Look Inside
Nar Naari
Nar Naari
Nar Naari
Nar Naari

Nar Naari

Regular price Rs. 163
Sale price Rs. 163 Regular price Rs. 175
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Nar Naari

Nar Naari

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

यह उपन्यास कृष्ण बलदेव वैद के सबसे चर्चित और बहस तलब रचनाओं में से एक है। उन्होंने हिन्दी की मुख्यधारा से अकसर दूर ही रहते हुए भाषा को ऐसी कृतियाँ दी हैं जो शिल्प के हमारे साथ सोचने के तरीक़ों को भी विचलित करती रही हैं।
‘नर नारी’ उपन्यास स्त्री की समूची सामाजिक, पारिवारिक और दैहिक इयत्ता को केन्द्र में रखता है, और उनसे जुड़े प्रश्नों पर एक संकुल भावभूमि के परिप्रेक्ष्य में विचार करता है। पितृसत्तात्मक सामाजिक तंत्र में सम्पत्ति के उत्तराधिकार, विवाह-संस्था की वैधता, यौन- शुचिता और इससे जुड़े कई विधि-निषेधों पर अत्यन्त ज़ोर दिया जाता है। पति-पत्नी, बहन-भाई, माँ-बेटे आदि सभी सम्बन्ध अन्तत: इन्हीं सब के सन्दर्भ में परिभाषित होते दिखते हैं।
इनके बीच ही मौजूद है स्त्री-पुरुष का आदिम रिश्ता जो एक दूसरी की उपस्थिति को एक प्राकृतिक और समान भूमि पर परिभाषित करता है। बाँझ माँजी, रसीला, सीमा और मीनू आदि इस उपन्यास के ऐसे स्त्री पात्र हैं जिनका जीवन और दृष्टिकोण इन तमाम प्रश्नों पर अलग-अलग ढंग से प्रकाश डालता है।
संवादों के बीच से ही दृश्यों को साकार करते हुए उपन्यास को पढ़ना जैसे अपने ही मन की भीतरी तहों की यात्रा करने जैसा है। लेखक कहीं पर न पात्रों का बाहरी विवरण देता है, न परिस्थितियों का, फिर भी सब जैसे पाठक की आँखों के सामने साकार होता चलता है। एक पठनीय और विचारणीय उपन्यास। Ye upanyas krishn baldev vaid ke sabse charchit aur bahas talab rachnaon mein se ek hai. Unhonne hindi ki mukhydhara se aksar dur hi rahte hue bhasha ko aisi kritiyan di hain jo shilp ke hamare saath sochne ke tariqon ko bhi vichlit karti rahi hain. ‘nar nari’ upanyas stri ki samuchi samajik, parivarik aur daihik iyatta ko kendr mein rakhta hai, aur unse jude prashnon par ek sankul bhavbhumi ke pariprekshya mein vichar karta hai. Pitrisattatmak samajik tantr mein sampatti ke uttradhikar, vivah-sanstha ki vaidhta, yaun- shuchita aur isse jude kai vidhi-nishedhon par atyant zor diya jata hai. Pati-patni, bahan-bhai, man-bete aadi sabhi sambandh antat: inhin sab ke sandarbh mein paribhashit hote dikhte hain.
Inke bich hi maujud hai stri-purush ka aadim rishta jo ek dusri ki upasthiti ko ek prakritik aur saman bhumi par paribhashit karta hai. Banjh manji, rasila, sima aur minu aadi is upanyas ke aise stri patr hain jinka jivan aur drishtikon in tamam prashnon par alag-alag dhang se prkash dalta hai.
Sanvadon ke bich se hi drishyon ko sakar karte hue upanyas ko padhna jaise apne hi man ki bhitri tahon ki yatra karne jaisa hai. Lekhak kahin par na patron ka bahri vivran deta hai, na paristhitiyon ka, phir bhi sab jaise pathak ki aankhon ke samne sakar hota chalta hai. Ek pathniy aur vicharniy upanyas.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products