Look Inside
Narak Masiha
Narak Masiha
Narak Masiha
Narak Masiha

Narak Masiha

Regular price Rs. 605
Sale price Rs. 605 Regular price Rs. 650
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Narak Masiha

Narak Masiha

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

आधुनिक समाज के हाशियों की उपेक्षित उदासियों का अन्वेषण करनेवाले भगवानदास मोरवाल ने इस उपन्यास में मुख्यधारा की ख़बर ली है। वह मुख्यधारा जो क़‍िस्म-क़‍िस्म की अमानवीय और असामाजिक गतिविधियों से उस ढाँचे का निर्माण करती है जिसे हम समाज के रूप में देखते-जानते हैं।
उपन्यास का विषय ग़ैर-सरकारी संगठनों की भीतरी दुनिया है, जहाँ देश के लोगों के दुःख दुकानों पर बिक्री के लिए रखी चीज़ों की तरह बेचे-ख़रीदे जाते हैं, और सामाजिक-आर्थिक विकास की गम्‍भीर भंगिमाएँ पलक झपकते बैंक बैलेंस में बदल जाती हैं।
यह उपन्यास बताता है कि आज़ादी के बाद वैचारिक-सामाजिक प्रतिबद्धताओं के सत्त्व का क्षरण कितनी तेज़ी से हुआ है, और आज वह कितने समजघाती रूप में हमारे बीच सक्रिय है। कल जो लोग समाज के लिए अपना सबकुछ न्योछावर करने की उदात्तता से दीप्त थे, कब और कैसे पूरे समाज, उसके पवित्र विचारों, विश्वासों, प्रतीकों और अवधारणाओं को अपने हित के लिए इस्तेमाल करने लगे और वह भी इतने निर्लज्ज आत्मविश्वास के साथ, इस पहेली को खोलना शायद आज के सबसे ज़रूरी कामों में से एक है। यह उपन्यास अपने विवरणों से हमें इस ज़रूरत को और गहराई से महसूस कराता है।
उपन्यास के पात्र अपने स्वार्थों की नग्नता में जिस तरह यहाँ प्रकट हुए हैं, वह डरावना है; पैसा कमाने के तर्क को वे जहाँ तक ले जा चुके हैं, वह एक ख़ौफ़नाक जगह है—सचमुच का नरक; और जिस भविष्य का संकेत यहाँ से मिलता है, वह वीभत्स है। Aadhunik samaj ke hashiyon ki upekshit udasiyon ka anveshan karnevale bhagvandas morval ne is upanyas mein mukhydhara ki khabar li hai. Vah mukhydhara jo qa‍ism-qa‍ism ki amanviy aur asamajik gatividhiyon se us dhanche ka nirman karti hai jise hum samaj ke rup mein dekhte-jante hain. Upanyas ka vishay gair-sarkari sangathnon ki bhitri duniya hai, jahan desh ke logon ke duःkha dukanon par bikri ke liye rakhi chizon ki tarah beche-kharide jate hain, aur samajik-arthik vikas ki gam‍bhir bhangimayen palak jhapakte baink bailens mein badal jati hain.
Ye upanyas batata hai ki aazadi ke baad vaicharik-samajik pratibaddhtaon ke sattv ka kshran kitni tezi se hua hai, aur aaj vah kitne samajghati rup mein hamare bich sakriy hai. Kal jo log samaj ke liye apna sabkuchh nyochhavar karne ki udattta se dipt the, kab aur kaise pure samaj, uske pavitr vicharon, vishvason, prtikon aur avdharnaon ko apne hit ke liye istemal karne lage aur vah bhi itne nirlajj aatmvishvas ke saath, is paheli ko kholna shayad aaj ke sabse zaruri kamon mein se ek hai. Ye upanyas apne vivarnon se hamein is zarurat ko aur gahrai se mahsus karata hai.
Upanyas ke patr apne svarthon ki nagnta mein jis tarah yahan prkat hue hain, vah daravna hai; paisa kamane ke tark ko ve jahan tak le ja chuke hain, vah ek khaufnak jagah hai—sachmuch ka narak; aur jis bhavishya ka sanket yahan se milta hai, vah vibhats hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products