BackBack
-11%

Narak-Yatra

Gyan Chaturvedi

Rs. 495 Rs. 441

ज्ञान चतुर्वेदी का यह उपन्यास ‘नरक-यात्रा’ महान रूसी उपन्यासों की परंपरा में है, जो कहानी और इसके चरित्रों के हर संभव पक्ष तथा तनावों को अपने में समेटकर बढ़ा है। यह उपन्यास भारत के किसी भी बड़े सरकारी अस्पताल के किसी एक दिन मात्र की कथा कहता है। अस्पताल, जो... Read More

BlackBlack
Description

ज्ञान चतुर्वेदी का यह उपन्यास ‘नरक-यात्रा’ महान रूसी उपन्यासों की परंपरा में है, जो कहानी और इसके चरित्रों के हर संभव पक्ष तथा तनावों को अपने में समेटकर बढ़ा है। यह उपन्यास भारत के किसी भी बड़े सरकारी अस्पताल के किसी एक दिन मात्र की कथा कहता है। अस्पताल, जो नरक से कम नहीं, विशेष तौर पर गरीब आम आदमी के लिए।
लेखक हमें अस्पताल के इसी नरक की सतत यात्रा पर ले जाता है, जो अस्पताल के हर कोने में तो व्याप्त है ही, साथ ही इसमें कार्यरत लोगों की आत्मा में भी फैल गया है। ऑपरेशन थिएटर से अस्पताल के रसोईघर तक, वार्ड बॉय से सर्जन तक–हर चरित्र और स्थिति के कर्म-कुकर्म को लेखक ने निर्ममता से उजागर किया है। उसकी मीठी छुरी-सी पैनी जुबान और उछालकर मजा लेने की प्रवृत्ति इस निर्मम लेखन-कर्म को और भी महत्त्वपूर्ण बनाती है। किसी सुधारक अथवा क्रांतिकारी लेखक का लबादा ओढ़े बगैर ज्ञान चतुर्वेदी ने निर्मम, गलीज यथार्थ पर सर्जनात्मक टिप्पणी की है और खूब की है।
यह उपन्यास अद्भुत जीवन तथा उतने ही अद्भुत जीवन-चरित्रों की कथा को ऐसी भाषा में बयान करता है जो आम आदमी के मुहावरों और बोली से संपन्न है, जिसमें मजे लेकर बोली जानेवाली अदा और बाँध लेने की शक्ति है।
–स्वदेश दीपक Gyan chaturvedi ka ye upanyas ‘narak-yatra’ mahan rusi upanyason ki parampra mein hai, jo kahani aur iske charitron ke har sambhav paksh tatha tanavon ko apne mein sametkar badha hai. Ye upanyas bharat ke kisi bhi bade sarkari asptal ke kisi ek din matr ki katha kahta hai. Asptal, jo narak se kam nahin, vishesh taur par garib aam aadmi ke liye. Lekhak hamein asptal ke isi narak ki satat yatra par le jata hai, jo asptal ke har kone mein to vyapt hai hi, saath hi ismen karyrat logon ki aatma mein bhi phail gaya hai. Aupreshan thiyetar se asptal ke rasoighar tak, vard bauy se sarjan tak–har charitr aur sthiti ke karm-kukarm ko lekhak ne nirmamta se ujagar kiya hai. Uski mithi chhuri-si paini juban aur uchhalkar maja lene ki prvritti is nirmam lekhan-karm ko aur bhi mahattvpurn banati hai. Kisi sudharak athva krantikari lekhak ka labada odhe bagair gyan chaturvedi ne nirmam, galij yatharth par sarjnatmak tippni ki hai aur khub ki hai.
Ye upanyas adbhut jivan tatha utne hi adbhut jivan-charitron ki katha ko aisi bhasha mein bayan karta hai jo aam aadmi ke muhavron aur boli se sampann hai, jismen maje lekar boli janevali ada aur bandh lene ki shakti hai.
–svdesh dipak