समाधान है?; काम–क्रीड़ा में कष्ट होने पर निजात के क्या तरीक़े हैं?; मासिक धर्म में दर्द, अधिक ख़़ून जाने पर क्या करें?; योनिस्राव के क्या–क्या कारण हैं और उनका इलाज क्या है?; गर्भ–निरोध के लिए कौन–सा साधन उत्तम है?; सन्तान न होने के क्या कारण हैं और इनका क्या इलाज है?; सुन्दर–सलोना रूप पाने के क्या–क्या उपाय हैं?; बालों और त्वचा की देखभाल कैसे करनी चाहिए?; और, और भी बहुत कुछ…। न सिर्फ़ स्त्रियों के लिए, बल्कि पुरुषों के लिए भी एक पठनीय पुस्तक। Jivan mein sukh aur khushiyon ke rang bharne ke liye apni deh aur man ke bare mein janna har stri ke liye zaruri hai. Isi se vah apne bhitar ke rachna-sansar, uski banavat aur vyavhar ko thik se samajh sakti hai aur samanya–asamanya ki pahchan kar sakti hai. Atyant saral aur dilchasp shaili mein rachi gai ye pustak nari sharir ki duniya, masik dharm aur usse jude vikaron, janan angon ke rogon, santan ki chah puri karne ke nutan upayon, anchahe garbh se bache rahne ke tariqon, garbhashay aur stan ke kainsron, vividh janch–parikshnon, rup–saundarya aadi par pramanik vyavharik jankari ka khazana hai. In vishyon par aapke har saval ka nari svasthya aur saundarya mein samadhan prastut hai— nari, stri, amba, vama shabd kaise bane?; kishoravastha, yauvan aur jivan ke alag–alag charnon mein sharir ke bhitar kya–kya parivartan aate hain?; masik dharm ke dinon mein apni dekhbhal kaise karen?; garbhashay ki rasauli, bachchedani ke niche sarakne, endometriyosis, yu. Ti. Aai. Jaise rogon ka kya ilaj hai?; stan mein hui gilti ka kya samadhan hai?; kam–krida mein kasht hone par nijat ke kya tariqe hain?; masik dharm mein dard, adhik khun jane par kya karen?; yonisrav ke kya–kya karan hain aur unka ilaj kya hai?; garbh–nirodh ke liye kaun–sa sadhan uttam hai?; santan na hone ke kya karan hain aur inka kya ilaj hai?; sundar–salona rup pane ke kya–kya upay hain?; balon aur tvcha ki dekhbhal kaise karni chahiye?; aur, aur bhi bahut kuchh…. Na sirf striyon ke liye, balki purushon ke liye bhi ek pathniy pustak.