Look Inside
Nari Chetna Ke Aayam
Nari Chetna Ke Aayam
Nari Chetna Ke Aayam
Nari Chetna Ke Aayam

Nari Chetna Ke Aayam

Regular price Rs. 166
Sale price Rs. 166 Regular price Rs. 178
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Nari Chetna Ke Aayam

Nari Chetna Ke Aayam

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

प्रस्तुत पुस्तक में अपने अस्तित्व स्थापन के लिए सदियों से संघर्षरत नारी और उसकी चेतना के विविध रूपों का चित्रण है। समाज की एक इकाई के रूप में अपनी पहचान की निर्मिति के लिए नारी ने जिस अदम्य जिजीविषा एवं प्रबल इच्छा शक्ति का परिचय दिया, उसका यहाँ खुलकर विश्लेषण किया गया है। भारतीय समाज में परम्परागत नारी की छवि, उसका ऐतिहासिक स्वरूप तथा नारी चेतना को प्रतिबिम्बित करनेवाले हिन्दी साहित्य की सम्यक् मीमांसा की गई है। नारी ने धर्म, आस्था, परम्परा, मूल्य एवं व्यवस्था से यदि असन्तोष प्रकट किया है, तो इसके पीछे के निहित कारणों को प्रस्तुत पुस्तक के माध्यम से समझा जा सकता है। प्रस्तुत पुस्तक में नारी चेतना के संश्लिष्ट आयामों का विवेचन हुआ है, जो पूरी पुस्तक में बेबाक़ी से अभिव्यक्त हुआ है।
—प्रो. शैल पाण्डेय
यह पुस्तक उन सभी सुधी पाठकों के लिए एक नई सोच विकसित करने में सहायक हो सकती है, जो जीवन की बारीकियों को अपने जीवन की अनुभूतियों से समझना चाहते हैं। मेरा मानना है कि अनुभूति एवं तदनुभूति के बीच एक झीनी दीवार है, जिसे समझने के लिए लेखक या लेखिका को जीवन की बारीकियों की एवं मनोवैज्ञानिक समझ होना ज़रूरी है।
प्रस्तुत पुस्तक इसी दिशा में एक सार्थक प्रयास है।
—अजय प्रकाश Prastut pustak mein apne astitv sthapan ke liye sadiyon se sangharshrat nari aur uski chetna ke vividh rupon ka chitran hai. Samaj ki ek ikai ke rup mein apni pahchan ki nirmiti ke liye nari ne jis adamya jijivisha evan prbal ichchha shakti ka parichay diya, uska yahan khulkar vishleshan kiya gaya hai. Bhartiy samaj mein parampragat nari ki chhavi, uska aitihasik svrup tatha nari chetna ko pratibimbit karnevale hindi sahitya ki samyak mimansa ki gai hai. Nari ne dharm, aastha, parampra, mulya evan vyvastha se yadi asantosh prkat kiya hai, to iske pichhe ke nihit karnon ko prastut pustak ke madhyam se samjha ja sakta hai. Prastut pustak mein nari chetna ke sanshlisht aayamon ka vivechan hua hai, jo puri pustak mein bebaqi se abhivyakt hua hai. —pro. Shail pandey
Ye pustak un sabhi sudhi pathkon ke liye ek nai soch viksit karne mein sahayak ho sakti hai, jo jivan ki barikiyon ko apne jivan ki anubhutiyon se samajhna chahte hain. Mera manna hai ki anubhuti evan tadanubhuti ke bich ek jhini divar hai, jise samajhne ke liye lekhak ya lekhika ko jivan ki barikiyon ki evan manovaigyanik samajh hona zaruri hai.
Prastut pustak isi disha mein ek sarthak pryas hai.
—ajay prkash

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products