BackBack

Nari Shareer Ke Rahashya

Yatish Agarwal, Rekha Agarwal

Rs. 75 – Rs. 125

‘नारी शरीर के रहस्य’ सरल और दिलचस्प शैली में रची गई अनूठी पुस्तक है। इसमें नारी शरीर के भीतर छुपी विराट दुनिया, उसके सातों सुरों और सम्पूर्ण रागों की सुरुचिपूर्ण प्रामाणिक व्याख्या है। किशोर अवस्था से प्रौढ़ा होने तक नारी के शरीर में क्या-क्या परिवर्तन आते हैं—तरुणाई में तन-मन कैसे... Read More

HardboundHardbound
PaperbackPaperback
Rs. 125
Description

‘नारी शरीर के रहस्य’ सरल और दिलचस्प शैली में रची गई अनूठी पुस्तक है। इसमें नारी शरीर के भीतर छुपी विराट दुनिया, उसके सातों सुरों और सम्पूर्ण रागों की सुरुचिपूर्ण प्रामाणिक व्याख्या है। किशोर अवस्था से प्रौढ़ा होने तक नारी के शरीर में क्या-क्या परिवर्तन आते हैं—तरुणाई में तन-मन कैसे सयानेपन की ओर बढ़ एक नया सफ़र शुरू करते हैं? कैसे और कब मासिक-धर्म की शुरुआत होती है? हर चन्द्र मास के साथ स्‍त्री की देह की आन्तरिक लय-ताल में क्या-क्या परिवर्तन आते हैं, कैसे वह अपने भीतर नए जीवन का बीज रोपने की तैयारी करती है, और कैसे रजोनिवृत्ति का समय आने पर वह मासिक चक्र के बन्धन से मुक्त हो जाती है, इसका साफ़-सुथरा वर्णन हमें इस पुस्तक में मिलता है।
जानकारियाँ ऐसी कि ये न सिर्फ़ हर स्त्री के लिए उपयोगी हैं, बल्कि पुरुषों के लिए भी बोधकर हैं, इससे वह अपनी संगिनी के तन-मन की भाषा पढ़ सकता है। ‘nari sharir ke rahasya’ saral aur dilchasp shaili mein rachi gai anuthi pustak hai. Ismen nari sharir ke bhitar chhupi virat duniya, uske saton suron aur sampurn ragon ki suruchipurn pramanik vyakhya hai. Kishor avastha se praudha hone tak nari ke sharir mein kya-kya parivartan aate hain—tarunai mein tan-man kaise sayanepan ki or badh ek naya safar shuru karte hain? kaise aur kab masik-dharm ki shuruat hoti hai? har chandr maas ke saath ‍tri ki deh ki aantrik lay-tal mein kya-kya parivartan aate hain, kaise vah apne bhitar ne jivan ka bij ropne ki taiyari karti hai, aur kaise rajonivritti ka samay aane par vah masik chakr ke bandhan se mukt ho jati hai, iska saf-suthra varnan hamein is pustak mein milta hai. Jankariyan aisi ki ye na sirf har stri ke liye upyogi hain, balki purushon ke liye bhi bodhkar hain, isse vah apni sangini ke tan-man ki bhasha padh sakta hai.

Additional Information
Book Type

Hardbound, Paperback

Publisher Rajkamal Prakashan
Language Hindi
ISBN 978-8126711857
Pages 63p
Publishing Year

Nari Shareer Ke Rahashya

‘नारी शरीर के रहस्य’ सरल और दिलचस्प शैली में रची गई अनूठी पुस्तक है। इसमें नारी शरीर के भीतर छुपी विराट दुनिया, उसके सातों सुरों और सम्पूर्ण रागों की सुरुचिपूर्ण प्रामाणिक व्याख्या है। किशोर अवस्था से प्रौढ़ा होने तक नारी के शरीर में क्या-क्या परिवर्तन आते हैं—तरुणाई में तन-मन कैसे सयानेपन की ओर बढ़ एक नया सफ़र शुरू करते हैं? कैसे और कब मासिक-धर्म की शुरुआत होती है? हर चन्द्र मास के साथ स्‍त्री की देह की आन्तरिक लय-ताल में क्या-क्या परिवर्तन आते हैं, कैसे वह अपने भीतर नए जीवन का बीज रोपने की तैयारी करती है, और कैसे रजोनिवृत्ति का समय आने पर वह मासिक चक्र के बन्धन से मुक्त हो जाती है, इसका साफ़-सुथरा वर्णन हमें इस पुस्तक में मिलता है।
जानकारियाँ ऐसी कि ये न सिर्फ़ हर स्त्री के लिए उपयोगी हैं, बल्कि पुरुषों के लिए भी बोधकर हैं, इससे वह अपनी संगिनी के तन-मन की भाषा पढ़ सकता है। ‘nari sharir ke rahasya’ saral aur dilchasp shaili mein rachi gai anuthi pustak hai. Ismen nari sharir ke bhitar chhupi virat duniya, uske saton suron aur sampurn ragon ki suruchipurn pramanik vyakhya hai. Kishor avastha se praudha hone tak nari ke sharir mein kya-kya parivartan aate hain—tarunai mein tan-man kaise sayanepan ki or badh ek naya safar shuru karte hain? kaise aur kab masik-dharm ki shuruat hoti hai? har chandr maas ke saath ‍tri ki deh ki aantrik lay-tal mein kya-kya parivartan aate hain, kaise vah apne bhitar ne jivan ka bij ropne ki taiyari karti hai, aur kaise rajonivritti ka samay aane par vah masik chakr ke bandhan se mukt ho jati hai, iska saf-suthra varnan hamein is pustak mein milta hai. Jankariyan aisi ki ye na sirf har stri ke liye upyogi hain, balki purushon ke liye bhi bodhkar hain, isse vah apni sangini ke tan-man ki bhasha padh sakta hai.